वजन नहीं घट रहा है तो बैडमिंटन खेलें, हड्डी भी होगी मजबूत!

पुलेला गोपीचंद, साइना नेहवाल और पीवी सिंधु का नाम आते ही हर किसी के दिमाग में बैडमिंटन की ही बात आती है। इन खिलाडि़यों ने बैडमिंटन के दम पर देश का दुनिया में नाम रोशन किया है। इन मशहूर खिलाडि़यों की फिटनेस और उनकी एनर्जी देखकर हर किसी का मन बैडमिंटन खेलने के लिए करता है। आपको यह जानकर आश्चर्य हो कि बैडमिंटन खेलने से शरीर को जितने फायदे मिलते हैं उतना और किसी खेल से नहीं मिलते हैं। आज हम आपको बताएंगे कि बैडमिंटन खेलने के क्‍या फायदे हैं।

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Jun 01, 2017

वजन कम करता है

वजन कम करता है
1/5

अगर आप अपना वजन कम करना चाहते हैं तो बैडमिंटन खेलना सबसे उपयुक्त है। एक घंटे तक बैडमिंटन खेलने से लगभग 500 कैलोरी बर्न हो जाती है।

मसल्स को दे आकार

मसल्स को दे आकार
2/5

बैडमिंटन का एक-एक शॉट आपकी मसल्स को सही आकार देने में मदद करता है। इससे आपके एब्स भी बेहतर तरीके से बनते हैं और बाकी शरीर की बनावट भी एक ख़ास शेप में आ जाती है।

हड्डियों को मजबूत करे

हड्डियों को मजबूत करे
3/5

बैडमिंटन खेलने से आपके पैरों और हिप्स की हड्डियों का घनत्व बढ़ता है, जिसके कारण आर्थराइटिस और ऑस्टियोपोरोसिस जैसी गंभीर समस्याओं से बचाव होता है।

पाचन में मददगार

पाचन में मददगार
4/5

किसी भी दौड़ने भागने वाले खेल को खेलने से शरीर का पाचन तंत्र दुरुस्त हो जाता है और आपने जो भी खाया है वो आसानी से पच भी जाता है। रोजाना बैडमिंटन खेलने से आपकी भूख और मेटाबोलिज्म दोनों बढ़ते हैं।

दिल और फेफड़ा रहे फिट

दिल और फेफड़ा रहे फिट
5/5

खेलने के कारण खून का प्रवाह बढ़ जाता है जिससे शरीर के सभी अंगों को पर्याप्त मात्रा में खून मिल जाता है। इसे खेलने से शरीर में उपस्थित ख़राब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होने लगती है जिससे हार्टअटैक और स्ट्रोक जैसी बीमारियों से आपका बचाव होता है। बैडमिंटन खेलते समय लगातार कूदने, दौड़ने और स्ट्रेचिंग के कारण हार्ट रेट काफी बढ़ जाता है जिसके फलस्वरूप आपके फेफड़े भी बेहतर तरीके से काम करने लगते हैं।

Disclaimer