काजल लगाते वक्त इन गलतियों को करने से बचें

काजल लगाने से न सिर्फ हमारी आंखें बड़ी और खूबसूरत दिखती हैं बल्कि हर महिला की खूबसूरती दुगुनी हो जाती है। लेकिन कई बार यही खूबसूरती बदसूरती में भी बदल जाती है। इसके पीछे छिपी वजह भी काजल है। असल में हममें से ज्यादातर महिलाओं को ही तरह से काजल लगाना नहीं आता। आता भी है तो उसे मेनटेन करना नहीं आता। नतीजनत आंखें ही नहीं पूरा चेहरा भी काला हो जाता है हमारी खूबसूरती बदसूरती में बदल जाती है। सवाल उठता है कि काजल लगाने का सही तरीका क्या है? आइए जानते हैं।

Meera Roy
Written by: Meera RoyPublished at: Mar 14, 2017

सही से लगाएं

सही से लगाएं
1/6

काजल लगाते वक्त यह ध्यान रखें कि काजल आंखों के अंदर के हिस्से से शुरू कर बाहर की ओर खींचना चाहिए। इससे काजल सही दिशा में लगता है। फैलता भी नहीं है। एक बात और ध्यान रखें कि काजल लगाते हुए आंखों के नीचे के हिस्से को हल्के से नीचे की ओर खींचें ताकि काजल लगाने में सहूलियत हो।

स्मोकी आंखें बनाना

स्मोकी आंखें बनाना
2/6

इन दिनों आंखों को स्मोकी बनाने का खासा चलन है। लेकिन जिन युवतियों की आंखें के नीचे काले घेरे हैं उन्हें इससे बचना चाहिए। असल में डार्क सर्कल यानी कोले घेरे पर स्मोकी आंखें चेहरे को काला बना देती है। इससे खूबसूरती बढ़ने की बजाय घट जाती है। अतः स्मोकी आंखें वही आजमा सकती हैं जिनका रंग साफ हो और काले घेरे की समस्या न हो।

काला काजल

काला काजल
3/6

काजल का मतलब हमारे लिए सिर्फ काला रंग होता है। लेकिन इन दिनों विभिन्न रंग भी चलन में हैं। जो युवतियां ट्रेंड के साथ चलना चाहती हैं, वे अकसर इस तरह के प्रयोग आजमाती हैं। वे काले की बजाय लाल, नीला आदि रंग उपयोग करती हैं। लेकिन आपको बता दें कि आंखों के नीचे सिर्फ और सिर्फ काले रंगा का काजल ही अच्छा लगता है। कोई अन्य रंग के आपके व्यक्तित्व को एक अलग पहचान देता है। यह सही भी हो सकता है और गलत भी। लेकिन काले काजल वाली बात किसी अन्य रंग के काजल से नहीं आ सकती।

छोटी आंखों में मोटे काजल

छोटी आंखों में मोटे काजल
4/6

जिन युवतियों की आंखें छोटी हैं, उन्हें काजल गाढ़ा करके नहीं लगाना चाहिए। दरअसल इससे उनकी आंखों की शेप खराब आती है और वे भद्दी लगती हैं। वास्तव में छोटी आंखों में जब लाइनर और काजल दोनों ही गाढ़े करके लगाए जाते हैं, तो आंखों की शेप और भी छोटी लगती हैं। इसलिए पतली शे लगाएं जिससे आंखें बड़ी लगें।

आंखों का अतिरिक्त खिचाव

आंखों का अतिरिक्त खिचाव
5/6

काजल लगाते हुए आंखों के नीचे हिस्से को खींचना आवश्यकत है। इससे काजल को शेप देने में आसानी होती है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप उसे अतिरिक्त खींचे। इससे होता यह है कि आंखों की शेप में काजल लगने का भ्रम पैदा हो जाता है। जबकि जैसे ही आंखों के नीचे के हिस्से को छोड़ा जाता है, काजल बेतरतीब नजर आता है। इसके अलावा रोजाना एक निश्चित अंग को खींचने से वहां झुर्रियां पड़ने का अंदेशा भी बना रहता है।

पेंसिल न छीलना

पेंसिल न छीलना
6/6

असकर युवतियां कहीं जाने की जल्दी में या फिर आलस में अपनी पेंसिल काजल को छीलती नहीं है। जबकि पेंसिल अगर शार्प नहीं होगी तो इससे मनचाहा काजल नहीं लगेगा। इसके उलट ऐसा लगेगा कि आपने काजल लगाने में खानापूर्ति की है। अतः काजल पेंसिल छीलकर लगाएं ताकि वह अच्छी तरह आंखों में दिख सके।

Disclaimer