तरीके जो कर रहे हैं आपकी खुशियों को बर्बाद

जिंदगी में खुशियां और गम आते-जाते रहते हैं, ऐसा नहीं कि आपकी जिदंगी खुशियों से भरी रहे और उसमें गम बिलकुल न हो, लेकिन आपकी कई आदतें जीवन की खुशियों को भी बर्बाद कर देते हैं।

Nachiketa Sharma
Written by: Nachiketa SharmaPublished at: Aug 02, 2014

खुशियां और गम

खुशियां और गम
1/9

जिंदगी में खुशियां और गम आते-जाते रहते हैं, ऐसा नहीं कि आपकी जिदंगी खुशियों से भरी हो और उसमें गम बिलकुल भी न हो। लेकिन आपकी कई आदतें आपके जीवन की खुशियों को भी बर्बाद कर देते हैं, उन आदतों के कारण ही आपके हसीन पल गमगीन हो जाते हैं। काफी हद तक इसमें व्‍यक्ति का सोचने और समझने का अंदाज भी शामिल होता है। तो अगर आप ये तरीके भी आपकी खुशियों को बर्बाद कर रहे हैं तो इनको समझकर इनसे बचनें की कोशिश करें। image source - getty images

ईर्ष्‍या करना

ईर्ष्‍या करना
2/9

अगर आप किसी के साथ संबंध में हैं तो उससे ईर्ष्‍या बिलकुल भी न करें। यही बात संबंधों के अलावा आपके काम, आपसे जुड़े लोगों, आपकी दिनचर्या आदि से भी जुड़ी होती है। अगर आप इन बातों से ईष्‍र्या करेंगे तो आपको खुशी के बजाय गम ही मिलेगा और आपके हिस्‍से की खुशियां भी गमगीन हो सकती हैं। image source - getty images

क्रोध करना

क्रोध करना
3/9

क्रोध व्‍यक्ति का सबसे बड़ा दुश्‍मन होता है, इसके कारण वह किसी भी चीज का मजा नहीं ले पाता। क्रोध करने वाला व्‍यक्ति न केवल खुद को नुकसान पहुंचाता है बल्कि इसके कारण दूसरे लोग भी दुखी होते हैं। इसलिये क्रोध करने से बचें और कोशिश करें कि इसके कारण आप पर कोई आफत आये। image source - getty images

निर्भर रहना

निर्भर रहना
4/9

आत्‍मनिर्भर व्‍यक्ति गम के पलों को भी खुशियों में तब्‍दील कर लेता है, लेकिन जो दूसरों पर निर्भर रहता है वह दूसरों के इशारे पर सुखी और दुखी होता है। इसलिए खुद पर विश्‍वास करें और अपनी क्षमताओं को पहचानें। आपकी जिंदगी पर केवल आपका हक है, जीवन को बेहतर तरीके से जीना आपकी इच्‍छाशक्ति पर निर्भर है इसे गवायें नहीं, बल्कि हसीन पलों का मजा उठायें। image source - getty images

दूसरों को बदलने की कोशिश

दूसरों को बदलने की कोशिश
5/9

आपकी खुशियों के रास्‍तें में सबसे बड़ी बाधा तब आती है जब आप किसी के साथ रिलेशनशिप में होते हैं और चाहते हैं कि उसे बदल दें। अगर वह आपको दिखाने के लिए थोड़ा सा बदल भी जाये तो उसकी प्रवृत्ति भी वैसी ही रहेगी, यानी उसकी प्रकृति में बदलाव बिलकुल भी नहीं आयेगा। इसलिए दूसरों को बदलने की बजाय खुशियों को मनाने के लिए खुद को उसमें ढालें। image source - getty images

पूर्णतावाद

पूर्णतावाद
6/9

आप अपने काम को बेहतर तरीके से करते हैं, लेकिन तब भी आप परफेक्‍ट नहीं है। इसलिए अगर किसी काम को करने में कोई कमी रह जाये तो उसे बेहतर करने की कोशिश कीजिए न कि उसमें परफेक्‍शन देखिये। ऐसा करने से आप परेशान रहेंगे और आपकी खुशियां आपसे दूर रहेंगी। image source - getty images

खुद पर शक करना

खुद पर शक करना
7/9

'मैं यह काम नहीं कर सकता', 'यह काम मेरे बस का नही हैं' कुछ ऐसे शब्‍द हैं जो आपकी क्षमता को कम करते हैं। यह आपकी क्षमता पर उंगली उठाते हैं जिसके कारण दुखी होना लाजमी है। जबकि ऐसा कुछ भी नहीं है, कोई भी काम असंभव नहीं है, बस कठिन मेहनत कीजिए फिर देखिये कैसे वही काम जो आपके लिए असंभव लगता था वो संभव बनता है। image source - getty images

खुद को बेहतर समझना

खुद को बेहतर समझना
8/9

यह अहंकार है, और अहंकार दुख का सबसे बड़ा कारण है। कभी भी खुद को बेहतर समझने की भूल न करें, क्‍योंकि इस दुनिया में कई बातें और चीजें हैं जिनसे आप अनजान हैं। इसलिए जब भी मौका मिले कुछ न कुछ सीखने की कोशिश जरूर करें। image source - getty images

दखलअंदाजी करना

दखलअंदाजी करना
9/9

अगर आपकी आदत भी दूसरों के काम में दखल देने की है तो यह आपके दुख का भी कारण बन सकता है। दूसरों के काम को देखने के बजाय खुद में व्‍यस्‍त रहने और खुद के काम को परखने की कोशिश कीजिए। अगर आप किसी से पीछे हैं तो कोई बात नहीं, कठिन मेहनत कीजिए फिर देखिये कैसे आप उससे आगे निकल जाते हैं।   image source - getty images

Disclaimer