महिलाओं द्वारा वजन प्रशिक्षण से प्यार की हैं ये पांच वजहें

महिलाओं की जानकारी के लिए यह जानना जरूरी है कि वेट लिफ्टिंग न सिर्फ उन्हें स्वस्थ जीवन देता है बल्कि सुंदर काया भी प्रदान करता है। असल में वेट लिफ्टिंग के साथ कई भ्रांतियां जुड़ी है।

Meera Roy
Written by:Meera RoyPublished at: Nov 09, 2015

महिलाएं इसलिये करती हैं वेट ट्रेनिंग पसंद

महिलाएं इसलिये करती हैं वेट ट्रेनिंग पसंद
1/6

ऐसी बहुत कम ही महिलाएं देखने को मिलती हैं जिन्हें वजन प्रशिक्षण में रुचि हो। यही वजह है कि जिम में अकसर वेट लिफ्टिंग रूम में महिलाओं की तुलना में पुरुष ज्यादा दिखायी देते हैं। लेकिन महिलाओं की जानकारी के लिए यह जानना जरूरी है कि वेट लिफ्टिंग न सिर्फ उन्हें स्वस्थ जीवन देता है बल्कि सुंदर काया भी प्रदान करता है। असल में वेट लिफ्टिंग के साथ कई भ्रांतियां जुड़ी है। लोगों को लगता है कि महिलाएं यदि वेट लिफ्टिंग करेंगी तो वे पुरुषों जैसी दिखने लगेंगी। उनमें स्त्रीत्व खत्म हो जाएगा। विशेषज्ञों के मुताबिक जबकि यह सरासर मिथ्य है। शारीरिक गठन के चलते यह संभव हो ही नहीं सकता। पुरुषों में मुख्य हारमोन यानी टेस्टोस्ट्रोन महिलाओं की तुलना में आठ गुणा ज्यादा है। मतलब यह कि पुरुषों में मसल हासिल करने की महिलाओं से काफी ज्यादा क्षमता है। बहरहाल महिलाओं को वेट लिफ्टिंग इन निम्न वजहों से करनी चाहिए-

आदर्श शारीरिक आकार

आदर्श शारीरिक आकार
2/6

सुंदर काया हासिल करने के लिए वेट ट्रेनिंग आपकी मदद कर सकता है। आप सोच रहे होंगे कैसे? भारी वजन उठाने से शारीरिक आकार बेडौल हो जाता है। जबकि ऐसा नहीं है। असल में जब वेट लिफ्टिंग के दौरान सबसे ज्यादा फोकस आपकी वसा को कम करने में होता है। वसा कम करके ज्यादा से ज्यादा वेट लिफ्ट करना होता है। इसमें अच्छा खासा वर्कआउट भी करना होता है। अतः आपका सौंदर्य इसमें छलकने लगता है।

वर्कआउट में तड़का

वर्कआउट में तड़का
3/6

नियमित रूप से वर्कआउट करना अकसर बोरियत भरा महसूस होता है। इस बोरियत को खत्म करने के लिए महिलाएं वेट लिफ्टिंग कर सकती है। इसके दौरान मस्ती की जा सकती है। असल में नियमित वर्कआउट में या तो आप ट्रेडमिल पर घंटों चलती हैं या फिर रटी रटाई एक्सरसाइज से ही खुद को फिट करने की कोशिश करती हैं। जबकि वेट लिफ्टिंग में फन यानी मस्ती हो सकती है। कहने का मतलब यह कि वेट लिफ्टिंग वर्कआउट में तड़के का काम करता है।

आत्मविश्वास बढ़ता है

आत्मविश्वास बढ़ता है
4/6

स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि लगातार वजन प्रशिक्षण करने से आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होती है। असल में जब आप वेट लिफ्टिंग करती हैं तो अन्य महिलाओं की तुलना में भारी सामान आसानी से उठा लेती हैं। यही नहीं बाहर आप खुद को ज्यादा सुरक्षित भी महसूस करती हैं। यही कारण है कि आपके चेहरे पर एक चमक हमेशा बनी रहती है। यह आपके आत्मविश्वास की ही चमक होती है। इसके अलावा आप अति सक्रिय भी रहना सीख जाती हैं।

तनाव मुक्ति

तनाव मुक्ति
5/6

वजन प्रशिक्षण को यदि आप तनाव मुक्त करने का डोज़ कहें तो ज़रा भी गलत नहीं होगा। असल में वेट लिफ्टिंग की वजह से आप आज में जीना सीख जाती है। वेट लिफ्टिंग के दौरान आपका ध्यान नहीं भटकता। जबकि एक्सरसाइज करते हुए या फिर ट्रेड मिल पर चलते हुए ऐसा नहीं होता। आपका ध्यान पुरानी बातों की ओर जा सकता है। इससे तनाव आपको घेरे रहता है। वेट लिफ्टिंग एक्सरसाइज करने से मस्तिष्क से एंडोर्फिन नामक रसायन रिलीज़ होता है जो कि तनाव के लिए जिम्मेदार होता है। मतलब यह कि एंडोर्फिन रिलीज़ होने से तनाव छूमंतर हो जाता है।

स्वास्थ्य और आयु में वृद्धि

स्वास्थ्य और आयु में वृद्धि
6/6

पुरुषों की तुलना में वेट लिफ्टिंग से महिलाओं को ज्यादा लाभ पहुंच सकता है। महिलाएं अति संवेदनशील होती हैं। उन्हें ओस्टोपोरोसिस होने का खतरा महिलाओं से ज्यादा होता है। जबकि वेट लिफ्टिंग से इसकी आशंका को कम किया जा सकता है। असल में वेट लिफ्टिंग से हड्डियों के घनत्व में बढ़ोत्तरी होती है जिससे कि हड्डियां मजबूत होती हैं। इसके अलावा वेट लिफ्टिंग ब्लड शुगर के स्तर को भी नियंत्रित करता है, जिससे कि टाइप 2 डायबिटीज होने का खतरा कम हो जाता है। इतना ही नहीं वेट लिफ्टिंग से हड्डियों से जुड़ी बीमारियां भी कम होती है। उम्र ढलने के साथ जो बीमारियां दस्तक दे रही होती हैं, उन्हें भी वेट लिफ्टिंग के जरिये टाटा बाय बाय किया जा सकता है।

Disclaimer