इरिटेबल बोवेल सिंड्रोम होने के कारण क्या हैं

अन्य़ बीमारियांBy Onlymyhealth editorial teamSep 21, 2016

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम आंतों का रोग है, इसमें पेट में दर्द, बेचैनी व मल करने में परेशानी होती है, इसे स्पैस्टिक कोलन, इर्रिटेबल कोलन, म्यूकस कोइलटिस जैसे नामों से भी जाना जाता है। यह आंतों को खराब तो नहीं करता लेकिन खराब होने के संकेत देने लगता है। इसमें मरीज को पेट में दर्द, ऐंठन, भूख न लगना, कब्ज या दस्त लग जाना जैसे लक्षण नजर आते हैं। वहीं कुछ मरीजों में इन लक्षणों के अलावा, जी मिचलाना, मल में असामान्य तरल निकलना जैसे लक्षण भी देखे जाते हैं।कुछ मरीजों में एक निश्चित तरह का खाद्यपदार्थ उपयोग करने से परेशानी बढ़ती है, जैसे चॉकलेट, फूल गोभी, दूध, बीन्स आदि। अधिकतर रोगियों में तनाव के समय यह समस्या अधिक रहती है। तनाव होने पर आम तौर पर एड्रिनल ग्रंथियों से एड्रेनैलिन और कॉर्टिसॉल नाम के हार्मोनों का स्राव होता है। तनाव की वजह से पूरे पाचन तंत्र में जलन होने लगती है जिससे पाचन नली में सूजन आ जाती है और इस सबका नतीजा यह होता है कि पोषक तत्वों का शरीर के काम आना कम हो जाता है। महिलाओं में हार्मोनल बदलाव भी आईबीएस की वजह हो सकता है। कई महिलाओं में यह समस्या माहवारी के दिनों के आसपास बढ़ जाती है।संवेदनशील कोलन या कमजोर रोग-प्रतिरोधक क्षमता के कारण यह समस्या पैदा हो सकती है। कई बार पेट में बैक्टीरियल इंफेक्शन के कारण भी आईबीएस हो सकता है। माइल्ड सेलिएक डिसीज के आंतों को डैमेज करने के कारण आईबीएस के लक्षण उभरने लगते हैं।

Disclaimer