नाक से खून आने का कारण बन सकती हैं गर्म हवाएं, इन 3 रोगों में भी हो सकती है ये समस्‍या

नाक से खून आने के कई कारण हो सकते हैं। अगर समस्‍या गंभीर है तो तुरंत एक्‍सपर्ट की सलाह लें।

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Jul 04, 2018

नाक से खून आने के कारण

नाक से खून आने के कारण
1/8

नकसीर यानी नाक से खून आना एक गंभीर स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या है। हालांकि, इससे घबराने की जरूरत नहीं है। क्‍योंकि हमारी नाक में कई प्रकार की रक्‍त वाहिकाएं होती है। यह रक्त वाहिकाएं बहुत नाजुक होती है और पतली झिल्ली से ढंकी होती है। जिस पर नाखून या अन्य प्रकार के चोट से भी नाक से खून बहने लगता है। इसके अलवा एलर्जी, सर्दी-जुकाम, फुंसी होने पर और साइनोसाइटिस में भी नाक से खून आने की समस्‍या हो सकती है। नाक से खून आना 3 से 10 साल के बच्‍चों के बीच बहुत आम होता है। नाक से खून आने के कई कारण हो सकते हैं और अक्‍सर इस समस्‍या के लिए चिकित्‍सा की भी जरूरत नहीं होती है। लेकिन कुछ स्थितियों में डॉक्‍टर की सलाह जरूरी है। यहां हम आपको नाक से खून आने के कारणों के बारे में बता रहे हैं। 

शुष्क हवा

शुष्क हवा
2/8

नकसीर के सबसे सामान्य कारणों में से एक शुष्क हवा है। यदि आप शुष्क जलवायु में रहने वाले हैं और केंद्रीय हीटिंग सिस्टम का उपयोग कर रहे हैं, तो आपको नकसीर का खतरा हो सकता है। गर्मी के कारण खून की ये नलियॉं फैल जाती हैं। इन दो कारकों से नाक की झिल्‍ली शुष्क होकर खून के बहाव और संक्रमण के प्रति अतिसंवेदनशील हो जाती हैं। नाक से खून आने की समस्‍या को रोकने के लिए गर्मी से दूर रहें। ड्राई हीट कम होने से नकसीर की आशंका को कम किया जा सकता है। इसके अलावा, नाक को सूखेपन से बचाने के लिए हाइड्रेटेड रहने और पर्याप्‍त मात्रा में तरल पदार्थ पीने की जरूरत होती है।

नाक में उंगली डालना

नाक में उंगली डालना
3/8

नाक में बार-बार उंगली डालना, बच्‍चों में नाक से खून आने का सबसे आम कारण है। रक्‍त वाहिकाएं जो नाक की झिल्ली (आपकी नाक के बीच मध्य भाग) का सामने का हिस्‍सा है, उसमें सबसे जल्‍दी खून बहने लगता है। इन नाजुक रक्त वाहिकाओं में आघात से आसानी से खून बहने लगता है। बच्‍चों में लगातार नकसीर की समस्‍या खून विकार जैसे हीमोफीलिया का संकेत हो सकता है। हीमोफीलिया एक ऐसी अवस्‍था है जो खून के थक्के बनने की प्रक्रिया को धीमा करता है। चोट लगने के बाद हीमोफीलिया के रोगियों को अन्य मरीजों की तुलना में अधिक समय तक रक्तस्राव होता रहता है।

साइनोसाइटिस

साइनोसाइटिस
4/8

साइनोसाइटिस, साइनस की सूजन है, जो नाक की झिल्‍ली में सूखापन लाकर नकसीर पैदा कर देती है। यह समस्‍या वायरल या बैक्टीरियल संक्रमण के कारण होती है। साइनोसाइटिस की समस्‍या एलर्जी या पर्यावरण में मौजूद धूल-मिट्टी और बढ़ जाती है। साइनोसाइटिस के दो प्रकार का होते है। पहला एक्‍यूट और दूसरा क्रोनिक- दोनों में नाक में कंजेशन और नाक से डिस्‍चार्ज जैसी समस्‍याएं शामिल होती है। इन समस्‍याओं को रोकने के लिए आपको बलगम झिल्ली में सूजन को कम करने के उपाय करने होगें। इसके लिए आप सर्दी खांसी की दवा का इस्‍तेमाल कर सकते हैं।

एलर्जी

एलर्जी
5/8

एलर्जी के कारण भी नाक से खून बहने की समस्‍या हो सकती है। एलर्जी के सामान्‍य लक्षणों जैसे रिनोरिया की तरह अन्‍य लक्षण भी हो सकते हैं। एलर्जी आपकी नाक को अधिक भीगा हुआ बनाकर नकसीर का कारण बन सकती है। रिनोरिया में लगातार जलन, नाक का बहना, नाक को लगातार मलने से नाक के टिश्‍यु में टूट-फूट होने लगती है। जिससे उनसे खून बहने लगता है। नकसीर को रोकने के लिए अपनी एलर्जी को नियंत्रण में रखें।

एस्पिरिन और रक्त पतला करने वाली दवाएं

एस्पिरिन और रक्त पतला करने वाली दवाएं
6/8

खून पतला करने वाली दवाएं जैसे एस्पिरिन, हिपारिन या वारफेरिन भी नकसीर का कारण बन सकती है। एंटी-कोऐग्यलन्ट (एस्पिरिन जैसे रक्त पतला करने वाली दवाएं) लेने वाले लोगों में यह समस्‍या आम होती है। अगर आप किसी एंटी-कोऐग्यलन्ट, उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर), या रक्त के थक्के विकार के लिए दवाओं का सेवन करते हैं तो आपको यह समस्‍या हो सकती है। नाक को प्रभावित करने वाले हल्की एलर्जी काउंटर दवा के साथ इसका इलाज किया जा सकता है।

जुकाम

जुकाम
7/8

नाक से खून आने के कई कारणों में से सर्दी जुकाम भी आम है। कोल्‍ड नाक की परत में जलन पैदा कर नकसीर की आशंका को काफी हद तक बढ़ा देता है। शुष्क सर्द हवा के साथ नाक की परत में जलन नकसीर के लिए आदर्श स्थिति बनाता है। जुकाम होने पर नाक के नर्म टिश्‍यु के साथ जबरदस्‍ती न करें बल्कि इसे धीरे से साफ करें।   इसे भी पढ़ें: 3 हफ्ते तक होती है ऐसी खांसी तो हो सकता है टीबी, डॉक्टर से करें संपर्क

नाक में चोट

नाक में चोट
8/8

किसी दुघर्टना में नाक पर चोट लग जाने से भी नकसीर की समस्‍या बढ़ जाती है। कई बार नाक पर चोट लगने पर दिखाई नहीं देता, लेकिन फिर भी नकसीर होने लगती है। लेकिन अगर चोट लगने के बाद नाक से खून आने की समस्‍या 10 मिनट से अधिक समय तक रहती है और हर दूसरे दिन ऐसी समस्‍या होती है तो आपको डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए। इसके अलावा सिर में झटके या गिरावट के कारण होने वाली चोट नकसीर का कारण बन सकती है। इसे भी पढ़ें: नाक से खून बहना हो सकता है उच्‍च रक्‍तचाप का संकेत

Disclaimer