मामूली नहीं है नाक से खून निकलना, हो सकती हैं ये 3 खतरनाक वजह

By:Atul Modi, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Jul 04, 2018
नाक से खून आने के कई कारण हो सकते हैं और अक्‍सर इस समस्‍या के लिए चिकित्‍सा की भी जरूरत नहीं होती है। लेकिन अगर चोट लगने के बाद नाक से खून आने की समस्‍या 10 मिनट से अधिक समय तक रहती है और हर दूसरे दिन ऐसी समस्‍या होती है तो आपको डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए।
  • 1

    नाक से खून आने के कारण

    नाक से खून आने को नकसीर के रूप में भी जाना जाता है। हालांकि नकसीर चिंता की बात है, लेकिन शायद ही कभी इससे गंभीर स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या का संकेत मिलता है। हमारी नाक में कई प्रकार की रक्‍त वाहिकाएं होती है। यह रक्त वाहिकाएं बहुत नाजुक होती है और पतली झिल्ली से ढंकी होती है। जिस पर नाखून या अन्य प्रकार के चोट से जैसे जोर से नाक साफ करने पर या एलर्जी के कारण सर्दी या फुंसी होने से झिल्ली फट जाती है एवं खून आने लगता है। नाक से खून आना 3 से 10 साल के बच्‍चों के बीच बहुत आम होता है। नाक से खून आने के कई कारण हो सकते हैं और अक्‍सर इस समस्‍या के लिए चिकित्‍सा की भी जरूरत नहीं होती है। लेकिन अगर चोट लगने के बाद नाक से खून आने की समस्‍या 10 मिनट से अधिक समय तक रहती है और हर दूसरे दिन ऐसी समस्‍या होती है तो आपको डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए।

    नाक से खून आने के कारण
    Loading...
  • 2

    शुष्क हवा

    नकसीर के सबसे सामान्य कारणों में से एक शुष्क हवा है। यदि आप शुष्क जलवायु में रहने वाले हैं और केंद्रीय हीटिंग सिस्टम का उपयोग कर रहे हैं, तो आपको नकसीर का खतरा हो सकता है। गर्मी के कारण खून की ये नलियॉं फैल जाती हैं। इन दो कारकों से नाक की झिल्‍ली शुष्क होकर खून के बहाव और संक्रमण के प्रति अतिसंवेदनशील हो जाती हैं। नाक से खून आने की समस्‍या को रोकने के लिए गर्मी से दूर रहें। ड्राई हीट कम होने से नकसीर की आशंका को कम किया जा सकता है। इसके अलावा, नाक को सूखेपन से बचाने के लिए हाइड्रेटेड रहने और पर्याप्‍त मात्रा में तरल पदार्थ पीने की जरूरत होती है।

    शुष्क हवा
  • 3

    नाक में उंगली डालना

    नाक में बार-बार उंगली डालना, बच्‍चों में नाक से खून आने का सबसे आम कारण है। रक्‍त वाहिकाएं जो नाक की झिल्ली (आपकी नाक के बीच मध्य भाग) का सामने का हिस्‍सा है, उसमें सबसे जल्‍दी खून बहने लगता है। इन नाजुक रक्त वाहिकाओं में आघात से आसानी से खून बहने लगता है। बच्‍चों में लगातार नकसीर की समस्‍या खून विकार जैसे हीमोफीलिया का संकेत हो सकता है। हीमोफीलिया एक ऐसी अवस्‍था है जो खून के थक्के बनने की प्रक्रिया को धीमा करता है। चोट लगने के बाद हीमोफीलिया के रोगियों को अन्य मरीजों की तुलना में अधिक समय तक रक्तस्राव होता रहता है।

    नाक में उंगली डालना
  • 4

    साइनसाइटिस

    साइनसाइटिस, साइनस की सूजन है, जो नाक की झिल्‍ली में सूखापन लाकर नकसीर पैदा कर देती है। यह समस्‍या वायरल या  बैक्टीरियल संक्रमण के कारण होती है। साइनसाइटिस की समस्‍या एलर्जी या पर्यावरण में मौजूद धूल-मिट्टी और बढ़ जाती है।  साइनसाइटिस के दो प्रकार का होते है। पहला एक्‍यूट और दूसरा क्रोनिक - दोनों में नाक में कंजेशन और नाक से डिस्‍चार्ज जैसी समस्‍याएं शामिल होती है। इन समस्‍याओं को रोकने के लिए आपको बलगम झिल्ली में सूजन को कम करने के उपाय करने होगें। इसके लिए आप सर्दी खांसी की दवा का इस्‍तेमाल कर सकते हैं।

    साइनसाइटिस
  • 5

    एलर्जी

    एलर्जी के कारण भी नाक से खून बहने की समस्‍या हो सकती है। एलर्जी के सामान्‍य लक्षणों जैसे रिनोरिया की तरह अन्‍य लक्षण भी हो सकते हैं। एलर्जी आपकी नाक को अधिक भीगा हुआ बनाकर नकसीर का कारण बन सकती है। रिनोरिया में लगातार जलन, नाक का बहना, नाक को लगातार मलने से नाक के टिश्‍यु में टूट-फूट होने लगती है। जिससे उनसे खून बहने लगता है। नकसीर को रोकने के लिए अपनी एलर्जी को नियंत्रण में रखें।

    एलर्जी
  • 6

    एस्पिरिन और रक्त पतला करने वाली दवाएं

    खून पतला करने वाली दवाएं जैसे एस्पिरिन, हिपारिन या वारफेरिन भी नकसीर का कारण बन सकती है। एंटी-कोऐग्यलन्ट (एस्पिरिन जैसे रक्त पतला करने वाली दवाएं) लेने वाले लोगों में यह समस्‍या आम होती है। अगर आप किसी एंटी-कोऐग्यलन्ट, उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर), या रक्त के थक्के विकार के लिए दवाओं का सेवन करते हैं तो आपको यह समस्‍या हो सकती है। नाक को प्रभावित करने वाले हल्की एलर्जी काउंटर दवा के साथ इसका इलाज किया जा सकता है।

    एस्पिरिन और रक्त पतला करने वाली दवाएं
  • 7

    जुकाम

    नाक से खून आने के कई कारणों में से सर्दी जुकाम भी आम है। कोल्‍ड नाक की परत में जलन पैदा कर नकसीर की आशंका को काफी हद तक बढ़ा देता है। शुष्क सर्द हवा के साथ नाक की परत में जलन नकसीर के लिए आदर्श स्थिति बनाता है। जुकाम होने पर नाक के नर्म टिश्‍यु के साथ जबरदस्‍ती न करें बल्कि इसे धीरे से साफ करें।  

    इसे भी पढ़ें: 3 हफ्ते तक होती है ऐसी खांसी तो हो सकता है टीबी, डॉक्टर से करें संपर्क

    जुकाम
  • 8

    नाक में चोट

    किसी दुघर्टना में नाक पर चोट लग जाने से भी नकसीर की समस्‍या बढ़ जाती है। कई बार नाक पर चोट लगने पर दिखाई नहीं देता, लेकिन फिर भी नकसीर होने लगती है। लेकिन अगर चोट लगने के बाद नाक से खून आने की समस्‍या 10 मिनट से अधिक समय तक रहती है और हर दूसरे दिन ऐसी समस्‍या होती है तो आपको डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए। इसके अलावा सिर में झटके या गिरावट के कारण होने वाली चोट नकसीर का कारण बन सकती है।

    इसे भी पढ़ें: नाक से खून बहना हो सकता है उच्‍च रक्‍तचाप का संकेत

    नाक में चोट
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK