गर्लफ्रेंड से ज्‍यादा भरोसेमंद होते हैं ब्रेस्‍ट फ्रेंड, जानें क्‍यों

गर्लफ्रेंड या बेस्ट फ्रेंड, किसे तरजीह दी जाए? ये सवाल हर उस शख्स की जिंदगी में बार-बार आता है जिसके पास दोनों होते हैं, अगर आप भी इसी सवाल में फंसा हुआ महसूस कर रहे हैं तो ये आर्टिकल आपकी मदद कर सकता है।

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Dec 29, 2017

गर्लफ्रेंड या बेस्ट फ्रेंड

गर्लफ्रेंड या बेस्ट फ्रेंड
1/8

एक लड़के की जिंदगी के सबसे मुश्किल हालातों में से ये भी होता है कि जब उसे अपने बेस्ट फ्रेंड और गर्लफ्रेंड में से किसी एक को चुनना पड़ता है। किसी भी रिलेशनशिप में ये समस्या जरूर आती है। जहां लड़के अपनी गर्लफ्रेंड को बहुत प्यार करते हैं लेकिन उनकी जिंदगी में अपने बेस्ट फ्रेंड की भी एक खास जगह होती है। दोनों में से किसी एक को चुनने का सवाल हर लड़के के लिए एक बड़ी मुसीबत होता है लेकिन हम आपको कुछ ऐसे कारण बता रहे हैं ऐसे में आप अपने बेस्ट फ्रेंड को ही चुनें।Image Source - Gettty Images

नहीं करना पड़ता इंप्रेस

नहीं करना पड़ता इंप्रेस
2/8

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपका रिलेशनशिप कितना नया या पुराना है। आपको हर वक्त अपनी गर्लफ्रेंड को इंप्रेस करने के बारे में सोचना पड़ता है। लेकिन दोस्तों के साथ ऐसी किसी चीज की जरूरत नहीं पड़ती। दोस्त आपसे कोई खास उम्मीद नहीं लगाते, इसलिए उनके सामने आप जैसे हैं वैसे रह सकते हैं। दोस्ती दोनों लोगों के बीच का एक ऐसा रिश्ता है जिसके लिए कोई मेहनत नहीं करनी पड़ती। Image Source - Gettty Images

ज्यादा वक्त नहीं मांगते दोस्त

ज्यादा वक्त नहीं मांगते दोस्त
3/8

आप अपने दोस्त से हफ्ते में एक बार मिलें, महीने में एक बार मिले या फिर महीनों न मिले। कितने भी दिनों के बाद दोस्त से मिलने पर आपके बीच का रिश्ता वैसा ही रहेगा, गर्मजोशी में कोई फर्क नहीं आएगा। लेकिन क्या आप अपनी गर्लफ्रेंड के साथ ऐसा कर सकते हैं? कोशिश करके देखिए! Image Source - Gettty Images

ज्यादा ईमानदार सलाह देते हैं

ज्यादा ईमानदार सलाह देते हैं
4/8

जिंदगी में कई ऐसे मोड़ आते हैं जब आपको अहम फैसले लेने पड़ते हैं। हालांकि फैसला अपने आप ही लिया जाता है लेकिन अगर किसी की सलाह मिल जाए तो फैसला लेना आसान होता है। अगर आपको ईमानदार सलाह की दरकार है तो हमेशा अपने दोस्त के पास जाएं। गर्लफ्रेंड की सलाह बायस्ड हो सकती है। इसके पीछे कोई चिंता या आपके प्रति उसका प्यार हो सकता है लेकिन दोस्त की सलाह अमूमन ईमानदार होती है। वो अपने शब्दों के साथ सच्चे होते हैं और सिर्फ और सिर्फ आपका भला चाहते हैं। Image Source - Gettty Images

दोस्त के बारे में झूठ नहीं कहना पड़ता

दोस्त के बारे में झूठ नहीं कहना पड़ता
5/8

अक्सर लड़के अपनी गर्लफ्रेंड और रिलेशनशिप को छिपाते हैं। वो अपने पेरेंट्स और बाकी रिलेटिव्स से गर्लफ्रेंड का जिक्र नहीं कर सकते। इस वजह से उन्हें कई झूठ बोलने पड़ते हैं। लेकिन दोस्तों के मामले में पेरेंट्स काफी लिबरल होते हैं। आप कितने भी फ्रेंड बना सकते हैं और उनके साथ कहीं भी जा सकते हैं। यहां तक कि दोस्तों को घर पर बुलाना और उनके घर जाना भी आम बात ही होती है। Image Source - Gettty Images

हर जगह हर माहौल में फिट

हर जगह हर माहौल में फिट
6/8

अपनी गर्लफ्रेंड को कहीं ले जाने से पहले आपको दस बातों का खयाल रखना पड़ता है। वो जगह आपकी गर्लफ्रेंड के स्टैंडर्ट के हिसाब से है या नहीं, उस जगह का माहौल कैसा है, आपकी गर्लफ्रेंड वहां कंफर्टेबल और सेफ महसूस करेगी या फिर सबसे अहम सवाल, उस जगह जाकर आपकी गर्लफ्रेंड खुश होगी या नहीं। लेकिन अपने फ्रेंड को कहीं ले जाने के लिए आपको इतना नहीं सोचना पड़ता। वो आपकी जिम्मेदारी नहीं बल्कि आपका साथ बनकर आपके साथ जाते हैं। Image Source - Gettty Images

बन संवर कर नहीं जाना पड़ता मिलने

बन संवर कर नहीं जाना पड़ता मिलने
7/8

गर्लफ्रेंड से मिलने जाने के लिए आपको अपने आपको तैयार करना पड़ता है। अच्छे कपड़े, एसेसरीज़ और फिर शेविंग, परफ्यूम, हेयरकट वगैरह वगैरह। लेकिन दोस्तों से मुलाकात पर इतनी औपचारिकताएं नहीं करनी पड़ती। बल्कि, आप किसी भी शक्ल के साथ उनसे मिलने पहुंच सकते हैं। आपका दोस्त भी आपसे मिलने के लिए कुछ खास तैयार नहीं होता इसलिए आप बेझिझक ऐसी ही मुलाकात करने पहुंच सकते हैं। वो आपको जज नहीं करेगा। Image Source - Gettty Images

कोई कमिटमेंट नहीं

कोई कमिटमेंट नहीं
8/8

दोस्ती की दुनिया में कमिटमेंट जैसा कोई शब्द ही नहीं होता। दोस्ती में कभी कमिटमेंट पर कोई डिसकशन नहीं होता जबकि गर्लफ्रेंड के साथ ये बार बार होने वाला डिसकशन हो जाता है। एक दोस्त को आपको ये वादा नहीं देना पड़ता कि आप किस तरह से जिंदगी भर उसके साथ रहेंगे लेकिन ये मुद्दा किसी भी रिलेशनशिप में बहुत अहम होता है। Image Source - Gettty Images

Disclaimer