सूनी गोद में भी गूंजेगी किलकारी

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 04, 2013

संतान की इच्छुक महिला पति के साथ शारीरिक संपर्क के बावजूद यदि लंबे समय तक गर्भधारण नहीं कर पाती तो घबराने की जरूरत नही क्‍योंकि अब सूनी गोद में भी किलकारी गूंजने की उम्‍मीद बढ़ गई है।

suni goud me bhi gunjegi kilkariभारतीय मूल की डॉक्‍टर गीता नारगुड की टीम को मिल सफलता से सूनी गोद में भी किलकारी गूंजने की उम्‍मीद बढ़ गई है। सेंट जॉर्ज हॉस्पिटल के वैज्ञानिकों को पहली बार एमिनियोटिक सैक अर्थात गर्भस्‍थ शिशु के चारों ओर मौजूद पदार्थ की कोशिकाओं से अंडाणु विकसित करने में सफलता हासिल की है।

[इसे भी पढ़ें- स्त्री की गोद में मातृत्व का सुख]

डॉक्‍टर गीता ने कहा कि इससे भविष्‍य के लिए अनंत संभावनाओं के रास्‍ते खुलेंगे। खासतौर पर उन महिलाओं के लिए जिनके अंडाणु प्रजनन के लायक नहीं हैं। प्रमुख शोधकर्ता और ह्याइफा स्थित ऑफ टेक्‍नीयॉन इजराइल इंस्‍टीट्यूट ऑफ टेक्‍नोलॉजी के प्रोफेसर एलियेजर शेलेव ने कहा कि डॉक्‍टर लंबे समय से अंडाणु दान का विकल्‍प तलाश रहे थे। इस खोज से उम्‍मीद की जा सकती है कि जल्‍द ही जरूरत के अनुसार अंडाणुओं का उत्‍पादन किया जा सकेगा।

[इसे भी पढ़ें- कैसे पाएं स्वस्थ शिशु]

उन्‍होंने बताया, एमिनियोटिक कोशिकाएं भ्रूण की शुरुआती कोशिकाएं होती हैं। इनसे ही बाद में अन्‍य प्रकार की कोशिकाओं का निर्माण होता है। शेलेव ने  कहा, एमिनियोटिक सैक से वि‍कसित अंडाणु अविकसित अवस्‍था में हैं। इसे विकसित करने के लिए हार्मोन थेरेपी का इस्‍तेमाल किया जा रहा है। शोध को जर्नल रिप्रोडक्टिव बायोलॉजी एंड इंडोक्राइलोलॉजी के हालिया अंक में छापा गया है। हालांकि कई विशेषज्ञों ने इस शोध को नैतिकता के खिलाफ बताया है।

 

Read More Articles on Health News in Hindi

Loading...
Is it Helpful Article?YES21 Votes 4430 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK