इन कारणों से बचे हुए आहार का न करें सेवन

By:Pooja Sinha, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Apr 14, 2015
व्यस्त दिनचर्या के चलते अधिकांश कामकाजी लोगों के लिए सुबह-शाम ताजा भोजन बनाना संभव नहीं होता इसलिए वह बासी भोजन खाने लगते हैं, जिसके कारण कई तरह की बीमारियां होने लगती हैं, इसलिए बासी भोजन से बचना जरूरी है।
  • 1

    बासी भोजन के नुकसान

    भागदौड़ भरी इस जिंदगी में खान-पान पर ध्‍यान देना बहुत कठिन होता जा रहा है। इसके काराण मोटापा, हृदयरोग, कोलेस्ट्रोल जैसी समस्याओं में बढ़ोतरी हो रही है। इन समस्‍याओं की मुख्‍य जड़ है बचा हुआ या बासी भोजन खाना। व्यस्त दिनचर्या के चलते अधिकांश कामकाजी महिलाओं के लिए सुबह-शाम ताजा भोजन बनाना संभव नहीं होता। साथ ही ताजे टमाटरों की बजाय टोमेटो प्यूरी या पाउडर को प्रयोग में लाया जाता है। आटा अधिक गूंथकर रखा जाता है, ताकी वह कई दिनों तक चल सके। इसके अलावा सुबह की सब्जी शाम को या शाम की सब्जी का सुबह सेवन किया जाता है। इनके कारण संक्रमण और दूसरी पेट की बीमारियां होती हैं।
    Image Courtesy : Getty Images

    बासी भोजन के नुकसान
    Loading...
  • 2

    पनपते हैं बैक्‍टीरिया

    जब हम ताजा बना खाना खाते है तो बैक्‍टीरिया और अन्‍य सूक्ष्‍मजीवों का समावेश होने का खतरा कम रहता है। खाने को बनाने के तुरंत बाद फ्रिज में नहीं रखना चाहिए बल्कि कमरे के तापमान के अनुसार होने पर करना चाहिए क्‍योंकि ऐसा करने से सूक्ष्‍मजीव कई गुणा होकर आपके भोजन खराब होने का कारण बनते हैं।
    Image Courtesy : Getty Images

    पनपते हैं बैक्‍टीरिया
  • 3

    दूसरे आहार भी हो जाते हैं दूषित

    फ्रिज का इस्तेमाल करें मगर यह ध्यान रहे कि फ्रिज में रखा अधिक पुराना भोजन प्रयोग न करें। यह आपके स्वास्थ्य हेतु हानिकारक हो सकता है। बैक्‍टीरिया और अन्‍य सूक्ष्‍मजीवों के साथ आहार फ्रिज में रखने से वह फ्रिज में रखें अन्‍य आहार को भी दूषित कर सकते हैं। जो आहार आपको लगता है कि आपने सुरक्षित रूप से जमा किया है वह खाद्य पदार्थ खराब होकर बीमारी के विकास की आंशका को बढा सकते हैं।
    Image Courtesy : Getty Images

    दूसरे आहार भी हो जाते हैं दूषित
  • 4

    समाप्‍त हो जाती है पौष्टिकता

    लंबे समय तक भोजन को फ्रिज में रखने से इनमें पोषक तत्‍वों की कमी होने लगती है। पोषक तत्वों की हानि के साथ, खाद्य पदार्थ बेकार हो जाते है। इसलिए, बचे हुए खाने को लंबे समय तक स्‍टोर नहीं किया जाना चाहिए।
    Image Courtesy : Getty Images

    समाप्‍त हो जाती है पौष्टिकता
  • 5

    फूड पाइजनिंग का खतरा

    बासी खाना खाने से आपको फूड पाइजनिंग की समस्‍या हो सकती है। अधिक समय तक रखा हुआ भोजन स्वास्थ्य के लिये फायदेमंद नहीं होता क्योंकि इसमें स्वास्थ्य को हानि पहुंचाने वाले बैक्टीरिया उत्पन्न हो जाते है।
    Image Courtesy : Getty Images

    फूड पाइजनिंग का खतरा
  • 6

    डायरिया की समस्‍या

    फ्रिज में रखा खाना बार बार-बार गरम व ठंडा करने की इस प्रक्रिया के दौरान भोजन में विद्यमान आवश्यक पोषक पदार्थ तो नष्ट होते ही हैं, साथ ही इनमें हानिकारक जीवाणुओं का समावेश भी हो जाता है। और इस खाने को खाने से आपको डायरिया की समस्‍या भी हो सकती है।
    Image Courtesy : Getty Images

    डायरिया की समस्‍या
  • 7

    डेयरी प्रोडक्‍ट में बैक्‍टीरिया

    बासी भोजन में तो बैक्टीरिया पनपते ही हैं, साथ ही साथ डेयरी प्रोडक्ट्स में भी बैक्टीरिया बहुत तेजी से बढ़ते हैं। इसलिए डेयरी प्रोडक्ट्स पाश्चरीकृत होने चाहिये ताकि उनमें बैक्टीरिया न पनप सकें। पाश्चरीकृत दूध और पाश्चरीकृत दूध से ही बने दूध के अन्य उत्पादों का सेवन करना चाहिये। ये आपको नुकसान नहीं पहुंचाएंगे और शरीर के लिये भी पौष्टिक होंगे।
    Image Courtesy : Getty Images

    डेयरी प्रोडक्‍ट में बैक्‍टीरिया
  • 8

    बचा हुआ खाना कब तक करें प्रयोग

    तीन से अधिक दिनों के लिए कभी फ्रिज में न रखें। अगर मीट को फ्रिज में रखना है तो इन्‍हें फ्रिज में कवर करके दूसरे खाने से अलग रखें। अगर आप बचा हुआ खाना खा भी रहें हैं तो इसे पहले लगभग 70 डिग्री सेल्सियम पर ठीक से गर्म कर लें। यूनाइटेड स्टेट्स डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चर के अनुसार, बचे हुए खाने को 3 से 4 दिनों के लिए और फ्रोजन फूड को 3 महीने तक रखा जा सकता है। हालांकि वह उपभोग के लिए सुरक्षित होते हैं लेकिन लंबे समय तक रखने से वह नमी और स्‍वाद खो देते हैं।
    Image Courtesy : Getty Images

    बचा हुआ खाना कब तक करें प्रयोग
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK