क्या हैं स्वास्थ्य से जुड़े मिथ

स्वास्थ्य से जुड़े कुछ आम मिथों पर लोग आंख बंद कर भरोसा करते हैं। लेकिन यह सच हो ऐसा जरूरी नहीं है। आइए जानें ऐसे ही बड़े मिथों की सच्चाई के बारे में।

Anubha Tripathi
Written by: Anubha TripathiPublished at: Aug 22, 2014

मिथ जिनका सच जानना है जरूरी

मिथ जिनका सच जानना है जरूरी
1/8

आपके जीवन में सेहत से जुड़े कई तरह के मिथ होते हैं जिन्हें आप सच मानकर उन पर अमल भी करते हैं। लेकिन असल में इनसे आपको कोई फायदा नहीं होता है। इन मिथों की सच्चाई जानना आपके लिए बहुत जरूरी है। ऐसे ही कई आम मिथों की सच्चाई के बारे में जानने के लिए पढ़ें।

मिथ- एक दिन में आठ गिलास पानी

मिथ- एक दिन में आठ गिलास पानी
2/8

जरूरी नहीं कि सिर्फ पानी के जरिए ही आप लिक्विड लें। आप चाहें तो फ्रूट जूस, छांछ, ग्रीन टी के जरिए भी लिक्विड ले सकते हैं। इसके अलावा सिर्फ आठ गिलास पानी पीने से कोई आपकी सेहत में जादू नहीं होने वाला है। ज्यादा पानी पीने से हाइपोनेट्रेमिया और वॉटर इनटॉक्सिकेशन हो सकता है।

मिथ- वजन घटाने के लिए खाना छोड़ें

मिथ- वजन घटाने के लिए खाना छोड़ें
3/8

काश की वजन घटाना इतना आसान होता! खाना छोड़ने से आपके वजन पर थोड़ा सा फर्क नहीं पड़ता है। क्योंकि आप जिस टाइम का खाना छोड़ते हैं। उसके अगले समय में भूख लगने के कारण जरूर से ज्यादा खा लेते हैं जिससे वजन घटने की जगह बढ़ जाता है।

मिथ-शेविंग से बाल जल्दी बढ़ते है

मिथ-शेविंग से बाल जल्दी बढ़ते है
4/8

बचपन से हमें कहा जाता है कि शेविंग करने से बाल जल्दी बढ़ते हैं। जब आप छोटे थे तो आपके पिता भी आपको खाली रेजर को गालों पर फिराने से मना करते थे क्योंकि इससे समय से पहले चेहरे पर बाल आ जाएंगे। लेकिन यह बात पूरी तरह से गलत है।

मिथ- बेड रेस्ट से पीठ दर्द में आराम

मिथ- बेड रेस्ट से पीठ दर्द में आराम
5/8

हां यह सच है कि मांसपेशियों और हड्डियों से संबंधित समस्याओं के लिए बेड रेस्ट जरूरी है लेकिन यह कोई इलाज नहीं है। खासतौर पर बैक पेन होने पर बेड रेस्ट से आराम नहीं मिल सकता है। इसके लिए आपको कुछ खास तरह के व्यायाम करने चाहिए या फिजियोथेरेपी की सलाह लेनी चाहिए।

मिथ- कट जानें पर मुंह में डालना

मिथ- कट जानें पर मुंह में डालना
6/8

हममें से ज्यादातर लोग अंगुली कट जाने पर तुरंत मुहं में डाल कर चूसने लगते हैं। उनका मानना है कि इससे घाव जल्दी भर जाते हैं लेकिन असल में यह धारणा गलत है। इससे आपके चोट पर मौजूद बैक्टेरिया आपके मुंह के जरिए पेट में जा सकते हैं और आप गंभीर संक्रमण का शिकार हो सकते हैं।

मिथ-चॉकलेट से पिंपल

मिथ-चॉकलेट से पिंपल
7/8

कई लोगों का मानना है कि चॉकलेट के सेवन से पिंपल और एक्ने की समस्या हो सकती है। लेकिन यह सच नहीं है। चॉकलेट में मौजूद चीनी, दूध और अन्य चीजें इसका कारण हो सकते है कोकोआ नहीं।

मिथ-चीनी से बच्चे बैचेन होते हैं

मिथ-चीनी से बच्चे बैचेन होते हैं
8/8

हो सकता है कि चीनी युक्त पदार्थों के सेवन से आपको बैचेनी का एहसास होता हो लेकिन जैविक चीनी का बच्चों पर ऐसा कोई असर नहीं होता है। इसलिए यह धारणा गलत है।

Disclaimer