जोर-जोर से सांस लेने की आदत हो सकती है अस्थमा का संकेत, जानें इसके क्या है कारण और लक्षण

यह सांस संबंधी रोगों में सबसे अधिक कष्टदायी है। अस्‍थमा का अटैक होने पर खांसी, नाक बजना, छाती का कड़ा होना, रात और सुबह में सांस लेने में तकलीफ आदि जै

Vishal Singh
Written by: Vishal SinghUpdated at: May 26, 2020 17:45 IST
जोर-जोर से सांस लेने की आदत हो सकती है अस्थमा का संकेत, जानें इसके क्या है कारण और लक्षण

अस्थमा काफी पुरानी बीमारी है, जो हमारी श्वास नलिकाओं को प्रभावित करती हैं। अस्थमा होने पर किसी को भी सांस लेने में मुश्किल हो सकती है। अस्थमा सांस लेने वाले मार्ग, या ब्रोन्कियल ट्यूबों की अंदर की दीवारों का कारण बनता है और सूजन हो जाती है। अस्थमा के दौरे के दौरान, वायुमार्ग सूज जाएगा, उनके आस-पास की मांसपेशियां कड़ी हो जाएंगी, और हवा के लिए फेफड़ों से अंदर और बाहर जाना मुश्किल हो जाता है। अस्थमा से अपना बचाव किया जा सकता है लेकिन उसके लिए जरूरी है आपको पूरी जानकारी होना। आइए इस लेख के जरिए जानते हैं कि अस्थमा क्या होता है और इसके पीछे क्या कारण होते हैं। 

a

अस्थमा क्या है? (What Is Asthma In Hindi)

अस्थमा एक प्रकार से वायुमार्ग को प्रभावित करने वाली गंभीर स्थिति है। इसमें फेफड़ों के अंदर सूजन और संकुचन शामिल है, जो वायु आपूर्ति को बाधित करता है। कुछ मामलों में, वायुमार्ग में सूजन ऑक्सीजन को फेफड़ों तक पहुंचने से रोक सकती है। इसका मतलब है कि ऑक्सीजन रक्तप्रवाह में प्रवेश नहीं कर सकता है या महत्वपूर्ण अंगों तक नहीं पहुंच सकता है। इसलिए, गंभीर लक्षणों के दौरन अस्थमा से पीड़ित लोगों को तुरंत इलाज की जरूरत होती है। 

अस्थमा के कारण (Causes Of Asthma In Hindi) 

प्रेगनेंसी 

एक अध्ययन के अनुसार, गर्भावस्था के दौरान धूम्रपान करने से जीवन में बाद में अस्थमा विकसित होने वाले भ्रूण का खतरा बढ़ जाता है। कुछ महिलाओं को भी गर्भवती होने पर अस्थमा के लक्षणों में बढ़ोत्तरी होती है। 

इसे भी पढ़ें: अस्‍थमा से सांस लेने में होने वाली परेशानियां

धूम्रपान

धूम्रपान हमारे स्वास्थ्य पर काफी बुरा असर डालता है। वैसे तो धूम्रपान के बिना भी अस्थमा, फेफड़ों को नुकसान पहुंचा सकता है। यह तंबाकू से संबंधित फेफड़ों की स्थिति, जैसे क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज के विकास के खतरे को बढ़ा सकता है। 

मोटापा 

2014 के एक लेख में बताया गया था कि मोटापे से ग्रस्त लोगों में अस्थमा का स्तर काफी हद तक ज्यादा होता है। एक अध्ययन में, मोटापे से ग्रस्त बच्चों का वजन कम हो गया था, उनके अस्थमा के लक्षणों में भी सुधार देखा गया।

एलर्जी

एलर्जी तब विकसित होती है जब किसी व्यक्ति का शरीर किसी नुकसानदायक पदार्थ के प्रति संवेदनशील हो जाता है। एक बार संवेदीकरण हो जाने के बाद, व्यक्ति को हर बार पदार्थ के संपर्क में आने से एलर्जी होती है। साल 2013 के एक अध्ययन में पाया गया कि 60-80 फीसदी बच्चे और अस्थमा से पीड़ित वयस्क कम से कम एक एलर्जेन के संवेदनशील होते हैं।

इसे भी पढ़ें: सांस लेने में तकलीफ या लगातार खांसी हो सकते हैं इन 5 रोगों के शुरूआती लक्षण, बरतें सावधानी

लक्षण (Symptoms)

  • सांस लेने में परेशानी होना। 
  • छाती का सिकुडना। 
  • बार-बार सांस फूलने की समस्या। 
  • अचानक बोलते समय घबराहत होना। 
  • धूल-मिट्टी के कारण सांस रुकना। 
  • जबरदस्ती सांस लेने की कोशिश करना।
  • फेफड़ों में कफ।
  • शरीर के अंदर खिंचाव।
  • रात या सुबह बहुत तेज होना।
  • ठंडी जगहों पर या व्यायाम करने से या भीषण गर्मी में तेजी।

इन लक्षणों को देखते के साथ ही आप डॉक्टर से संपर्क जरूर करें। 

 

 Read More Articles On Other Diseases in Hindi

 

Disclaimer