दांतो में सबसे आम समस्याएं

दंत स्वास्‍थ्‍य By Onlymyhealth editorial teamOct 26, 2016

पायरिया दांतों की एक गंभीर बीमारी है जो अमूमन चालीस की उम्र के बाद होती है। पायरिया में दांतों के आसपास की मांसपेशियों संक्रमित होकर दांतों को हानि पहुंचाती है। यह बीमारी स्वास्थ्य से जुड़े अनेक कारणों से होती है, और सिर्फ दांतों से जुड़ी समस्याओं तक सीमित नहीं होतीं। पायरिया की समस्‍या दांतों और मसूड़ों पर निर्मित हो रहे जीवाणुओं के कारण होती है।


दांतों में छेद होने को वैज्ञानिक भाषा में दन्त क्षय या कैविटी कहते है। मुंह में मौजूद एसिड के कारण दांतों के इनेमल खोखले होने लगते हैं जिसके कारण कैविटी का निर्माण होता है। मुंह में मौजूद बैक्‍टीरिया (लार, खाद्य कणों एवं अन्य पदार्थों के साथ) दांतों कि सतह पर जमा होने लगते हैं जिसे प्लॉक कहा जाता है। प्‍लॉक में मौजूद बैक्‍टीरिया आपके खाने में मौजूद शुगर एवं कार्बोहाइडेट को अम्ल में परिवर्तित कर देता है इसी अम्ल के कारण दांत खोखले होने लगते हैं, फलत: कैविटी का निर्माण होता है।


इसके अलावा सेंसिटीविटी भी दांतों की एक समस्या है जिसमें कुछ भी गर्म या ठंडा खाने से दांतों में कनकनी महसूस होती है।


दांतों की इन आम समस्याओं के बारे में विस्तार से जानने के लिए ये वीडियो देखें।

Disclaimer