ऑफिस में योगा ब्रेक के जरिए बने ऊर्जावान

क्या आप जानते हैं कि ऑफिस में रहकर भी आप योग के जरिए अपनी थकान मिटा सकते हैं। इसके लिए आपको ज्यादा कुछ नहीं करना बस चाहिए फुर्रसत के चंद मिनट।

Nachiketa Sharma
योगाWritten by: Nachiketa SharmaPublished at: Aug 17, 2012Updated at: Mar 11, 2014
ऑफिस में योगा ब्रेक के जरिए बने ऊर्जावान

भागदौड और व्यस्त जीवन में लोगों के पास एक्सरसाइज के लिए बिलकुल समय नहीं है। प्रतियोगिता के जमाने में आगे बढने और सफलता पाने के लिए लोग जमकर मेहनत करते और अपने स्‍वास्‍थ्‍य पर बिलकुल ध्यान नहीं देते हैं। लोगों की दिनचर्या का ज्यादा समय आफिस में ही बीतता है।

मल्टी‍नेशनल कंपनियों में काम करने वाले लोग घर पहुंचने पर भी काम करते हैं। काम के बोझ और कंप्यूटर के प्रयोग से शारीरिक और मानसिक दिक्कतें ज्यादा पैदा होती हैं। कंप्यूटर पर ज्यादा देर तक काम करने से शारीरिक थकावट महसूस होने लगती है। आइए हम आपको बताते हैं कि कैसे आफिस में काम के दौरान योग करके आप अपने शरीर को तरोताजा कर सकते हैं।

 

 

रिफ्रेश योग

यह योग आफिस में आराम से किया जा सकता है। रिफ्रेश योग अंग संचालन और प्राणायाम का हिस्सा है। इसे करने से दिमाग ठंडा व मन एकाग्रचित्त होता है। इसे करने के लिए आंख, जीभ, हाथ पैर की कलाइयों, कमर, गर्दन को दाएं-बाएं उपर-नीचे करते हुए गोल-गोल घुमाइए। इसी तरह पैरों के उंगलियों की भी एक्सइरसाइज कीजिए। कानों को मरोडें, पूरा मुंह खोलकर बंद करें। दाएं से बाएं और बाएं से कंधे को पकडकर दबाएं। इस क्रिया को 10-15 मिनट तक करें। इससे जोडों का दर्द, तनाव, सिरदर्द, गर्दन व कमर का दर्द, पीठ दर्द, आलस्य, कब्ज और गैस आदि में राहत मिलती है।

Yoga in office

कोणासन

यह योगा हाथों को आराम देने के लिए किया जाता है। इसे करने के लिए अपने दोनों पैरों को सटाकर सीधे खडे हो जाइए। आगे की देखते हुए सामने की तरफ झुककर हुए अपनी उंगलियों से जमीन को छूएं। अपने शरीर के उपरी भागों को सीधा रखिए। इस आसन को 10-30 सेकंड तक कीजिए।

 

 

भाष्टिका आसन

इस योगा को करने से पेट के विकारों से राहत मिलती है। इसे करने के लिए आराम से पीठ को सीधा करके बैठ जाइए। अपनी आंखों को बंद करके पेट की मासंपेसियों का ध्यान करके नाक से सांस को अंदर-बाहर कीजिए। इस क्रिया को 5 बार कीजिए।

 

पैर एक्सटेंशन आसन

इसे करने के‍ लिए आराम से कुर्सी पर बैठकर एक पैर को मोडकर दूसरे पैर को सामने की तरफ ले जाइए। दोनों हाथों से आगे के पैर को पकडकर सांसों को अंदर-बाहर 3 से 5 बार कीजिए। इसी तरह से दूसरे पैर के साथ भी कीजिए। इस क्रिया को 5-10 बार कीजिए।

be healthy from yoga

गर्दन आसन

अपने गर्दन को दाहिने तरफ झुकाते हुए कान से कंधे को छूकर 3-5 बार सांसों को अंदर बाहर कीजिए। इस क्रिया को गर्दन को बाएं तरफ ले जाते हुए कीजिए। इसे करने से गर्दन में हो रहे दर्द से निजात मिलेगी।

 

 

वायु मुद्रा

इस मुद्रा को बनाने के लिए अंगूठे के बाद वाली पहली अंगुली यानी इंडैक्स फिंगर को मोड़कर उसके नाखुन वाले भाग का हल्का दबाव अंगूठे के मूल भाग में किया जाय और अंगूठे से तर्जनी पर दबाव बनाकर शेष तीनो अँगुलियों को सीधा रखा जाए। इससे जो मुद्रा बनती है, उसे वायु मुद्रा कहते हैं। इस मुद्रा को रोज 5-10 मिनट करने से हर तरह की गैस की समस्या वात, पक्षाघात, हाथ-पैर या शरीर में कम्पन, लकवा, हिस्टीरिया जैसे रोग ठीक होते हैं।

 

इन छोटे-छोटे योगा टिप्स के अलावा कई आफिसों में जिम होता है जहां आप आधा या एक घंटा निकालकर जिम कर स्‍वस्‍थ्‍य रह सकते हैं।

 

 

Read More Articles On Yoga In Hindi

Disclaimer