कहीं आप गलत विटामिन तो नहीं ले रहे हैं?

कई बार लोग सदा स्वस्थ व जवान बने रहने के लिए व अज्ञानता के चलते मल्टीविटामिन लेने लगते हैं, लेकिन बिना सही जानकारी और डॉक्टर की सलाह के विटामिन लेना हानिकार साबित होता है।

Rahul Sharma
Written by: Rahul SharmaPublished at: Aug 22, 2014

विटामिन कब, क्यों और कैसे

विटामिन कब, क्यों और कैसे
1/10

जवान और सदा स्वस्थ बने रहने के लिए विटामिन लेकर कहीं आप खुद को नुकसान तो नहीं पहुंचा रहे हैं! जी हां अति हर चीज की बुरी होती है फिर चाहे व अच्छी हो या फिर बुरी। यह बात उन विटामिनों पर भी लागू होती है जिन के बारे में कहा जाता है कि वे स्वास्थ के लिए लाभदायक हैं। तो चलिये जानें कि क्या कहीं हम भी तो गलत विटामिन तो नहीं ले रहे हैं?Image courtesy: © Getty Images

विटामिन का राज़

विटामिन का राज़
2/10

अक्‍सर कहा जाता है कि यह खाओ नहीं तो शरीर में विटामिन की कमी हो जाएगी। लेकिन हम यह नहीं जानते कि कौन से विटामिन की कमी की के कारण शरीर में कौंन – कौंन से रोग हो सकते हैं। हमें केवल कुछ सामान्य सी चीजें ही मालूम होती हैं, जो काफी नहीं हैं। Image courtesy: © Getty Images

अधूरा ज्ञान बने समस्या का कारण

अधूरा ज्ञान बने समस्या का कारण
3/10

जब एक 40 वर्षीय व्यवसायी को किसी ने बताया कि यदि वह विटामिंस और अन्य सप्लीमैंट रोजाना लेता रहेगा तो हमेशा स्वस्थ और जवान बना रहेगा। अतः वह रोज सुबह और शाम विटामिंस व सप्लीमैंट्स की 8 गोलियां लेने लगा। कुछ ही दिनों बाद उसे हृदय रोगों और मधुमेह की शिकायत होने लगी। Image courtesy: © Getty Images

विटामिन का उल्टा असर

विटामिन का उल्टा असर
4/10

यदि विटामिंस भी अधिक मात्रा में और लंबे समय तक लिये जाएं तो आपके शरीर को नुकसान होगा। विटामिन ए, डी, ई और की शरीर में अधिक मात्रा टॉक्सिक या जहरीले स्तर तक पहुंच सकती है। यदि आप सही से भोजन कर रहे हैं और आप को किसी बीमारी की शिकायत नहीं है तो आप को मल्टीविटामिंस लेने की कोई जरूरत नहीं होती है। इन्हें डॉक्टर की सलाह से ही लेना चाहिए।  Image courtesy: © Getty Images

विटामिन क्‍या होते है

विटामिन क्‍या होते है
5/10

विटामिन एक प्रकार के आर्गेनिक कम्‍पाउंड हैं जो शरीर को चलाने में सहायता करते हैं। शरीर के प्रत्येक भाग को उसके काम के हिसाब से अलग – अलग विटामिन की जरूरत होती है। मनुष्‍य और जानवरों के शरीर की विटामिन की जरूरतें अलग – अलग होती हैं। उदाहरण के तौर पर इंसान के शरीर को जिस चीज के लिए विटामिन C की जरूरत पड़ती है, जानवरों को उसी काम के लिए विटामिन D की जरूरत होती है।Image courtesy: © Getty Images

किस रूप में मिलता है विटामिन

किस रूप में मिलता है विटामिन
6/10

विटामिन, सभी सब्जियों और फलों में होता है। दूध, मछली, मीट, हरी पत्‍तेदार सब्‍जी और अनाज व फलों में अलग – अलग प्रकार के विटामिन मिलते हैं। आजकल बाजार में विटामिन के कैप्‍सूल और टेबलेट भी उपलब्ध हैं जो किसी विशेष विटामिन की कमी को पूरा  करने के लिए डॉक्‍टर्स द्वारा रिकमेंड किये जाते हैं। Image courtesy: © Getty Images

हो सकती हैं दिक्कतें

हो सकती हैं दिक्कतें
7/10

बिना डॉक्टरी सलाह के विटामिन लेने से हाइपरविटामिनोसिस (शरीर में विटामिन की अधिकता से होने वाला रोग), पेट से संबंधित समस्याएं, डायरिया जैसी दिक्कतें हो सकती हैं। वहीं विटामिन सी या जिंक की अधिकता से डायरिया, क्रैंप, गैस्ट्रिक, थकान और घबराहट जैसी दिक्कतें हो सकती हैं। Image courtesy: © Getty Images

विटामिन की कमी से होने वाले रोग

विटामिन की कमी से होने वाले रोग
8/10

vitamin A - रतौंधी, हाइपरकेराटोसिस vitamin B1 – बेरीबेरीvitamin B2 - ऐरीवसेफ्लेवनोसिसvitamin B3 – पेलिग्राvitamin B5 – पेस्‍थेसियाvitamin B6 – एनीमियाvitamin B7 – डर्मीटेटिसvitamin B9 – बर्थ डिफेक्‍टसvitamin B12 – मेगालोब्‍लास्टिक एनीमियाvitamin C – स्‍कर्वीvitamin D – रिकेट्सvitamin E – हीमोलाइटिक एनीमियाvitamin K – ब्‍लीडिंग डाइथेसिसImage courtesy: © Getty Images

कब लें मल्टीविटामिन

कब लें मल्टीविटामिन
9/10

एक सीमित मात्रा में मल्टीविटामिन गोलियों से कोई नुकसान नहीं होता लेकिन इन पर निर्भरता बिल्‍कुल भी ठीक नहीं है। लेकिन आमतौर पर डॉक्टर विशेष परिस्थितियों में मल्टीविटामिन सप्लीमेंट लेने की सलाह देते हैं। जैसे, किसी लंबी बीमारी या सर्जरी से उबरने, हेवी दवाओं के साथ, बढ़ती उम्र में महिलाओं में विटामिन और अन्य पोषक तत्वों की कमी को पूरा करने के लिए या फिर शरीर में विटामिन बी12, फोलिक एसिड व आयरन की कमी होने पर। Image courtesy: © Getty Images

मल्टीविटामिन के विकल्प

 मल्टीविटामिन के विकल्प
10/10

अच्छी हेल्दी डाइट और घर के बने खाने से बेहतर विटामिन कोई विकल्प कोई नहीं है। सप्लीमेंट्स के रूप में कॉर्नफ्लेक्स, दाल, दलिया आदि लें। एक दिन में चार अलग-अलग रंग के फल खाएं, दूध व डेयरी उत्पाद खूब लें, तथा नट्स खासतौर पर बादाम का सेवन रोज करें।image courtesy : getty images

Disclaimer