टीबी से लड़ने में मददगार है विटामिन डी

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 19, 2013

tb se ladne me madadgar hai vitamin D

हाल ही में हुए एक ऑस्ट्रेलियाई रिसर्च में यह सामने आया है कि विटमिन डी की कमी से टीबी का खतरा हो सकता है।

 

रॉयल मेलबर्न हॉस्पिटल के डॉक्टर कैथरीन गिबने ने यह खुलासा किया है, कि विटामिन डी की कमी से माइक्रोबैक्टेरियम ट्यूबरकुलोसिस होने का खतरा रहता है।

यह रिसर्च 375 अफ्रीकी आप्रवासियों पर किया गया जिनका ईलाज मेलबर्न हास्पिटल में चल रहा था। रिसर्च में यह पाया गया कि जिन मरीजों में विटामिन डी का स्तर कम था उनमें टीबी का  के बैक्टेरिया पाए गए। शोध में 78 %  मरीज ऐसे थे जिनमें विटामिन डी की काफी कमी थी और वे टीबी का शिकार हो चुके थे या इससे जूझ रहे थे।

[इसे भी पढ़े- विटामिन डी क्या है]

 

इससे पहले भी कई शोधकर्ताओं ने विटामिन डी की कमी से टीबी होने के खतरे की बात साबित करने की कोशिश की थी लेकिन यह पहला शोध है जो यह साबित कर पाया है कि लेटेंट टीबी विटामिन डी की कमी से संबंधित है।
टीबी विश्व की प्रमुख समस्याओं में से हैं। विश्व में लगभग एक तिहाई आबादी इससे ग्रसित है। टीबी की शुरुआती अवस्था है लेटेंट ट्यूबरकुलोसिस, जिसमें यह संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक नहीं फैलता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी किए गए आकड़ों के मुताबिक 1.6 मिलियन लोग हर साल क्षय रोग से मर रहे हैं।

विटामिन डी हमारे शरीर के लिए बहुत ही जरूरी पोषक तत्व है जो धूप से या खाने से मिलता है। पोषक तत्वों का प्रभाव कैथेलीसाइडिन उत्पादन(cathelicidin production) पर पड़ता है जिससे इम्‍यून सिस्टम मजबूत होता है और आपका शरीर रोगों से लड़ने के लायक बनता है। विटमिन डी शरीर में एंटी बॉयोटिक्स की तरह ही काम करता है।

 

 

Read More Articles On- Health news in hindi

Loading...
Is it Helpful Article?YES2 Votes 12590 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK