फीटल किक की गिनती और इससे जुड़ी अहम जानकारियां

फेटल किक्स काउंट करना काफ़ी ज़रूरी है इससे आप अपने बच्चे कि दिनचर्या के हलचल का पता लगा सकती हैं क्योंकि अगर बच्चा सामान्य किक करे तो माँ को पता रहता है की सब कुछ ठीक है लेकिन जब भी इसमे बदलाव आता है तो मां इसकी रिपोर्ट डॉक्टर को दे सकती है।

Rahul Sharma
गर्भावस्‍था Written by: Rahul SharmaPublished at: Jan 01, 2013Updated at: Oct 19, 2015
फीटल किक की गिनती और इससे जुड़ी अहम जानकारियां

प्रेगनेंसी के समय अकसर महिलाें एक सावाल जरूर पूछती हैं और वो होता है, क्या मुझे फेटल किक्स काउंट करने की ज़रूरत है? ये सवाल बेहद महत्वपूर्ण है। चलिये आपको इस सवाल और इससे संबंधित महत्वपूर्ण जानकारियों से अवगत कराते हैं। 

जहां तक बात है इस सवाल की तो, जी हाँ बिल्कुल, क्योंकि पहले सात महीने वैसे भी हम अपने ऑब्स्टेट्रीशियन से महीने मे एक बार मिलते हैं फिर पंद्रह दिन में और फिर साप्ताहिक, इसीलिए फेटल किक्स काउंट करना काफ़ी ज़रूरी है इससे आप अपने बच्चे कि दिनचर्या के हलचल का पता लगा सकती हैं क्योंकि अगर बच्चा सामान्य किक करे तो माँ को पता रहता है की सब कुछ ठीक है लेकिन जब भी इसमे बदलाव आता है तो मां इसकी रिपोर्ट डॉक्टर को दे सकती है।

 

 

किन बातों का रखें खयाल

  • बच्चे की पैदाइश से बत्तीसवे हफ्ते तक आपको किक ज़रूर महसूस होनी चाहिए।
  • जब से आपको यह किक महसूस हों उसके बत्तीस हफ़्तो तक गैस जैसा प्रतीत होता है।
  • दिन के चौबीस घंटो के अंतराल के दौरान आपको किक, ट्विस्ट, टर्न मिलाकर कम से कम दस बार फील होना चाहिए।

 

इन्हे याद रखने के लिए आप एक डायरी बना सकती हैं जिसमे आप अपनी डेली फेटल किक्स के बारे में नोट भी कर सकती हैं।

अगर मुझे कोई फीटल किक ना महसूस हो तो मुझे क्या करना चाहिए ??

अगर ऊपर दी गई बातों मे से आपको कुछ महसूस ना हो तो कोई मीठा स्नेक खाइए या मीठा शरबत पीजिए और उसके बाद कुछ देर के लिए लेट जाइए और अगले पंद्रह मिनट मे किक्स गिनना शुरू कीजिए, लेकिन अगर तब भी कुछ नही होता है तो जल्द से जल्द अपने डॉक्टर को दिखाइए ताकि सब कुछ ठीक रहे। पेरेंटल टेस्ट अपना और अपने बच्चे की हेल्थ के बारे मे जानने का एक अच्छा तरीका होता है। 

 

Image Source - Getty Images

Read More Articles On Pregnancy in Hindi.

 

 

Disclaimer