Type 2 diabetes: 48 ग्राम डार्क चॉकलेट खाकर कम करें टाइप 2 डायबिटीज का खतरा, जानें कैसे फायदेमंद है चॉकलेट

टाइप 2 डायबिटीज एक ऐसी स्थिति है, जो किसी व्यक्ति के अपने ब्लड ग्लूकोज (शुगर) स्तर को नियंत्रित करने की क्षमता को प्रभावित करती है। अगर इस स्थिति का उपचार न कराया जाए तो नर्व के क्षतिग्रस्त होने और किडनी समस्याएं सहित कई दिक्कते पैदा हो सकती हैं।<

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Jul 29, 2019Updated at: Jul 29, 2019
Type 2 diabetes: 48 ग्राम डार्क चॉकलेट खाकर कम करें टाइप 2 डायबिटीज का खतरा, जानें कैसे फायदेमंद है चॉकलेट

टाइप 2 डायबिटीज एक ऐसी स्थिति है, जो किसी व्यक्ति के अपने ब्लड ग्लूकोज (शुगर) स्तर को नियंत्रित करने की क्षमता को प्रभावित करती है। जब शरीर सही से काम करने के लिए पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन करने में विफल हो जाता है, तो ब्लड शुगर में खतरनाक वृद्धि होती है। अगर इस स्थिति का उपचार न कराया जाए तो नर्व के क्षतिग्रस्त होने और किडनी समस्याएं सहित कई दिक्कते पैदा हो सकती हैं। इतना ही नहीं व्यक्ति को दिल का दौरा भी पड़ सकता है। लेकिन जीवनशैली में कुछ बदलाव इसे रोकने में मदद कर सकते हैं और ब्लड ग्लूकोज के उच्च स्तर को नियंत्रित कर सकते हैं।

जब बात ब्लड ग्लूकोज स्तर की आती है तो जीवनशैली का एक कारक है आपकी डाइट। अगर आपको टाइप 2 डायबिटीज है तो ऐसा कुछ नहीं है, जिसे आर खा नहीं सकते लेकिन कुछ ऐसे फूड हैं, जिनका सेवन सीमित कर दिया जाना चाहिए। विशेषज्ञ कहते हैं कि फल, सब्जियां और पास्ता जैसे स्टार्ट युक्त फूड सहित ऐसे बहुत से फूड हैं, जिन्हें खाने की सलाह दी जाती है।  लेकिन शुगर, फैट और नमक का सेवन आपको कम से कम कर देना चाहिए।

विशेषज्ञों के मुताबिक, ऐसे बहुत से फूड हैं, जिनमें ब्लड शुगर को रोकने संबंधी गुण पाए जाते हैं और एक ऐसा ही चौंका देने वाला मीठा खाद्य पदार्थ, जो आपके ब्लड ग्लूकोज स्तर को नियंत्रित रखने में मदद करता है।

इसे भी पढ़ेंः डायबिटीज और वजन घटाने में फायदेमंद है आम के पत्ते से बनी शराब, शरीर को नहीं देती नुकसान

विशेषज्ञों का मुताबिक, डार्क चॉकलेट ब्लड ग्लूकोज स्तर के लिए फायदेमंद साबित हो चुकी है।

2008 में प्रकाशित एक छह महीने के अध्ययन में नियमित डार्क चॉकलेट के सेवन और ब्लड ग्लूकोज स्तर के बीच संबंध को देखा गया। शोधकर्ताओं ने पाया कि रोजाना 48 ग्राम 70 फीसदी डार्क चॉकलेट खाने से तेज ग्लूकोज स्तर को कम करने और इंसुलिन प्रतिरोध घटाने में भी मदद मिलती है। 

इसे भी पढ़ेंः Prediabetes: इन 5 आसान तरीकों से दूर करें डायबिटीज का खतरा, स्ट्रोक का खतरा होगा कम

विशेषज्ञों के मुताबिक, ऐसा माना जाता है कि डार्क चॉकलेट ब्लड ग्लूकोज स्तर के लिए फायदेमंद है क्योंकि इसमें काकओ पाया जाता है। काकाओ एक ऐसा बीज है, जो आमतौर पर जमीन के नीचे पाया जाता है और इसका प्रयोग चॉकलेट बनाने के लिए टेस्टिंग पाउडर के रूप में किया जाता है।

इसमें फ्लेवोनॉइड एपिक्टिन सहित बहुत से न्यूट्रिएंट पाए जाते हैं, जो ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित रखने में मदद करते हैं। 2017 में प्रकाशित एक अध्ययन के निष्कर्षों में कुछ छोटे अध्ययनों के बारे में बताया गया था, जिसमें यह कहा गया था कि काकाओ टाइप 2 डायबिटीज की गति को रोकने और इंसुलिन प्रतिरोध घटाने में मदद कर सकता है।

Read More Articles On Diabetes In Hindi

Disclaimer