ओरल सेक्‍स के कारण हुआ डगलस को कैंसर

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 05, 2013

माइकल डगलस हॉलीवुड स्‍टार माइकल डगलस ने बताया है कि ओरल सेक्स की वजह से उन्हें गले का कैंसर हो गया है। उन्होंने ब्रिटिश अखबार 'गार्जियन' को बताया कि ओरल सेक्स के जरिये ह्यूमन पैपिलोमा वायरस (एचपीवी) उनमें संक्रामित हुआ और इसकी वजह से उन्हें यह बीमारी हुई है।

 

'बेसिक इंस्टिंक्ट' के इस स्टार ने बताया कि उनकी बीमारी का कैंसर के चौथे चरण में आकर इलाज किया जा रहा है। डगलस के इस खुलासे के बाद एक बार फिर उस चर्चा का हवा मिल गयी है, जिसमें ओरल सेक्‍स को कैंसर की बड़ी वजह माना जाता है।

 

यूनाटेड किंगडम कैंसर रिसर्च के मुताबिक, ओरल सेक्स से मुंह के कैंसर का खतरा रहता है। खासतौर से अगर कई पार्टनर्स के साथ ओरल सेक्‍स किया जाए तो कैंसर होने का खतरा काफी बढ़ जाता है। ऐसे में एचपीवी इंफेक्शन की वजह से ओरल कैंसर की संभावना बहुत ज्यादा रहती है। कैंसर रिसर्च डेटा के अनुसार, पुरुषों में ओरल सेक्स के दौरान एचपीवी संक्रमित होने की आशंका महिलाओं की अपेक्षा ज्यादा होती है।




कैंसर रिसर्च के मुताबिक, 'सेक्स के मामले में ज्यादा सक्रिय लोग अपने जीवन में कम-से-कम एक प्रकार के एचपीवी से जरूर संक्रमित होते है। कई लोगों को यह वायरस कोई नुकसान नहीं पहुंचाता है और बिना किसी इलाज के चला जाता है। काफी कम एचपीवी इंफेक्टेड लोग ऐसे भी होते हैं, जिनमें ऑरोफैरिंजियल कैंसर (मुंह का कैंसर) डिवेलप हो जाता है।'

 

सेक्‍सोलॉजिस्‍ट डॉक्‍टर वीके जैन भी ओरल सेक्‍स को सुरक्षित नहीं मानते। उनका कहना है कि इस तरह के सेक्‍स से यौन रोग और हेपेटाइटिस जैसी बीमारियां भी हो सकती हैं। डॉक्‍टर जैन का कहना है कि हालांकि समाज में ओरल सेक्‍स बढ़ रहा है, लेकिन साथ ही इसके कई दुष्‍परिणाम भी सामने आ रहे हैं।

 

ओरल सेक्‍स से होने वाले नुकसानों में एक बात और निकलकर सामने आयी है कि मुंह का एचपीवी इंफेक्शन महिलाओं की अपेक्षा पुरुषों में ज्यादा होता है। मुंह और गले में एचपीवी संक्रमण का खतरा बहुत कुछ सेक्स संबंध बनाने की आदतों से भी जुड़ा है। खुले मुंह से किस, ओरल सेक्स और एक शख्स के कई सेक्शुअल पार्टनर होने से इस इंफेक्‍शन का खतरा बढ़ जाता है। स्मोकिंग से भी मुंह में एचपीवी संक्रमण होने का खतरा बढ़ता है।

 

ब्रिटेन में हर वर्ष होठों, जीभ और मुंह के कैंसर के करीब 6,500 मामले सामने आते हैं। यानी कैंसर का हर दूसरे रोगी को मुंह या ऑरोफैरिंक्स कैंसर का होता है। एक तथ्य यह भी है सामने आया है कि बुजुर्गों में यह कैंसर अधिक सामान्‍य है।


Read More Articles on Health News In Hindi

Loading...
Is it Helpful Article?YES14 Votes 4049 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK