पुरूष धूम्रपान और तंबाकू का ज्यादा सेवन करते हैं जिसकी वजह से भी उनको टीबी होने की संभावना ज्यादा होती है। टीबी एक खतरनाक बीमारी होती है जिसका अगर इलाज नहीं कराया गया तो जानलेवा हो सकती है। पुरूषों में क्षय रोग होने से इस रोग के फैलने का खतरा होता है। 

"/>

पुरूषों में टीबी के संकेत हैं ये 5 लक्षण, इलाज में न करें देरी

पुरूष धूम्रपान और तंबाकू का ज्यादा सेवन करते हैं जिसकी वजह से भी उनको टीबी होने की संभावना ज्यादा होती है। टीबी एक खतरनाक बीमारी होती है जिसका अगर इलाज नहीं कराया गया तो जानलेवा हो सकती है। पुरूषों में क्षय रोग ह

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Mar 23, 2018Updated at: Mar 26, 2018
पुरूषों में टीबी के संकेत हैं ये 5 लक्षण, इलाज में न करें देरी

टीबी (क्षय रोग, तपेदिक या ट्यूबरकुलोसिस) महिलाओं की तुलना में पुरूषों पर ज्यादा प्रभावी होता है। ट्यूबरकुलोसिस हवा में फैलने वाले बैक्टीरिया से होता है और पुरूष ज्यादातर बाहर ही रहते हैं। घर के बाहर हर प्रकार के वातावरण से पुरूषों का सामना होता है।इस वजह से पुरूषों की खान-पान और उनकी दिनचर्या पर ज्यादा असर पड़ता है। पुरूष धूम्रपान और तंबाकू का ज्यादा सेवन करते हैं जिसकी वजह से भी उनको टीबी होने की संभावना ज्यादा होती है। टीबी एक खतरनाक बीमारी होती है जिसका अगर इलाज नहीं कराया गया तो जानलेवा हो सकती है। पुरूषों में क्षय रोग होने से इस रोग के फैलने का खतरा होता है। 

 

पुरूषों में क्षय रोग के लक्षण 

पुरूषों और महिलाओं में क्षय रोग के लक्षण एक जैसे ही होते हैं लेकिन महिलाओं का इम्यून सिस्टम पुरूषों की तुलना में ज्यादा मजबूत होता है जिसकी वजह से उनपर टीबी या अन्य बीमारी का कम प्रभाव होता है। पुरूषों में टीबी के लक्षण निम्नलिखित हैं : 

खांसी आना 

टीबी फेफडे़ की बीमारी है और इसके शुरूआती लक्षण है खांसी आना । दो हफ्तों या उससे ज्यादा समय तक खांसी लगातार आना तपेदिक का लक्षण है। शुरूआत में सूखी खांसी आती है लेकिन बाद में खांसी के दौरान बलगम में खून भी आने लगता है। दो हफ्ते से ज्यादा खांसी आने पर स्वास्‍थ्‍य केंद्र जाकर बलगम की जांच करानी चाहिए। लगातार खांसी आने से पुरूषों को सांस संबंधित अन्य बीमारियां भी होने लगती है।  

बुखार 

क्षय रोग से संक्रमित होने वाले पुरूषों को बुखार रहता है। ट्यूबरकुलोसिस का संक्रमण रहने पर आदमी को हमेशा बुखार रहता है। शुरूआत में लो-ग्रेड फीवर होता है लेकिन बाद में संक्रमण ज्यादा फैलने पर बुखार तेज हो जाता है। 

थकावट होना 

टीबी होने पर आदमी की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बहुत कम हो जाती है और उसकी ताकत भी समाप्ते होने लगती है। सामान्यन दिनों की अपेक्षा टीबी होने पर हल्का  और छोटा सा काम करने पर भी आदमी को थकान होने लगती है। 

वजन घटना 

क्षय रोग होने पर आदमी का वजन हररोज घटने लगता है। सामान्य खान-पान रखने पर भी आदमी का वजन कम होने लगता है। 

इसे भी पढ़ें: बच्‍चों में टीबी होने के संकेत देते हैं ये 5 लक्षण, जानें

पसीना आना 

क्षय रोग होने पर आदमी को रात को सोते वक्त पसीना आता है। मौसम चाहे जैसा भी हो (जबरदस्त ठंड पडने के बावजूद) रात को तेज पसीना आता है।  

इसे भी पढ़ें: टीबी जैसी बीमारी से बचना है, तो रोज करें ये 6 काम

भूख न लगना 

क्षय रोग होने पर आदमी की खाने के प्रति रुचि समाप्त होने लगती है। टीबी होने पर आदमी को भूख कम लगती है जिसकी वजह से खाने के प्रति रुचि कम हो जाती है 

सांस लेने में परेशानी 

क्षय रोग होने पर जबरदस्त खांसी आती है जिससे सांस लेने में दिक्कत होती है। कई बार ज्यादा खांसी आने के वजह से आदमी की सांस भी फूलने लगती है। क्षय रोग होने पर आदमी के शरीर के अन्य  भाग भी प्रभावित होते हैं। शरीर के जोड़ों, हड्डियों, मांसपेशियों और सेंट्रल नर्वस सिस्टम में दिक्‍कत शुरू हो जाती है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Tuberculosis In Hindi

Disclaimer