एच आई वी से संबंधी भ्रम

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 25, 2011

सालों से एच आई वी ‘ह्युमन इम्यूनो डेफिसियंशी वायरस‘ के बारे में पूरे विश्व में बहुत सी भ्रातियां फैली हुई हैं। कभी-कभी इन भ्रांतियों की ही वजह से ऐसी बीमारियों से लड़ना और भी मुश्किल हो जाता है। एड्स से जुड़ें तथ्यों को भी जानना उतना ही ज़रूरी है जितना कि इस बीमारी को समझना।


भ्रम 1


एच आई वी के मरीज़ के साथ रहने पर एच आई वी हो जाता है।


अब तक के हुए सर्वेक्षणों से पता चलता है कि एच आई वी के मरीज़ को  छूने से, उसके आंसू ,पसीने या सैलाइवा से एच आई वी नहीं फैलता। इन कारणों से भी एच आई वी नहीं फैलता:

 

  •      एक ही वातावरण में सांस लेने से।
  •      एक ही टाइलेट का इस्तेमाल करने से।
  •      जूठा पानी पीने से।
  •      गले लगाने से, किस करने से, हाथ मिलाने से।
  •      एक ही बर्तन में खाना खाने से।
  •      एक ही एक्सर्साइज़ इक्विपमेंट से एक्सर्साइज करने पर।

एच आई वी संक्रमित खून, सिमेन, वैजाइनल फ्लूइड या मां के दूध से फैल सकता है।


भ्रम 2


एच आई वी से डरने की कोई ज़रूरत नहीं ,नयी ड्रग्स से एच आई वी आसानी से ठीक हो सकता है।


एण्टी रेट्रोवायरल ड्रग्स से बहुत से एच आई वी के मरीजों की स्थिति में सुधार आया है लेकिन यह ड्रग्स बहुत महंगी हैं और इनका साइड एफेक्ट भी खतरनाक है। अभी तक इस बीमारी का कोई भी उपचार पूरे विश्व में नहीं खोजा जा सका है।


भ्रम 3


एच आई वीमच्छरों के काटने से एच आई वी होता है।


एच आई वी रक्त के द्वारा फैलने वाला संक्रमण है इसलिए लोगों को लगता है कि यह मच्छरों के काटने से हो जाता है। ऐसा अभी तक सिद्ध नहीं हो पाया है और अगर ऐसा हो भी जाये तो एच आई वी मच्छरों में बहुत ही कम समय तक रह सकता है।


भ्रम 4


एच आई वी पाज़िटिव होने का मतलब है कि आपका जीवन समाप्त हो गया।


इस बीमारी के शुरूवाती दौर में इससे लड़ना नामुमकिन था लेकिन अब एण्टी रेट्रोवायरल ड्रग्स की मदद से एच आई वी के साथ जीवन व्यतीत किया जा सकता है ।


भ्रम 5


वो पुरूष जो ड्ग्स नहीं लेते वो एच आई वी पाज़िटिव नहीं हो सकते।


अधिकतर पुरूष सेक्सुअल कान्टेक्ट या इन्जेक्शन द्वारा ड्ग्स लेने से एच आई वी पाज़िटिव हो जाते हैं और लगभग 16 प्रतिशत पुरूष और 78 प्रतिशत महिलाएं हेट्रोसेक्सुअल कान्टेक्ट से एच आई वी पाज़िटिव होती हैं।


भ्रम 6


एच आई वी पाज़िटिव्स जिनकी चिकित्सा हो रही है उनसे दूसरे लोगों में एच आई वी नहीं फैल सकता।


एच आई वी की चिकित्सा अगर अच्छे से हो रही है तो आपके रक्त में वायरस की मात्रा कम हो जाती है लेकिन इस स्थिति में भी वायरस शरीर में ही छिपा होता है। ऐसी परिस्थितियों में सेफ सेक्स बहुत ज़रूरी हो जाता है।


भ्रम 7


अगर पति और पत्नी दोनों ही एच आई वी पाज़िटिव हैं तो उन्हें सेफ सेक्स की ज़रूरत नहीं होती।


एच आई वी पाज़िटिव्स के लिए सेफ सेक्स बहुत ही ज़रूरी होता है इसलिस कांडोम का इस्तेमाल करें।


भ्रम 8


अगर दोनों पार्टनर्स में से कोई एक एच आई वी पाज़िटिव है तो दूसरे को इसका पता चल जाता है।


एच आई वी का पता बिना टेस्ट के नहीं लग सकता, हो सकता है कि बहुत सालों तक इसके कोई लक्षण आपमें ना दिखंे और अचानक से बहुत से लक्षण नज़र दिखने लगें।


भ्रम 8


ओरल सेक्स से एच आई वी नहीं फैल सकता।


यह सच है कि ओरल सेक्स, सेक्स के दूसरे तरीकों से ज़्यादा सुरक्षित है लेकिन एच आई वी के साथ ओरल सेक्स करने पर एच आई वी के फैलने का खतरा रहता है इसलिए ओरल सेक्स के दौरान भी लेटेक्स बैरियर का इस्तेमाल करें।

 

Loading...
Is it Helpful Article?YES262 Votes 62159 Views 3 Comments
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK