दवा प्रतिरोधी सुपरबग बन रहे हैं मानवजाति के लिए परेशानी का सबब

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 19, 2013

वैज्ञानिकों ने कहा कि दवा प्रतिरोधी सुपरबगों की बढ़ती संख्या मानव जाति के लिए जोखिम बन रही है। विशेषज्ञ बताते हैं कि सुपरबगों के कारण कई बार साधारण ऑपरेशन भी जानलेवा साबित हो सकते हैं। वैज्ञानिक यह भी चेतावनी देते हैं कि यदि समय रहते इन सुपरबगों को खतम करने की तरफ कोई कार्य नहीं हुआ तो यह गंभीर समस्या पैदा कर सकते हैं। यहां तक की इनके कारण मृत्यु दर 100 साल पूर्व की दर के बराबर पहुंच जाएगी।

Superbugs A Threat To Humanसुपरबग काफी बड़ा खतरा है। यह एक ऐसा बैक्टीरिया है, जिस पर कोई भी एंटीबायोटिक्स बेअसर होता है। सुपरबग की सबसे खतरनाक बात ये है कि यह जीवन के लिए सबसे जरूरी, 'पानी' में पाया जाता है। इसका मतलब है कि छोड़ी सी असावधानी से भी यह पानी के जरिए आपके अंदर पहुंच सकता है।

 

 

सुपरबग खुद तो कोई बीमारी पैदा नहीं करता, लेकिन, दूसरी बीमारियों को खतरनाक और लाइलाज बना सकता है। एक बार यदि सुपरबग किसी के शरीर में प्रवेश कर जाए तो फिर एक से दूसरे में भी फैल सकता है।

 

 

आजकल ताकतवर से ताकतवर एंटाबायोटिक्स देकर भी संक्रमणों की बढ़ती संख्या को रोकना कठिन होता जा रहा है। इन एंटाबायोटिक्स पर सुपरबगों का असर न के बराबर हो रहा है।

 

 

इस विषय में प्रधान स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि यदि इस विषय को गंभीरता से लेते हुए वैश्विक स्तर पर इसे तरजीह न दी गयी तो नवीनतम और आधुनिक दवाओं का कोई मोल-महत्व न रहेगा।

 

 

पहले से ही देश दुनिया के स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा एंटाबायोटिक प्रतिरोधी सुपरबगों के बारे में लगातार चेतावनियां भी दी जाती रही हैं। गौरतलब हो कि कुछ महिनों पहले अमरीका के हवाई में 'सेक्स सुपरबग' के दो मामले सामने आने के बाद चिंताएं बढ़ गई थीं। H041 नाम के 'सेक्स सुपरबग' को 2011 में सबसे पहले जापान में पहचाना गया, बाद में यह हवाई तक फैला और फिर कैलिफोर्निया और नॉर्वे तक पहुंच गया। उस समय विशेषज्ञों ने इस 'सेक्स सुपरबग' को एड्स से भी अधिक खतरनाक बताया था। सेक्स सुपरबग को गॉनरीअ या H041 के नाम से जाना जाता है।

 

Read More Health News in Hindi

Loading...
Is it Helpful Article?YES2 Votes 1031 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK