मानसिक बीमारी है नाखून चबाना

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 05, 2012

manshik bimari hai nakhun chabana

हमें बचपन में कितनी बार नाखून चबाने की अपनी आदत को लेकर डांट पड़ी होगी। और आज भी कितनी ही बार हम तनाव के समय में हम नाखून चबाते हुए सोच के सागर में गोते लगाते है। यह जानते हुए भी कि नाखून चबाने की आदत अच्‍छी नहीं है हम इससे पूरी तरह से निजात नहीं पा पाते। ऐसा नहीं है कि आम लोग ही इस आदत के शिकार हैं। आपने क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर को मैदान में अपने नाखून चबाते हुए जरूर देखा होगा। दुनिया भर में करोड़ों लोग इस आदत के शिकार हैं। मगर यह आदत दीवानगी बन जाए तो चिंता की बात है।

[इसे भी पढ़े- 10 आसान रास्ते तनाव मुक्ति के]

यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया के शोधकर्ताओं ने हालिया शोध में इस आदत के आयामों पर चर्चा की गयी है। इसमें दावा किया गया है कि नाखून चबाना सिर्फ एक गंदी आदत ही नहीं है बल्कि एक एक मानसिक बीमारी है। शोध में तो यहां तक दावा किया गया है कि इस आदत से छुटकारा पाना उतना ही मुश्किल है जितना कि धूम्रपान की लत छोड़ना।

[इसे भी पढ़े- व्यस्त दिमाग है स्वस्थ दिमाग]

चिकित्‍सा विशेषज्ञ अब नाखून चबाने की आदत को मनोरोग की श्रेणी में रखने जा रहे हैं। अमेरिकन साइकेट्री एसोसिएशन इसे 'सामान्‍य गंदी आदत' की जगह 'सनकी बाध्‍यकारी विकार' यानी ओसीडी की श्रेणी में शामिल करने जा रहा है। अमेरिकी चैनल एनबीसी ने एसोसिएशन के हवाले से बताया कि 'डायोगो‍नेस्टिक एंड स्‍टेटस्टिकल मैनुअल ऑफ मेंटल डिसऑर्डर' के आगामी संस्‍करण में नाखून कुतरने की आदत को ओसीबी श्रेणी में शामिल कर लिया जाएगा।

 

Read More Article On- Swastha samachar in hindi

Loading...
Is it Helpful Article?YES9 Votes 14401 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
I have read the Privacy Policy and the Terms and Conditions. I provide my consent for my data to be processed for the purposes as described and receive communications for service related information.
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK