तो इसलिए बढ़ रहे हैं पथरी के मामले

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 29, 2012

toh isliye badh rahe hain pathri ke mamle

आजकल व्यस्त जीवनशैली व खान-पान में लापरवाही बरतने से ज्यादातर लोग बीमार पड़ रहे हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं आपकी यह आदतें आपकी सेहत के लिए कितनी खतरनाक साबित हो सकती है। डॉक्टरों के मुताबिक बहुत देर तक टीवी, कंप्यूटर पर काम करने से और असंतुलित भोजन करने से पथरी होने की संभावना बढ़ जाती है। इसके साथ ही मोटापा और कम मात्रा में पानी पीना भी इसकी बड़ी वजह है।

[इसे भी पढ़ें: पथरी के घरेलू उपचार]

 

जानकार मानते हैं कि पथरी बनने के कारण कैल्शियम की जमावट, मूत्रशय नलिका में बाधा आदि हैं। इसका संबंध हाइपर पैराथायरॉइडिजम से भी होता है। यह अंत:स्त्रवी ग्रंथियों से जुडी एक विकृति है। इसी की वजह से पेशाब में कैल्शियम की मात्रा बढ जाती है। अगर यह कैल्शियम पेशाब के साथ बाहर निकल जाए तो बेहतर है वर्ना यह गुर्दे की कोशिकाओं में जमा होकर पथरी का रुप ले लेता है।

[इसे भी पढ़ें: बथुआ खाएं पथरी भगाएं]

 

पेशाब में कैल्शियम की अधिकता हाइपरकैल्सियूरिया कहलाती है। अधिक कैल्शियम वाला भोजन इसकी बड़ी वजह होता है। कैल्शियम ऑग्जेलेट या फॉस्फेट के कण अत्यधिक मात्रा में हों तो वह पेशाब के जरिये पूरी तरह नहीं निकल पाते। यह सब शरीर में एक जगह जमा होते रहते हैं और बाद में यही कण पथरी का रुप ले लेते हैं।

ऐसा नहीं है कि सिर्फ बड़े ही पथरी का शिकार होते हैं, यह समस्‍या बच्‍चों में भी होती है। पथरी के 60 फीसदी मामलों का कारण अनुवांशिकी होती है। अगर परिवार में किसी को सिस्टीन्यूरिया या प्रायमरी हाइपरोक्सैल्यूरिया हो तो पथरी होने की आशंका बढ जाती है। ऐसे बच्चों को पेशाब में अमीनो अम्ल, सिस्टीन या ऑग्जेलेट की अधिकता के कारण पथरी हो सकती है।’

Loading...
Is it Helpful Article?YES28 Votes 17553 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
I have read the Privacy Policy and the Terms and Conditions. I provide my consent for my data to be processed for the purposes as described and receive communications for service related information.
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK