कैसे तेज करें अपनी याददाश्त? डायटीशियन स्वाती बाथवाल से जानें मेमोरी पावर बढ़ाने वाले फूड्स और टिप्स

बेहतर प्रदर्शन के लिए मेमोरी पावर को बूस्ट करना बेहद जरूरी है। आज हम आपको कुछ ऐसे टिप्स देने जा रहे हैं, जिससे आप अपनी याददाश्त क्षमता को बढ़ा सकते है

Kishori Mishra
Reviewed by: स्वाती बाथवालPublished at: Aug 05, 2021Updated at: Aug 05, 2021Written by: Kishori Mishra
कैसे तेज करें अपनी याददाश्त? डायटीशियन स्वाती बाथवाल से जानें मेमोरी पावर बढ़ाने वाले फूड्स और टिप्स

क्या आपको लग रहा है कि आप चीजों को बहुत ही जल्दी भूल रहे हैं। क्या यह बढ़ती उम्र का लक्षण है? हमारे आसपास कई ऐसे लोग मौजूद होते हैं, जो अपने काम को बहुत ही बेहतर तरीके से करते हैं। वहीं, कुछ लोगों को थोड़ा सा काम करने में भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ जाता है। ठीक ऐसे ही कुछ बच्चे बहुत ही आसानी से भूल जाते हैं। उन्हें यह तक याद नहीं रहता है कि उन्होंने आज स्कूल में क्या सीखा? इन सभी बातों से साफ जाहिर होता है कि आपकी या फिर आपके बच्चे की याददाश्त क्षमता कम होती जा रही है। इस स्थिति में हमारे मस्तिष्क को संपूर्ण पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। रिसर्च में भी इस बात का खुलासा हुआ है कि मस्तिष्क के बेहतर विकास के लिए संपूर्ण और पौष्टिक आहार काफी जरूरी होता है। इस बारे में डायटीशियन स्वाती बाथवाल बताती हैं कि हमारा दिमाग पॉलीअनसेचुरेटेड वसा से तैयार होता है। इसमें उच्च चपातय गतिविधि होती है। 

डायटीशियन स्वाती बाथवाल का कहना है कि ल्यूटिन नामक यौगिक विशेष रूप से डीएचए सहित पॉलीअनसेचुरेटेड वसा वाले क्षेत्रों में ऑक्सीजन कम करके मस्तिष्क को यूरोप्रोटेक्टिव प्रभाव प्रदान करता है। दरअसल, हमारे मस्तिष्क पर फ्री रेडिकल्स के हमले का खतरा लगातार बना रहता है, क्योंकि हमारा मस्तिष्क आराम करने के लिए 10 फीसदी ऑक्सीजन और जब दिमाग सक्रिय होता है तब शरीर 50 फीसदी ऑक्सीजन का इस्तेमाल करता है। यह शरीर के वजन के महज 2 फीसदी ही है। ऐसे में शरीर को और अधिक एनर्जी की आवश्यकता होती है। इसलिए मस्तिष्क को फ्री-रेडिकल्स का खतरा रहता है। लेकिन चिंता करने वाली कोई बात नहीं है। आप अपने डाइट में कुछ विशेष चीजों को शामिल करते अपने मस्तिष्क की क्रिया को बेहतर कर सकते हैं। चलिए जानते हैं इस बारे में-   

करें कुछ विशेष तरह का फास्ट 

डायटीशियन स्वाती बाथवाल का कहना है कि आप कुछ विशेष तरह के फास्ट करके अपने ब्रेन के फंक्शन को बेहतर कर सकते हैं। इन फास्ट में से एक है फ्रूट फास्ट। इस फास्ट के जरिए आप अपने दिमाग को सक्रिय कर सकते हैं। इस फास्ट को करने के लिए आप कोई भी फल 2 से 3 दिन तक खाएं। लेकिन ध्यान रखें कि सोने से पहले 1 कप गर्म पानी में आधा चम्मच त्रिफला चूर्ण मिलाकर जरूर पिएं। इसके अलावा याददाश्त को बढ़ाने के लिए आप खिचड़ी फास्ट भी कर सकते हैं। महीने में 5 दिन भी आप खिचड़ी फास्ट फॉलो कर सकते हैं। इसमें आप नाश्ते के दौरान फल या फिर कोई पेय पदार्थ लें। इसके बाद लंच और डिनर में खिचड़ी का सेवन करें।  

इसे भी पढ़ें - मिट्टी के बर्तन में जमी दही खाने से सेहत को मिलते हैं कई जबरदस्त फायदे, जानें कैसे जमाएं गाढ़ी और क्रीमी दही

इन खाद्य पदार्थों का करें सेवन

डायटीशियन का कहना है कि आप अपने डाइट में आलू, भिंड, पालक, गाजर जैसी हरी सब्जियों को शामिल कर सकते हैं। इसके अलावा अखरोट, बादाम, दूध और घी जैसी चीजें आपके मस्तिष्क की कार्य क्षमता को बढ़ाता है। स्वाती बाथवाल का कहना है कि अंगूर का रस पीने से याददाश्त क्षमता को नुकसान पहुंचाने वाले कारकों का नष्ट होता है। खासतौर पर बैंगनी रंग का अंगूर खाने से याददाश्त क्षमता में सुधार आता है। इसके अलावा कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ हैं, जिससे याददाश्त क्षमता कमजोर हो सकती है। जैसे- कीटनाशक, हाइड्रोजनीकृत फूड्स, मांस, वनस्पति तेल, कृत्रिम रंग इत्यादि। 

आयुर्वेदिक चीजों में छिपा है याददाश्त बढ़ाने का गुण

डायटीशियन स्वाती बाथवाल बताती हैं कि आयुर्वेद की कुछ ऐसी जड़ी-बूटियां हैं, जिससे आप अपने याददाश्त क्षमता को बढ़ा सकते हैं। डायटीशियन बताती हैं कि ब्राह्मी दूध का नियमित रूप से सेवन करने से याददाश्त तेज होती है, सबसे अच्छी बात यह है कि इसका कोई साइड-इफेक्ट नहीं होता है। ब्राह्मी दूध को तैयार करने के लिए 1 गिलास दूध में आधा चम्मच ब्राह्मी डालकर इसे करीब 2 मिनट तक उबालें। अब सोने से पहले इस दूध को पिएं। 

इसके अलावा केसर और गाजर का जूस का सेवन करने से याददाश्त क्षमता में सुधार आता है। इनमें कैरोटेनॉयड्स की उपस्थिति होती है, जो मेमोरी पावर को  बूस्ट करता है। गाजर का जूस बनाने के लिए 3 फ्रेश गाजर लें, इसमें 1/4 चुकंदर, 1 चम्मच अलसी और कुछ बूंदे ऑलिव ऑयल की मिक्स करें और अच्छे से पीस लें। इस जूस का सेवन करने से मेमोरी अच्छी होती है।

इसे भी पढ़ें - इन 5 लोगों को अनार से रहना चाहिए दूर, वरना बढ़ सकती हैं समस्याएं

अच्छी नींद लें 

डायटीशियन स्वाती बाथवाल का कहना है कि जब हम सोते हैं, तब हमारा दिमाग डिटॉक्सिफाई होता है। हमारे मस्तिष्क में लसीका तंत्र होता है, जो शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थ को बाहर निकालता है। वहीं, हमारा दिाग ग्लाइम्फेटिक सिस्टम (glymphatic system) की मदद से डिटॉक्सिफाई होता है। यह सोते समय मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र से अपशिष्ट पदार्थों को बाहर निकालता है। इसमें मस्तिष्कमेरु नामक द्रव (cerebrospinal fluid) होता है, जो शरीर सभी रसायनों जैसेन- विषाक्त उत्पोत्पाद ( toxic by-products), प्रोटीन को एकत्रित करके बाहर निकालता है। इसलिए आप अपनी याददाश्त क्षमता को बढ़ाने के लिए कम से कम 7 से 8 घंटे जरूर सोएं।

जरूर करें एक्सरसाइज

डायटीशियन स्वाती बाथवाल का कहना है कि अच्छी मेमोरी पावर के लिए सप्ताह में कम से कम 5 बार एक्सरसाइज या वॉक जरूर करें। खासतौर पर ब्रिस्क वॉक हमारे ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर करता है, जो मेमोरी पावर को बढ़ता है। इसलिए सप्ताह में कम से कम 5 बार जरूर वॉक करें। इसके अलावा कुछ ऐसे योगासन हैं, जिसकी मदद से आप ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर कर सकते हैं। जैसे- हलासन, शीर्षासन, कोबरा, धनुष योग इत्यादि। इन योगासन की मदद से आप अपने मेमोरी पावर को बूस्ट कर सकते हैं।

स्वाती बाथवाल द्वारा दिए गए इन टिप्स को फॉलो करके आप अपने मेमोरी पावर को बूस्ट कर सकते हैं। ताकि आपके दैनिक जीवन के कार्य प्रभावित न हों और आप अपना बेहतर प्रदर्शन दे सकें। 

Image Credit - Pixabay

Read More Articles On Healthy Diet In Hindi

Disclaimer