इसलिए बेवफा पतियों को नहीं छोड़ पाती पत्नियां

पति, पति होते हैं और पत्नी, पत्नी। पति तुरंत तलाक दे देते हैं जबकि पत्नियां दस बार सोचकर भी ये फैसला नहीं कर पाती। पत्नियों के लिए बेवफा पति को नहीं छोड़ पाने के चार कारण प्रमुख हैं।

Gayatree Verma
Written by: Gayatree Verma Published at: Mar 14, 2016

रिश्ते में धोखा

रिश्ते में धोखा
1/5

शहरीकरण और ऑफिस वर्क कल्चर ने आज रिश्तों को मुश्किल बना दिया है। ऑफिस में पुरुष-महिला के एक साथ काम करने और फ्रैंडली इन्वायरमेंट होने के कारण एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर्स सामान्य बात हो गई है जिसे पत्नियों ने भी ना चाहते हुए भी चुप्पी भरी हामी दे दी है। क्योंकि पति चाहे जैसे भी हों पत्नियों को उनको छोड़ना हमेशा से मुश्किल रहा है जिसके बारे में पति को भी होता है और इसके पीछे जो कारण हैं ये भी पतियों को अच्छी तरह मालुम होते हैं।

बच्चों का भविष्य

बच्चों का भविष्य
2/5

जेंडर इक्विलीटी के दौर में अब भी बच्चों की सारी जिम्मेदारी मां पर ही है जो महिला के पैरों की बेड़ियां बन जाती हैं। बेवफा पति को झेलने का सबसे बड़ा कारण है बच्चों के भविष्य की चिंता जो आधे से अधिक महिलाओं को होती है।

कम्फर्टेबल नहीं

कम्फर्टेबल नहीं
3/5

एक लंबे वक्त के बाद किसी ओर के साथ जिंदगी की शुरुआत करने का डर भी महिलाओं को बेवफा पतियों को छोड़ने से रोकता है। सबसे ज्यादा डर कम्फर्टेबिलिटी की होती है। उसके बाद ये डर भी होता है कि दूसरा भी पहले की तरह निकले, तो क्या होगा? इन डर के कारण पत्नियां कोई स्टेप नई उठा पाती।

खुद को कसूरवार मानना

खुद को कसूरवार मानना
4/5

पति की बेवफाई में अधिकतर महिलाएं खुद को ही कसूरवार मानती हैं। पत्नियां सोचती हैं कि उन्होंने ही सही से देखरेख नहीं की जिस कारण पती को प्यार की तलाश बाहर करनी पड़ी। ऐसा सचने के बाद तो महिलाएं पति की सुख-सुविधाओं का और अधिक ख्याल रखने लगती हैं।

डर लगना

डर लगना
5/5

बेवफा पतियों को छोड़ने से रोकने की दो सबसे बड़े कारण है - परिवार और सोसाइटी। अब भी हमारी सोसाइटी में अकेली महिला को शक की निगाह से देखा जाता है जिसका सामना करने से अधिकतर महिलाएं डरती हैं। साथ ही अगर वो पति को छोड़ने का फैसला कर भी लेती हैं तो भविष्य की चिंता सताने लगती है। मायके जा नहीं सकती और इस उम्र में करियर की शुरुआत होगी नहीं।

Disclaimer