AIIMS की स्टडी में दावा, क्रॉनिक इन्सोम्निया के मरीजों के लिए बहुत फायदेमंद है ये योग

शहरी लाइफस्टाइल में कई लोग डिप्रेशन से ग्रसित है। ऐसे में उन्हें नींद न आने की समस्या हो सकती है।

सम्‍पादकीय विभाग
योगाWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Jun 20, 2022Updated at: Jun 20, 2022
 AIIMS की स्टडी में दावा, क्रॉनिक इन्सोम्निया के मरीजों के लिए बहुत फायदेमंद है ये योग

पूरी दुनिया 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022 (International Yoga Day 2022)  मनाने वाली है। भारत में योग एक परंपरा रही है। पुराने जमाने में योग का प्रयोग चिकित्सा पद्धति के रूप में किया जाता था, अब मेडिकल साइंस भी योग का लोहा मान चुका है। डॉक्टर, हेल्थ एक्सपर्ट भी कई बीमारियों का इलाज योग के जरिए कर रहे हैं। योग निद्रा पर दिल्‍ली स्थित ऑल इंडिया इंस्‍टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस द्वारा एक स्टडी की गई है। स्टडी में सामने आया है योग निद्रा, अनिद्रा यानी क्रॉनिक इन्‍सोम्निया (Chronic Insomnia) से ग्रसित मरीजों के लिए काफी फायदेमंद है। क्रॉनिक इन्‍सोम्निया से ग्रसित 60 मरीजों पर 4 साल तक चली स्टडी में यह बात सामने आई है कि योग निद्रा इस बीमारी को ठीक करने में मददगार है।

द नेशनल मेडिकल जर्नल ऑफ इंडिया में प्रकाशित इस रिसर्च का लेखन डॉ. करुणा दत्‍ता और एम्स के सेंटर ऑफ एक्‍सीलेंस की प्रोफेसर डॉ. मंजरी त्रिपाठी ने किया है। डॉ. मंजरी त्रिपाठी का कहना है, 'क्रॉनिक इन्‍सोम्निया जैसी बीमारी को ठीक करने के लिए योग निद्रा को काफी सहायक माना गया है। भारत में प्राचीन काल में साधु-संतों द्वारा बेहतर नींद के लिए योग निद्रा आसन का प्रयोग किया जाता था। हालांकि इस पर अब तक कोई स्टडी नहीं की गई थी, लेकिन एम्स ने इस पर 4 वर्षों तक अध्ययन किया है। यह अध्‍ययन कम परीक्षण इस बात की पुष्टि करता है कि योग निद्रा क्रॉनिक इन्‍सोम्निया से परेशान लोगों को राहत मिल सकता है।'

डॉ. मंजरी का कहना है कि अनिद्रा की बीमारी से परेशान 60 मरीजों पर दिल्ली स्थित एम्स द्वारा 2012 से लेकर 2016 तक अध्ययन किया गया। इस दौरान मरीजों की स्लीपिंग स्टडी की गई। इसके बाद इन्ही में से 30 मरीजों का परंपरागत इलाज कॉग्निटिव बिहेवियरल थेरेपी फॉर इन्‍सोम्निया और योग निद्रा की ट्रेनिंग दी गई। जबकि अन्य 30 मरीजों को सिर्फ कॉग्निटिव बिहेवियरल थेरेपी फॉर इन्‍सोम्निया दिया गया। ट्रेनिंग के बाद सभी मरीजों के दिमाग में योग निद्रा किस तरह के प्रभाव डाल रहा है, उनके सांस लेने में क्या बदलाव हुए, इन सभी चीजों की जांच की गई। डॉक्टर ने कहा कि जिन लोगों को परंपरागत इलाज के साथ योग निद्रा की ट्रेनिंग दी गई उनकी नींद अन्य 30 की तुलना में बेहतर पाई गई।

इसे भी पढ़ेंः क्या शाम को योग करना चाहिए? एक्सपर्ट से जानें इसके फायदे और सावधानियां

क्या है क्रॉनिक इन्‍सोम्निया या अनिद्रा की बीमारी? (What is Chronic Insomnia?)

डॉ. मंजरी का कहना है कि अगर कोई इंसान सप्ताह में 3 दिन या उससे ज्यादा ठीक तरह से सो नहीं पाता है और यह लक्षण 3 महीने से ज्यादा रहते हैं यह क्रॉनिक इन्‍सोम्निया या अनिद्रा कहलाती है। अनिद्रा से परेशान लोग अक्सर बेहतर नींद के लिए डॉक्टर से इलाज करवाते हैं और डाई डोज दवाएं लेते हैं। डॉ. मंजरी का कहना है कि अनिद्रा से परेशान इंसान को दवाओं की लत लग जाती है। ये दवाएं शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकती हैं। दवाओं के दुष्प्रभाव को देखते हुए ही लंबे समय से ऐसी चीज को खोजा जा रहा था, जो बिना दवाओं के ही अच्छी नींद लाने में सहायक हो। साथ ही इसके दुष्परिणाम भी शून्य हों।

क्रॉनिक इन्‍सोम्निया और अनिद्रा के लक्षण (Symptoms of Chronic Insomnia)

डिप्रेशन, एंग्जाइटी और तनाव महसूस होना दिन के समय थकान महसूस होना, हमेशा नींद आनाबार-बार मूड बदलना रात में देर तक जगना या नींद का बार-बार टूटनासुबह उठने के बाद फ्रेश न फील करना सिर में दर्द, बदन में दर्द एकाग्रता में परेशानी महसूस होना

इसे भी पढ़ेंः सोने से पहले सिर्फ 15 मिनट करें शवासन, आएगी बढ़िया नींद, स्ट्रेस भी होगा कम

क्या है योग निद्रा? (What is yoga nidra)

योग निद्रा पूरी तरह से नींद नहीं बल्कि योग की एक प्रक्रिया है। आसान भाषा में इसे अध्यात्म की नींद भी कहा जा सकता है। योग निद्रा में जागने और सोने की बीच एक ऐसी अवस्था होती है जब आप अपने पूरे शरीर और दिमाग को आराम पहुंचाते हैं और नई ऊर्जा का संचार करते हैं। शुरुआती चरण में योग निद्रा करते हुए कई लोग कुछ देर के लिए सो भी जाते हैं, लेकिन धीरे-धीरे अभ्यास करते हुए उन्हें इसे करने का सही तरीका पता चल जाता है।

योग निद्रा के लाभ (Benefits of yoga nidra)

शहरी वातावरण में प्रदूषण और लाइफस्टाइल की वजह से ज्यादातर लोग डिप्रेशन, एंजाइटी समेत कई तरह की बीमारियों की चपेट में हैं। इन बीमारियों और तनाव के राहत पाने के लिए योग निद्रा कारगर उपाय मानी जाती है। आइए जानते हैं इसके फायदे..

  • तन, मन और दिमाग को आराम मिलता है।
  • योग निद्रा को प्रतिदिन करने से शरीर का तापमान सामान्य होता है।
  • यह एकाग्रता बढ़ाने में सहायक है। इससे दिमाग की थकान दूर होती है।

 
Disclaimer