तीसरी पीढ़ी को भी बीमार करता है आपका धूम्रपान

आइये जानें, धूम्रपान कैसे आपकी तीसरी पीढ़ी को भी बीमार कर सकता है।

Bharat Malhotra
लेटेस्टWritten by: Bharat MalhotraPublished at: Nov 01, 2012
तीसरी पीढ़ी को भी बीमार करता है आपका धूम्रपान

tishri pidi ko bhi bimar karta hai aapka dhumrapan

अगर आप यह सोचकर धूम्रपान करते हैं कि इसका असर सिर्फ आपके स्वास्‍थ्‍य पर ही पड़ता है तो जनाब जरा यह खबर पढि़ए। जनाब धूम्रपान के बुरे असर न सिर्फ आपको, बल्कि आपके बच्चों को और उनके बच्चों पर भी पड़ता है। जी, हाल ही में हुआ एक शोध बताता है कि धूम्रपान तीसरी पीढ़ी को भी अस्थमा का शिकार बना सकता है। अस्थमा एक प्रमुख सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या है। यह बचपन में होने वाली पुरानी बीमारी है। हालांकि गर्भावस्था में धूम्रपान जैसे बहुत से कारण हैं, जो अस्थमा को बढ़ावा देते हैं। इन सभी कारणों को टाला जा सकता है।

[इसे भी पढ़े- धूम्रपान बिलकुल ना करें]

गर्भावस्था के दौरान निकोटिन पेट में बन रहे भ्रूण के फेफड़ों को प्रभावित कर सकता है। इसके कारण शिशु बचपन से ही अस्थमा का शिकार हो जाता है।


कैलीफोर्निया स्थित हार्बर-यूसीएलए मेडिकल सेंटर के शोधकर्ताओं ने चूहों पर गर्भावस्था के दौरान निकोटिन के प्रभावों का परीक्षण किया। इसके नतीजे हैरान करने वाले थे। शोधकर्ताओं ने पाया कि निकोटिन ने न सिर्फ उसके बच्चों को प्रभावित किया बल्कि दूसरी पीढ़ी के बच्चों पर भी इसका दुष्प्रभाव देखा गया।

[इसे भी पढ़े- दर्द निवारक दवाओं से हृदय को खतरा]

यूसीएलए के बयान के अनुसार पहली पीढ़ी अपने जन्म के समय निकोटिन के सम्पर्क में नहीं आई थी, लेकिन इसके बावजूद निकोटिन ने उनकी संतानों के फेफड़ों की कार्य क्षमता को कमजोर कर दिया।

 

Read More Article On- Swastha samachar in hindi

Disclaimer