कब्‍ज के कारण रो रहा है आपका बच्‍चा? तो इन 5 तरीकों से करें बचाव

अक्‍सर कब्‍ज के कारण नवजात शिशुओं में चिड़चिड़ेपन की आदत देखने को मिलती है। हालांकि उनकी ये आदत ज़ायज है क्‍योंकि वह कुछ भी बोलकर बता नहीं सकते हैं। कई बार जब उन्‍हें मां का दूध पीने को नहीं मिलता है तब भी ऐसी समस्‍या देखने को मिलती है, कृत्रिम दूध पिलाने से भी अक्‍सर नवजात शिशुओ में कब्ज की समस्‍या देखने को मिलती है।

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Jan 17, 2018

कब्‍ज से दूर रखता है

कब्‍ज से दूर रखता है
1/5

बच्चे में कब्ज को दूर करने का एक आम तरीका है की आप उसके खान पान का कार्यक्रम बदल दे और बच्चे को फोर्मुला छोटी छोटी मात्रा में दे, जिसमे की उसको बार बार खिलाये जो की बच्चे के पूरे दिन भर के समय का उपयोग कर लेते है।

ये है तरीका

ये है तरीका
2/5

अगर आप बच्चे को फोर्म्युला से खिला रहे हैं तो उसके खाने में पानी की अतिरिक्त बोतल जोड़ दे जो की उसे कब्ज में आराम देगी क्योंकि वो उसके खाने में पानी की मात्रा को बाधा देगी।

टब में नहलाएं

टब में नहलाएं
3/5

बच्चे को टब या सिंक में नहलाने से जिसमे की पानी बच्चे के पेट के स्तर से ऊपर भरने से भी बच्चे को मदद मिल सकती है। गर्म पानी के अंदर बच्चे के पेट की मालिश करने से भी बच्चे की  आंत उत्तेजित हो जाती है और मल निकालने में आसानी हो जाती है जिसकी वजह से उसे कब्ज से राहत मिल जाती है।

खानपान

खानपान
4/5

यह बात नवजात शिशुओ के लिए नहीं है पर यह बात उन बच्चों पर लागू होती है जो की थोड़े बड़े है और जो की सख्त खाना, कच्चे नाशपाती खा सकते है जिनमे की रेशो की मात्रा बहुत ज्यादा होती है और ये कब्ज से निपटने में मदद करते हैं और आप चावल की जगह बाजरे का भी प्रयोग कर सकते हैं क्योंकि बाजरा से कब्ज कम होता है।

आसान नुस्‍खे

आसान नुस्‍खे
5/5

अगर ये आसान से घर में किये जाने वाले नुस्खे बच्चे में कब्ज की शिकायत को दूर नही कर पा रहे हैं तो बच्चे के बाल रोग विशेषग्य से ज़रूर मिले। बच्चे ग्लिसरीन सपोजिटरी, तरल ग्लिसरीन और फ्लेक्स सीड आयल से भी सही हो सकता है। नवजात शिशुओ में कब्ज से लड़ना अभिभावकों के लिए दुखदायी हो सकता है लकिन इससे लड़ने के कई आसान और प्रभावशाली तरीके भी हैं।

Disclaimer