वजन घटाने के ये संकल्‍प आपके लिए हो सकते हैं नुकसानदेह

वजन घटाने से जुड़े संकल्प हर साल तमाम लोगों द्वारा लिये जाते हैं। एक फर्म द्वारा किये गए सर्वेक्षण से पता चला है कि 30 फीसदी संकल्प फरवरी आने के पहले ही टूट जाते हैं। इसी से आप अंदाजा लगा सकते हैं कि वजन घटाने सम्बंधित संकल्प कितने दिन ही चल पाते होंगे। यही कारण है कि वजन घटाने से सम्बंधित कुछ संकल्प हमें कभी नहीं लेने चाहिए।

Meera Roy
Written by: Meera RoyPublished at: Dec 28, 2015

मुझे अपना 5 से 7 किलो वजन कम करना है

मुझे अपना 5 से 7 किलो वजन कम करना है
1/5

सोचने भर से वजन कम नहीं होते। इसके लिए अथक शारीरिक परिश्रम करना पड़ता है। डाइट के कड़े नियमों का पालन करना पड़ता है। साथ ही एक्सरसाइज भी करना पड़ता है। इसके बाद जाकर कहीं कुछ किलो वजन कम होता है। लेकिन जो कई सालों से हो न सका हो, उसके लिए नए संकल्प की विशेष आवश्यकता नहीं रह जाती। अतः इस तरह के संकल्प करने से बचें ताकि इसके बाद में इसके टूटने का मलाल न हो।Image Source-getty

मैं एक दिन में सिर्फ 900 कैलोरी लूंगा

मैं एक दिन में सिर्फ 900 कैलोरी लूंगा
2/5

इसमें कोई दो राय नहीं है कि वजन घटाने हेतु कम से कम कैलोरी ली जाए तो यह उपाय कारगर हो सकता है। लेकिन विशेषज्ञों की मानें तो कम कैलोरी लेने से शरीर कमजोर भी होने लगता है और तबियत भी खराब हो जाती है। यही नहीं चेहरे की चमक में भी कमी आने लगती है। अतः वजन घटाने के लिए एक दिन में सिर्फ 900 कैलोरी लेने के इस संकल्प को भी दरकिनार करें।Image Source-getty

मैं नाश्ता नहीं करूंगा

मैं नाश्ता नहीं करूंगा
3/5

यदि आप वजन घटाने के लिए नाश्ता छोड़ने का संकल्प ले रहे हैं तो आपको यह बताते चलें कि नाश्ता न करना कोई समझदारी नहीं है। अतः इस तरह के संकल्प न लें। विशेषज्ञों की मानें तो वजन घटाने हेतु नाश्ता छोड़ना बेवकूफी है। वास्वत में नाश्ता हमारे शरीर के लिए आवश्यक है। यदि हम नाश्ता छोड़ देते हैं तो यकीन मानिए मोटापा हमसे दूर जाने की बजाय हमें अपनी जद में ले सकता है।Image Source-getty

जंक फूड छोड़ दूंगा

जंक फूड छोड़ दूंगा
4/5

जंक फूड छोड़ने का संकल्प न जाने कितने लोग हर साल लेते हैं। लेकिन इसका कोई खास नतीजा सामने नहीं आता। असल में जंक फूड ऐसे आहार में शामिल है जो छुटाए नहीं छूटता है। इसलिए जंक फूड को छोड़ने का संकल्प करना खुद से बेमानी करना होगा। विशेषज्ञों की मानें तो जंक फूड छोड़ने की बजाय कम खाने की कोशिश करें।Image Source-getty

मैं रात 9 बजे के बाद नहीं खाउंगा

मैं रात 9 बजे के बाद नहीं खाउंगा
5/5

इस दौड़भाग भरी जिंदगी में इस तरह के संकल्प बेबुनियादी प्रतीत होते हैं। दरअसल रात के 9 बजे के बाद खाना न खाने का संकल्प कारगर होना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है। इसकी एक बड़ी वजह यह है कि मौजूदा जीवनशैली सिर्फ दिन पर आश्रित नहीं है। नाइट लाइफ का कल्चर तेजी से विकसित हुआ है। ऐसे में रात 9 बजे के बाद न खाने का संकल्प बेकार और निरर्थक है।Image Source-getty

Disclaimer