लेबर पीड़ा से राहत दिलाने वाले व्यायाम

लेबर पेन (प्रसव पीड़ा) के बारे में सही जानकारी मिल जाए तो डिलीवरी के समय मन उतना आशंकित नही होता है। जानिए कौन-कौन से व्यायाम हैं जो लेबर पेन को कम कर सकते हैं।

Nachiketa Sharma
गर्भावस्‍था Written by: Nachiketa SharmaPublished at: Oct 18, 2012
लेबर पीड़ा से राहत दिलाने वाले व्यायाम

गर्भावस्था में प्रसव पीड़ा स्वाभाविक है। लेकिन इस लेबर पीड़ा को एक्सरसाइज के द्वारा कुछ हद तक कम किया जा सकता है। इस दर्द की सबसे बड़ी वजह डिलीवरी के बारे में पूरी जानकारी न होना होती है।

 

pregnancy fitnessअगर प्रेगनेंसी के दौरान डाइट और भ्रूण के स्वास्‍थ्‍य के साथ-साथ लेबर पेन (प्रसव पीड़ा) के बारे में सही जानकारी मिल जाए तो डिलीवरी के समय मन उतना आशंकित नही होता है। आइए हम आपको बताते हैं कि कौन-कौन से व्यायाम हैं जो लेबर पेन को कम कर सकते हैं।

 

 

लेबर पेन से राहत दिलाने वाले व्यायाम -

वर्कआउट - लेबर पेन से बचने के लिए गर्भवती महिलाओं को कमर और जांघ की मांसपेशियों को मजबूत बनाने वाले व्यायाम करने चाहिए। इससे भ्रूण नीचे की ओर जाता है और बर्थ कैनल में उसका सिर फिट हो जाता है। ऐसा हो जाने से डिलीवरी में आसानी होती है।

स्ट्रेथनिंग व्यायाम - प्रेगनेंसी के दौरान शरीर के इस हिस्से पर सबसे ज्यादा दबाव रहता है इसलिए प्री-प्रेगनेंसी में अक्सर महिलाओं को कमर दर्द की शिकायत होती है। लेबर पेन के दौरान कमर दर्द से बचने के लिए सबसे पहले सीधे खड़े हो जाइए, उसके बाद दोनों हाथों को ऊपर कीजिए। अब सिर को नीचे ले जाते हुए कमर ऊपर उठाइए। कुछ समय तक इस स्थिति में रहिए, फिर सामान्य स्थिति में आइए। इस एक्सरसाइज को 10 से 15 बार कीजिए।


क्रैम्‍पस के लिए -
गर्भावस्था के दौरा कमर के साथ-साथ पैरों में भी दर्द होता है। पैरों के दर्द से बचने के लिए दोनों हाथों से खुद को सहारा देते हुए दीवार की तरफ मुंह करके खड़े हो जाइए। एक टांग को आगे की तरफ लेकर आइए और लगभग 90 डिग्री का कोण बनाने की कोशिश कीजिए। इस बीच दूसरी टांग को खींचिए और दोनों पैरों को जमीन पर सपाट रखिए। एक पैर के साथ इस क्रिया को 10 से 15 सेकेंड कीजिए। उसके बाद दसरे पैर के साथ भी वैसा ही कीजिए।

मसाज के द्वारा - लेबर पेन से राहत के लिए मसाज बहुत अच्छा तरीका है, इससे दर्द बहुत कम हो जाता है। लेबर पेन होने के दौरान खुद से या किसी के द्वारा पेट पर आराम से हाथ की मालिस कीजिए। मसाज के द्वारा पेट या उसके आस-पास होने वाला दर्द कम हो जाता है।

डिलीवरी के दौरान जोश में आकर कोई भी ऐसा व्यायाम मत कीजिए जिससे आपको और भ्रूण को नुकसान हो। इसलिए डिलीवरी से पहले महिला चिकित्सक से इन एक्सरसाइज के बारे में अच्छी तरह से जानकारी ले लीजिए।

 

Read More Articles on Pregnancy Fitness in Hindi.

Disclaimer