टाइप 2 डायबिटीज होने पर अपनाएं ये 4 उपाय, लक्षणों में आएगी कमी

How to Get Rid of Type 2 Diabetes: वैसे तो टाइप 2 डायबिटीज का कोई घरेलू इलाज नहीं होता है। लेकिन इससे आप डायबिटीज के लक्षणों में कमी कर सकते हैं।

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Sep 23, 2022Updated at: Sep 23, 2022
टाइप 2 डायबिटीज होने पर अपनाएं ये 4 उपाय, लक्षणों में आएगी कमी

Type 2 Diabetes in Hindi: टाइप 2 डायबिटीज जीवनभर साथ रहने वाली एक गंभीर बीमारी होती है। इसमें शरीर उस तरह से इंसुलिन का उपयोग नहीं कर पाता है, जिस तरह से उसे करना चाहिए। टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों में इंसुलिन प्रतिरोध होता है। जिसकी वजह से उनके ब्लड में शुगर लेवल बढ़ जाता है। अधिक उम्र के लोगों में टाइप 2 डायबिटीज होने का जोखिम अधिक होता है। लेकिन कुछ लोगों को यह कम उम्र में भी प्रभावित कर सकता है।

टाइप 2 डायबिटीज हृदय, किडनी और लिवर समेत संपूर्ण स्वास्थ्य को बुरी तरह से प्रभावित कर सकता है। इस स्थिति में रोगी को ब्लड शुगर को कंट्रोल में रखने के लिए दवाइयां और इंसुलिन का सहारा लेना पड़ता है। वैसे तो टाइप 2 डायबिटीज का इलाज डॉक्टर ही कर सकते हैं, इसका कोई घरेलू या नैचुरल इलाज नहीं है। लेकिन आप घर पर इसके लक्षणों को कम करने के लिए कुछ घरेलू उपायों की मदद ले सकते हैं। घरेलू उपायों की मदद से टाइप 2 डायबिटीज के लक्षणों को कम किया जा सकता है, इससे ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल रखने में मदद मिल सकती है। तो चलिए, जानते हैं टाइप 2 डायबिटीज से छुटकारा कैसे पाएं? (How to Control Type 2 Diabetes in Hindi)- 

टाइप 2 डायबिटीज को कैसे कंट्रोल करें?- How to Get Rid of Type 2 Diabetes in Hindi

1. एक्स्ट्रा वेट को कम करें

जिन लोगों का वजन सामान्य होता है, वे अकसर स्वस्थ होते हैं। वहीं मोटापा कई बीमारियों का कारण बनता है। इसमें टाइप 2 डायबिटीज भी शामिल है। इसलिए अगर आपको टाइप 2 डायबिटीज है, तो आपको वजन कम करने की जरूरत होती है। वजन कम करके टाइप 2 डायबिटीज को कंट्रोल में रखा जा सकता है। अगर आपका ब्लड शुगर लेवल हाई रहता है, तो वजन कम करने से इसे कम करने में भी मदद मिल सकती है।

इसे भी पढ़ें- शुगर में क्या-क्या नहीं खाना चाहिए?

exercise in diabetes

2. फिजिकली एक्टिव रहें

इनएक्टिव लाइफस्टाइल को टाइप 2 डायबिटीज का मुख्य कारण माना जाता है। इसलिए अगर आपको टाइप 2 डायबिटीज है, तो आपको फिजिकली एक्टिव रहने की जरूरत होती है। फिजिकली एक्टिव रहकर आपका ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रह सकता है। इसके लिए आपको रोजाना एरोबिक एक्सरसाइज करनी चाहिए। आप वॉक, स्वीमिंग, जॉगिंग आदि भी कर सकते हैं। वहीं टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों को खाना खाने के बाद वॉक करने की आदत जरूर डालनी चाहिए। ब्लड शुगर को बढ़ने से रोकने के लिए लंबे समय तक बैठे रहने से बचें। हर आधे घंटे में खड़े हो और वॉक करें।

3. बैलेंस डाइट लें

टाइप 2 डायबिटीज रोगियों के लिए बैलेंस डाइट लेना बहुत जरूरी होता है। बैलेंस डाइट लेने से ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल में रखा जा सकता है। इसके लिए आप अपनी डाइट में विटामिन्स, मिनरल्स, प्रोटीन और फाइबर को शामिल करें। वहीं कैलोरी, अनहेल्दी फैट्स और कार्बोहाइड्रेट के सेवन से बचना चाहिए। फाइबर शर्करा के अवशोषण को धीमा करता है और ब्लड शुगर को कम करने में मदद करता है। आप सब्जियों आदि को अपनी डाइट का हिस्सा बना सकते हैं।  

इसे भी पढ़ें- डायबिटीज को कंट्रोल में रखने के लिए अपनाएं ये 5 उपाय

healthy fats in diabetes

4. हेल्दी फैट्स लें

टाइप 2 डायबिटीज के लोग सभी तरह के फैट का सेवन नहीं कर सकते हैं। उन्हें हमेशा हेल्दी फैट्स ही लेना चाहिए। लेकिन हेल्दी फैट को भी आपको कम मात्रा में ही खाना चाहिए। इसके लिए आप जैतून, सूरजमुखी, कुसुम, बिनौला और कैनोला ऑयल खा सकते हैं। इसके अलावा बादाम, मूंगफली, अलसी और कद्दू के बीज भी फायदेमंद हो सकते हैं। सैल्मन, मैकेरल, सार्डिन, टूना आदि मछलियों का सेवन कर सकते हैं। 

आपको बता दें कि टाइप 2 डायबिटीज आजीवन साथ रहने वाली एक बीमारी होती है। इसका अलावा डायबिटीज की दवाइयों और इंसुलिन की मदद से ही किया जा सकता है। इसका कोई भी घरेलू उपाज उपलब्ध नहीं है। लेकिन अच्छी जीवनशैली और डाइट की मदद से टाइप 2 डायबिटीज की वजह से बढ़ने वाला ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रह सकता है। इससे टाइप 2 डायबिटीज की वजह से होने वाली बीमारियों से भी बचाव हो सकता है। इसलिए इन उपायों के साथ ही आप डायबिटीज का इलाज भी जरूर करवाएं।

Disclaimer