क्‍या होता है जब आप एक्‍सपायर मेकअप प्रोडक्‍ट करते हैं इस्‍तेमाल

मेकअप किट सस्ता हो या महंगा उसको सालों साल चलाना आपके लिए खतरनाक साबित हो सकता है, क्योंकि कॉस्‍मैटिक्‍स में केमिकल ज्यादा होता है, आइए हम आपको बताते हैं एक्‍सपायर्ड प्रोडक्‍ट के इस्‍तेमाल के क्‍या नुकसान हैं।

Pooja Sinha
Written by:Pooja SinhaPublished at: Jul 04, 2015

एक्‍सपायर मेकअप प्रोडक्‍ट

एक्‍सपायर मेकअप प्रोडक्‍ट
1/9

सारे ब्यूटी प्रॉडक्ट्स एक निश्चित एक्सपायरी डेट के साथ आते हैं। उस डेट के बाद आपको उनका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। अन्यथा आपको सेहत से जुड़ी कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। दरअसल, पुराने एक्सपायर्ड मेकअप प्रोडक्ट्स ऐसे बैक्टीरिया तथा विषैले तत्वों की जन्म स्थली बनते हैं जो न सिर्फ आपकी लुक बल्कि आपकी त्वचा को भी नष्ट करते हैं। कॉस्मैटिक्स को स्टोर करके रखने की आदत के कारण एलर्जी, त्वचा संक्रमण तथा अवांछित समस्याएं आपको घेर लेती हैं। मेकअप एक्सपट्रस के अनुसार आमतौर पर कॉस्मैटिक कम्पनियां अपने ब्यूटी प्रोडक्ट्स पर एक्सपायरी डेट नहीं देतीं परन्तु कुछ ऐसे ब्रांड्स हैं जो उत्पाद के निर्माण और बैस्ट बिफोर डेट्स की जानकारी छापती हैं। ऐसी जानकारी पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है।Image Source : Getty

एक्‍सपायर्ड मस्‍कारा

एक्‍सपायर्ड मस्‍कारा
2/9

नियत अवधि के बाद भी अगर मेकअप के सामान का इस्तेमाल किया जाए तो कई तरह की परेशानी होने का खतरा रहता है। पुराने मस्कारा में कई तरह के जीवाणु पनपने लगते हैं। ऐसे में आंखों से पानी आना, आंखे लाल होना और आंखों में खुजली होना आम बात है। ऐसे में तुरंत डाक्टर की सलाह लेनी चाहिए। अगर संक्रमण का इलाज तुरंत नहीं किया गया तो कॉर्निया पर अल्सर होने का खतरा रहता है। Image Source : Getty

एक्‍सपायर्ड आईलाइनर

एक्‍सपायर्ड आईलाइनर
3/9

ज्‍यादातर मेकअप प्रोडक्‍ट कम से कम दो साल और आई मेकअप कम से कम एक साल तक चलते हैं। आई मेकअप को 1 साल के बाद इस्‍तेमाल नहीं करना चाहिये क्‍योंकि इससे आंखों में इंफेक्‍शन होने का डर रहता है।Image Source : Getty

एक्‍सपायर्ड फेस क्रीम

एक्‍सपायर्ड फेस क्रीम
4/9

कॉस्मेटिक प्रोडक्ट खरीदते समय अक्सर लोग उसकी एक्सपाइरी डेट पर ध्यान नहीं देते हैं। विंटर क्रीम बच गई तो उसे दोबारा विंटर आने तक संभाल कर रख लिया जाता है। एक्सपाइरी डेट के बारे में सोचते तक नहीं है। सच तो ये है कि ब्यूटी प्रोडक्ट एक्सपायर होने पर उसमें कुछ ऐसे हानिकारक पदार्थ और बैक्टीरिया उत्पन्न हो जाते हैं, जिससे पिग्मेंटेशन और रैशेज होने की आशंका बढ़ जाती है। Image Source : Getty

एक्सपायर्ड कॉम्पैक्ट पाऊडर

एक्सपायर्ड कॉम्पैक्ट पाऊडर
5/9

महिलाएं अक्सर महंगे सौंदर्य उत्पादों को खरीद तो लेती हैं लेकिन फिर उन्हें कीमती खजाने की तरह संभाल कर रखने की इच्छुक रहती हैं। इस तरह कई बार मेकअप के कई सामान बिना इस्तेमाल के ही खराब हो जाते हैं।एक्सपायर्ड कॉम्पैक्ट पाऊडर के प्रयोग से चेहरे पर दाग-धब्बे पड़ जाते हैं। इसके अलावा चेहरे पर दाने निकलना, त्वचा का लाल हो जाना और एलर्जी की समस्या भी हो सकती है। तथ्य यह है कि आपको हमेशा सौंदर्य उत्पादों की शैल्फ लाइफ के बारे में जानकारी होना आवश्यक है।Image Source : Getty

एक्सपायर्ड फाउंडेशन

एक्सपायर्ड फाउंडेशन
6/9

वॉटर फाउंडेशन 12 महीने और ऑयल बेस्ड फाउंडेशन 18 महीने तक त्वचा पर नकारात्मक प्रभाव नहीं छोड़ते। इसके बाद इस्‍तेमाल करने पर इससे घातक स्किन एलर्जी हो सकती है। एक्सपायरी डेट से पहले यदि वॉटर बेस्ड फाउंडेशन सूख जाए, तब उसमें कुछ बूंदें अल्कोहल फ्री टोनर मिलाकर हिलाएं। ऐसा ऑयल बेस्ड फाउंडेशन के साथ कतई न करें, अन्यथा पानी पर तेल तैरने लगेगा। साथ ही यह त्वचा को पैची लुक देगा।Image Source : Getty

एक्सपायर्ड लिपस्टिक और लिप-लाइनर्स

एक्सपायर्ड लिपस्टिक और लिप-लाइनर्स
7/9

कुछ एक्सपटर्स के अनुसार लिपस्टिक और लिप-लाइनर्स की लाइफ 1-2 साल की होती है। क्‍योकि लिपस्टिक में वॉटर कंटेंट होने के कारण कुछ समय बाद उसमें सूक्ष्म बैक्टीरिया पनपने शुरू हो जाते हैं। और इससे होठों पर संक्रमण हो सकता है। Image Source : Getty

एक्सपायर्ड नेल पेंट

एक्सपायर्ड नेल पेंट
8/9

नेल पेंट का इस्‍तेमाल एक साल तक किया जा सकता है। लेकिन एक साल के बाद इस्‍तेमाल करने से, पुरानी नेल पॉलिश स्‍मूथ और बराबर तरीके से नहीं लगती है। जब नेलपॉलिश एक्सपायर हो जाती है तो वह इलास्टिक जैसी दिखने लगती है और इसके ऊार पपड़ी सी आ जाती है। साथ ही इसकी गंध भी बदल जाती है। अपने नाखूनों को नुकसान से बचाने के लिए इनकी लाइफ पर ध्यान बहुत जरूरी होता है। Image Source : Getty

एक्सपायर्ड एंटी-एजिंग प्रोडक्‍ट

एक्सपायर्ड एंटी-एजिंग प्रोडक्‍ट
9/9

एंटी-एजिंग और स्किन लाइटनिंग क्रीम को खोलने के बाद 6 महीने से अधिक इस्‍तेमाल नहीं करना चाहिए। साथ ही अगर आप इन्‍हें अच्‍छी तरह से स्‍टोर नहीं करते हैं तो इसमें मौजूद विटामिन सी और रेटिनोल जैसी कुछ सामग्री बहुत तेजी से खराब होनी शुरू हो जाती है। साथ ही यह सामग्री समय के साथ गाढ़ी होने लगती हैं इस तरह से सामग्री का सही अनुपात में न रहने से खुजली और सूखापन जैसी विभिन्‍न प्रकार की त्‍वचा संबंधी समस्‍याएं होने लगती है। Image Source : Getty

Disclaimer