रजोनिवृति के बाद क्या करें

पहले रजोनिवृति होने का अर्थ था कि महिलाएं वृद्धावस्था में कदम रख रही हैं और अब यह जीवन का आखिरी पड़ाव है। रजोनिवृति होते ही महिलाएं काम करना छोड़ देती थीं और खुद को बुजुर्ग मानने लगती थी लेकिन आज के दौर में महिलाएं काफी जागरूक हुई हैं।

 ओन्लीमाईहैल्थ लेखक
सभीWritten by: ओन्लीमाईहैल्थ लेखकPublished at: Dec 18, 2012Updated at: Feb 11, 2014
रजोनिवृति के बाद क्या करें

पहले रजोनिवृति होने का अर्थ था कि महिलाएं वृद्धावस्था में कदम रख रही हैं और अब यह जीवन का आखिरी पड़ाव है। रजोनिवृति होते ही महिलाएं काम करना छोड़ देती थीं और खुद को बुजुर्ग मानने लगती थी लेकिन आज के दौर में महिलाएं काफी जागरूक हुई हैं। अब उन्हें पता है कि रजोनिवृति के बाद खुद को कैसे स्वस्थ रखा जा सकता है। रजोनिवृति एक ऐसा दौर जब महिलाओं के शरीर में कई तरह के बदलाव होते हैं। जिससे उनके मूड में बदलाव व चिड़चिड़ापन आ जाता है। आजकल महिलाएं जीवन में आए इस बदलाव को बड़ी हिम्मत से स्वीकार करती हैं, पहले की तरह ही अपना जीवन व्यतीत करती हैं। जानिए रजोनिवृति के आप भी कैसे स्वस्थ रह सकती हैं।

 

 

 

रजोनिवृति के बाद आहार

 

  • उम्र के साथ-साथ लोगों में आहार संबंधी जरूरतें बदलती रहती हैं। रजोनिवृति से पहले( प्रीमेनोपॉज) महिलाओं को रोज लगभग 100 मिग्री कैल्शियम लेना चाहिए। रजोनिवृति के बाद 1200 मिग्री कैल्शियम रोज खाना चाहिए।
  • विटामिन डी हड्डियों के जरूरी होता है। रजोनिवृति के दौरान अक्सर महिलाओं की हड्डियां कमजोर हो जाती है जिससे हड्डियों का क्षय होने लगता है।  
  • कम वसा युक्त पदार्थों का सेवन करना चाहिए जिससे कोलोस्ट्रोल की समस्या से बचा जा सकता है।
  • नियमित रुप से फल, हरी सब्जियों व अनाज से बनी चीजों का सेवन करना चाहिए। इसके अलावा विटामिन सी व फाइबर युक्त पदार्थ लें।  
  • वजन बढ़ाने वाली चीजों से दूर रहना चाहिए साथ ज्यादा मीठे पदार्थों से बचना चाहिए।

 

 

 

रजोनिवृति के बाद व्यायाम

 

  • रजोनिवृति के बाद महिलाओं में अक्सर वजन बढ़ने की संभावना रहती है। ऐसे में शारीरीक गतिविधियों को बढ़ाने से वजन बढ़ने की समस्या से बचा जा सकता है। नियमित रुप से व्यायाम शारीरिक रुप से अच्छा होने के साथ ही मानसिक रुप से भी काफ प्रभावकारी रहता है।
  • नियमित रुप से व्यायाम से महिलाओं में हृदय संबंधी रोग, मोटापा, उच्च रक्तचाप, मधुमेह जैसे रोगों से बचा जा सकता है।
  • तनाव, अनिद्रा जैसे समस्याओं के लिए भी व्यायाम काफी कारगर है। व्यायाम से महिलाओं में इस दौरान मूड में बदलाव होने की समस्या में आराम मिलेगा और वे खुद को तरोताजा महसूस करेंगी।
  • सुबह-सुबह उठकर टहलना, जॉगिंग, एरोबिक्स कुछ ऐसे व्यायाम हैं जिससे महिलाएं आसानी से कर सकती हैं। इससे वे कोलोस्ट्रोल संबंधी समस्याओं से बच सकती हैं।
  • व्यायम शुरु करने से पहले अपने डॉक्टर से एक बार जरूर सलाह ले लें। आपके शारीरिक जरूरत के अनुसार वो जैसी एक्सरसाइज बताए उसे ही अपनाएं।

 

Read More Articles On women's Health In Hindi

Disclaimer