आयुर्वेदBy Onlymyhealth editorial teamJun 11, 2020

आयुर्वेद के अनुसार, पंचामृत पीने से संक्रमण से बचाव होता है। पंचामृत का अर्थ है पांच अमृत, जो पांच पवित्र वस्तुओं से बना है। यह मिश्रण दूध, दही, घी, चीनी और शहद को मिलाकर बनाया गया पेय है, जिसे देवताओं का भोजन कहा जाता है। प्रसाद के रूप में भी इसका बहुत महत्व है। इसके साथ ही भगवान का अभिषेक भी किया जाता है। पीते समय, यह व्यक्ति के भीतर सकारात्मक भावनाओं को पैदा करता है। पंचामृत के महत्व का उल्लेख कुछ ग्रंथों में किया गया है कि जो व्यक्ति पंचामृत का व्रत करता है उसे जीवन में सभी प्रकार की सुख-समृद्धि प्राप्त होती है। भगवान को अर्पित किए गए पंचामृत को पीने से व्यक्ति जन्म और मृत्यु के बंधन से मुक्त हो जाता है और मोक्ष को प्राप्त करता है। आयुर्वेद चिकित्सक और योग विशेषज्ञ डॉ सुरेंदर कटोच इस वीडियो में वह आयुर्वेद के लाभों के बारे में बता रही हैं और साथ उन्‍हेंने यह भी बताया है कि आप नोवेल कोरोनो वायरस संकट के दौरान अपनी प्रतिरक्षा कैसे बढ़ा सकते हैं?

Watch More Video On Health Talk In Hindi

Disclaimer