बालों से जानें सेहत का राज

आपके बाल सिर्फ आपकी खूबसूरती की ही नहीं बल्कि आपकी सेहत की भी पहचान है। बालों में होने वाली किसी भी तरह की समस्या का सीधा संबंध आपके शारीरिक स्वास्थ्य से होता है।

Anubha Tripathi
Written by: Anubha TripathiPublished at: Jul 29, 2014

बालों से जानें समस्याओं का कारण

बालों से जानें समस्याओं का कारण
1/8

आपके बाल ना सिर्फ आपकी खूबसूरती बढ़ाते हैं बल्कि यह आपके सेहत के पन्नों को भी पलटते हैं। ज्यादातर लोग बालों में होने वाली समस्याओं को अनदेखा कर देते हैं जिनके परिणाम काफी गंभीर हो सकते हैं। अगर आप भी बालों की समस्या से जूझ रहें तो इसे अनदेखा ना करें और जानें कि ऐसा क्यों हो रहा है। image courtsey getty images   

पतले बाल

पतले बाल
2/8

पतले बाल कई कारण से टूट सकते हैं। इनमें शारीरिक और मानसिक दोनों कारण शामिल हो सकते हैं। आपको नौकरी और अन्‍य तनाव के कारण बाल झड़ने की समस्‍या का सामना करना पड़ सकता है। इसके अलावा फ्लू अथवा संक्रमण के कारण होने वाले तेज बुखार के कारण भी बाल झड़ सकते हैं। थायराइड और डायबिटीज के कारण भी बाल पतले होकर झड़ने लग सकते हैं। कई दवाओं के दुष्‍प्रभाव के कारण भी बाल पलते होकर गिरने लगते हैं। हॉर्मोन असंतुलन, थायराइड, और अन्‍य कारणों से बाल गिर सकते हैं। रोजाना 40 से 60 बालों का झड़ना सामान्‍य बात है, लेकिन अगर इससे ज्‍यादा बाल गिरते है तो आपके लिए गंभीर समस्‍या बन सकती है। इसलिए अपने बालों और सेहत, दोनों का ख्‍याल रखें और तनाव न लें। image courtsey getty images

सिर की त्‍वचा पर चकते होता

सिर की त्‍वचा पर चकते होता
3/8

सोराईसिस के कारण ऐसा हो सकता है। ऐसे में यदि सिर की त्‍वचा पर स्‍कैल्‍प हो रहे हों, तो इसे इग्‍नोर न करें। क्रोहन नाम की बीमारी में भी रूसी जैसी परत बनती है। आप अपने बालों का ध्‍यान रखें, रूसी के लिए घरेलू उपाय अपनाएं, अगर आराम न मिलें तो डॉक्‍टर से सम्‍पर्क करें।  image courtsey getty images

रूखापन लगे

रूखापन लगे
4/8

कई बार आपको अपने बाल छूने पर महसूस होता है कि अब ये ज्‍यादा रूखे और बेजान हो गए है। अगर आप स्‍वीमिंग करते है तो पूल के पानी में क्‍लोरोनिटेड मिला होने के कारण ऐसा होता है, लेकिन अगर आप ऐसी कोई एक्‍टीविटी नहीं करते है तो ध्‍यान देने की जरूरत है। पौष्टिक भोजन की कमी और बालों की देखभाल न करने से ऐसा होता है। इसके अलावा, बालों के रूखापन का कारण हाइपोथाइरोडिज्‍म भी होता है, जिसमें कुछ महीनों के लिए बालों में रूखापन आ जाता है। हाइपोथाइरोडिज्‍म में वजन बढ़ना, सर्दी - जुकाम बुखार रहना आदि समस्‍याएं हो जाती है, ऐसे में अपने स्‍वास्‍थ्‍य और बालों का ध्‍यान अवश्‍य रखें। image courtsey getty images

बालों का टूटना

बालों का टूटना
5/8

क्‍या आपको पता है कि बाल, केराटिन और प्रोटीन से मिलकर बने होते है, ऐसे में शरीर में प्रोटीन की मात्रा कम होने पर बाल टूटने और दो मुंहे होना शुरू हो जाते है। वैसे थॉयराइड की समस्‍या होने पर भी बाल टूटना शुरू हो जाते है, इसलिए जब भी ऐसी समस्‍या हो, तो थॉयराइड की जांच भी करवा लें। और साथ ही अपने आहार में प्रोटीन की पर्याप्‍त मात्रा भी लें। image courtsey getty images

बालों का सफेद होना

बालों का सफेद होना
6/8

असमय बालों का सफेद होना चिंता का विषय हो सकता है। बालों का बेवक्‍त सफेद होना साफतौर पर इस ओर इशारा करता है कि शरीर में कुछ सही नहीं चल रहा। तनाव, चिंता और हॉर्मोंस में अंसतुलन के कारण बाल सफेद हो जाते है। इसलिए अपना ध्‍यान रखें, नियमित रूप से पौष्टिक भोजन करें और खुश रहें। कई लोग इस समस्‍या को अनिद्रा और पाचन क्रिया से भी जोड़कर देखते हैं। तो इसलिए अपनी सेहत का खयाल रखें और ऐसी समस्‍या होने पर फौरन डॉक्‍टर से संपर्क करें। image courtsey getty images

स्कैल्प पर पैचेज

स्कैल्प पर पैचेज
7/8

अक्सर लोगों के स्कैल्प पर पैचेज की समस्या देखने को मिलती है। उस पैचेज वाली जगह से बाल भी उड़ने लगते हैं। इस तरह के हेयर लॉस अक्सर स्कैल्प या दाढ़ी पर होता है। कुछ लोगों में इस हेयर लॉस का संबंध डायबिटीज से हो सकता है।  image courtsey getty images

गंजापन

गंजापन
8/8

हेयर लॉस की समस्या वंशानुगत और गंजापन की समस्या भी हो सकती है। यह समस्या एक तिहाई पुरुषों में देखी जा सकती है। इसे अनदेखा करना किसी गंभीर समस्या की वजह बन सकता है। डॉक्टरी भाषा में इसे एंड्रोजेनेटिक एलोपिसिया के नाम से जाना जाता है। यह ऑटोइम्यून बीमारी है जिसके कारण शरीर पर सिर पर पैचेज और हेयर लॉस की समस्या हो जाती है। image courtsey getty images

Disclaimer