मानसून में एलर्जी से बचने के घरेलू नुस्‍खे

आमतौर पर जुकाम, खांसी, नाक से पानी निकलना, आंखें लाल हो जाना और टांसिल जैसी बीमारियां होना शुरू हो जाती हैं। आइए हम इस मानसून में आपको एलर्जी से बचने के कुछ नुस्खों के बारे में जानकारी देते हैं।

Nachiketa Sharma
घरेलू नुस्‍खWritten by: Nachiketa SharmaPublished at: Oct 10, 2012
मानसून में एलर्जी से बचने के घरेलू नुस्‍खे

मानसून के मौसम में एलर्जी होना आम बात है। लेकिन, कुछ घरेलू उपाय आजमाकर आप इन परेशानियों से बचे रह सकते हैं। यह घरेलू उपाय आपको एलर्जी से दूर रखने में मदद करते हैं।

home remedies for allergy मानसून में बारिश का मजा सभी लेते हैं लेकिन अगर इस मौसम में आप अपने स्वास्‍थ्‍य को लेकर हल्की सी भी असावधानी बरतते हैं तो बीमारियों के शिकार हो सकते हैं। इस मौसम में गंदे पानी के संपर्क में आने से त्वचा की एलर्जी हो सकती है। एलर्जी का सबसे बडा कारण पर्यावरण में एलर्जी फैलाने वाले एलर्गन तत्वों के संपर्क में आने से होता है। आमतौर पर जुकाम, खांसी, नाक से पानी निकलना, आंखें लाल हो जाना और टांसिल जैसी बीमारियां होना शुरू हो जाती हैं। आइए हम इस मानसून में आपको एलर्जी से बचने के कुछ नुस्खों के बारे में जानकारी देते हैं।

 

मानसून में एलर्जी से बचने के उपाय

  • मानसून में चारों ओर मौजूद एलर्जन(ऐसे लोग जो एलर्जी के शिकार हैं) से बचना ही एलर्जी का सबसे अच्छा इलाज है।
  • सुबह सैर के लिए जाते समय नाक और कान किसी साफ कपड़े से अवश्य ढंक लीजिए।
  • घर में बत्ती वाले स्टोव की जगह एलपीजी या इलेक्ट्रिक स्टोव का उपयोग कीजिए।
  • घर को हमेशा बंद मत रखिए, घर को खुला और हवादार बनाए रखिए जिससे कि घर में शुद्ध हवा हमेशा आती रहे।
  • खिडकियों में पतली जाली लगवाइए और जाली वाली खिडकियों को हमेशा बंद रखिए। क्योंकि खुली खिडकी से कीडे और मच्छर आपके कमरे में घुस सकते हैं।

  • बिस्तर के कपड़ों में एलर्जी फैलाने वाले तत्व काफी अधिक होते हैं। बिस्तर की सफाई पर विशेष ध्यान रखिए।
  • एलर्जी के कारक का पता लगाने के लिए टेस्ट करा लें। उसी अनुरूप इलाज कराएँ।
  • दीवारों पर फफूंद और जाले हो गए हों, तो उन्हें साफ करते रहें। क्योंकि फफूंद के कारण भी एलर्जी हो सकती है।
  • बारिश के मौसम में फूल देने वाले प्लांट्स को घर के अदंर मत रखिए।
  • बारिश के मौसम में खुश होकर अधिक तेलयुक्त‍ खाने से परहेज कीजिए। क्योंकि अधिक तैलीय खाने से आपका गला और पेट खराब हो सकता है।
  • खट्टी या बाहर की वस्तुएं जैसे – इमली, आइसक्रीम, चिप्स मत खाइए। ठंडे पेय पदार्थ मत पीजिए।
  • इस मौसम में पानी भी खूब मात्रा में पीना चाहिए।
  • व्यायाम कीजिए, लेकिन ज्यादा थकान देने वाले व्या‍याम करने से परहेज कीजिए।
  • इस मौसम में दूध और जूस पीने की आदत डालिए।
  • सलाद और कच्ची सब्जियां कम खाएं। 



वैसे तो बारिश का मौसम स्वास्‍थ्‍य के हिसाब से बहुत अच्छा‍ माना जाता है। लेकिन, कुछ बीमारियों जैसे – अस्थमा, कैंसर, हृदय रोग से ग्रस्त रोगियों के लिए यह मौसम बहुत समस्याएं लेकर आता है। इसलिए बदलते मौसम का मजा स्वस्थ तन और मन के साथ लीजिए।

 

Read More Articles on Home Remedies for Diseases

Disclaimer