खाना शेयर करने से बनते हैं बेहतर इनसान

अकेले खाने की आदत है तो इससे आपकी बेरुखी झलकती है जबकि खाने को मिल-बांटकर खाने की आदत आपको बेहतर इनसान बनाती है, इसलिए खाने को शेयर करके खायें।

Nachiketa Sharma
एक्सरसाइज और फिटनेसWritten by: Nachiketa SharmaPublished at: Nov 19, 2014Updated at: Nov 19, 2014
खाना शेयर करने से बनते हैं बेहतर इनसान

अगर आपको अकेले खाना पसंद है तो आपके लिए यह बुरी खबर हो सकती है, क्‍योंकि एक पत्रिका में छपे शोध के अनुसार, खाना मिल-बांटकर खाने वाले लोग बेहतर इनसान बनते हैं। अगर आप भी बेहतर इनसान बनना चाहते हैं तो खाने को अकेले बिलकुल भी न खायें। अपने दोस्‍तों, घरवालों, सहकर्मियों आदि के साथ खाने को बांटकर खायें। इस लेख में विस्‍तार से जानिये कि खाना बांटकर खाने वाले लोग कैसे कहलाते हैं बेहतर इनसान।
Sharing Food in Hindi

शोध के अनुसार

'एपेटाइट' पत्रिका में एक शोध छपी जिसका मानना है कि खाने को दूसरे के साथ बांट कर खाने वाले लोग संवेदनशील होते हैं और ऐसे लोग बेहतर इनसान भी होते हैं। इस शोध में यह भी छपा कि अपने परिवार वालों के अलावा दूसरे लोगों जैसे - गरीबों, जरूरमंदों और पड़ोसियों के साथ खाना बांटकर खाने वाले लोग बेहतर इनसान की श्रेणी में आते हैं।

बेल्जियम की एंटवर्प यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने इसपर शोध किया। इस शोध में लोगों के व्‍यवहार पर अध्‍ययन किया गया। जो लोग बचपन से ही परिवार और अन्‍य लोगों के साथ मिलकर खाना खाते थे उनका व्‍यवहार दूसरें लोगों के साथ बाद में भी बेहतर था। ऐसे लोग व्‍यवहार कुशल भी थे जिन्‍होंने खाने को बांटकर खाया।

सहयोग की भावना

ऐसे लोग संवेदनशील होते हैं और उनमें सहयोग की भावना होती है। दूसरों की मदद करना, भूखों को खाना खिलाना, जरूरत पड़ने पर सहयोग करना, सहपाठियों और सहकर्मियों के साथ अच्‍छे से पेश आना बेहतर इनसान के गुण होते हैं। जो लोग खाने को अकेले खाने के बजाय दूसरों के साथ मिलकर खाते हैं उनमें सहयोग की भावना होती है और ऐसे लोग बेहतर इनसान भी होते हैं।

इस अंतर को भी समझें

हालांकि भोजन बांटने और प्‍लेट का खाना बांटने में अंतर है। अगर आप खाना परोसने की शैली में खाने को बांटते हैं तो यह फिर दोस्‍तों के साथ डिनर या लंच कर रहे हैं तो यह कम प्रभावी है। अगर आप अपनी प्‍लेट का खाना किसी के साथ बांटकर खाते हैं तो यह अधिक प्रभावशाली माना जाता है और इससे आप दूसरे व्‍यक्ति के अधिक लगाव महसूस करते हैं।
Better Person in Hindi

बच्‍चों को भी सिखायें

अपने बच्‍चे को बेहतर और अच्‍छा इनसान बनाने के लिए उसे भी शेय‍र करने की आदत डालें। उसे बतायें कि खाना और अन्‍य सामान को शेयर करने से कैसे व्‍यक्ति अच्‍छा इनसान बनता है। बर्थडे पार्टी हो या स्‍कूल में टिफिन, हर जगह खाने को बांटकर खाने की आदत उसमें डालें।

बेहतर इनसान वही है जो अपने साथ दूसरों के बारे में भी सोचे, अगर आप खाने को शेयर करके खाते हैं तो इससे आप संवेदनशील होते हैं और आपमें सहयोग की भावना पैदा होती है।

image source - getty images

 

Read More Articles on Health Living in Hindi

Disclaimer