पैरों की ऐंठन और दर्द से छुटकारा दिलाते है ये 11 आसान तरीके

एक सुबह आप उठे, आपने महसूस किया कि न तो आप सीधे खड़े हो पा रहे हैं और न ही चल पा रहे हैं। पैरों में बेहद दर्द है, अकड़न और ऐंठन भी है। असल में ऐसा मसल्स को आराम न मिलने की वजह से होता है। अतः यह जानना आवश्यक है कि पैरों में ऐंठन और अकड़न से कैसे बचा जाए। लेकिन इससे पहले यह जान लेना जरूरी है कि पैरों में अकड़न और ऐंठन क्यों होती है।

Meera Roy
Written by: Meera RoyPublished at: Dec 22, 2017

पानी की कमी

पानी की कमी
1/11

शायद आप इस वजह से वाकिफ न हों। लेकिन विशेषज्ञों की मानें तो यदि आपके शरीर में पानी की कमी होगी तो आपके पैरों में ऐंठन आने की आशंका बनी रहेगी। अतः पानी की मात्रा शरीर में कम न होने दें।

पौष्टिकता की कमी

पौष्टिकता की कमी
2/11

इलेक्ट्रोलाइट यानी पोटाशियम, सोडियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम में संतुलन होना बहुत जरूरी है। दरअसल ये ऐसे आवश्यक तत्व हैं जिनके चलते मसल्स में सिकुड़न और रिलैक्सेशन होता है। इसका मतलब यह नहीं है कि पैरों के ऐंठन का इलाज खुद करने लगे। अतिरिक्त सप्लीमेंट लेने से आपके शरीर में नुकसान हो सकता है। बेहतर यही है कि अपने खानपान में विकल्पों को शामिल करें ताकि तमाम आवश्यक तत्व आपके शरीर में आसानी से जा सकें।

दवाओं के नुकसान

दवाओं के नुकसान
3/11

कुछ दवाओं के चलते भी पैरों में दर्द, ऐंठन और अकड़न हो सकती है। विशेषज्ञों की मानें तो कोई भी दवा बिना चिकित्सक की सलाह के नहीं लेना चाहिए। यदि किसी दवा के कारण आपके पैरों में दर्द हो तो तुरंत विशेषज्ञों से संपर्क करें। लेकिन अगर आप दर्द को दूर करने के लिए घरेलू उपायों का इस्‍तेमाल कर रहे हैं और किसी भी घरेलू उपचार के जरिये न जाए तो ऐसे में बेहतर है कि दवा का सहारा लें। किसी विशेषज्ञ से संपर्क करें और सलाह अनुसार दवा ही लें।

स्ट्रेचिंग न करना

स्ट्रेचिंग न करना
4/11

अगर आप सही तरह से एक्सरसाइज नहीं करते तो यह समस्या हो सकती है। स्ट्रेच करें और वार्म-अप एक्सरसाइज अवश्य करें। इन तमाम वजहों को जानने के बाद यह जानना आवश्यक है कि लेग क्रैम्प यानी पैरों में ऐंठन, अकड़न आदि को कैसे रोका जा सकता है? इसके लिए आपको कुछ निम्न चीजों पर ध्यान देना होगा।

दर्द पर जोर दें

दर्द पर जोर दें
5/11

यदि सोकर उठते ही आपके पैरों में दर्द, अकड़न या ऐंठन हो तो ऐसे में जरूरी है कि आप सीधे होकर खड़े होने के बाद जहां दर्द है, उस पर जोर दें। ऐसा करने से दर्द या ऐंठन से मुक्ति मिल सकती है।

गर्म कपड़े का उपयोग

गर्म कपड़े का उपयोग
6/11

दर्द भरी जगहों पर गर्म कपड़े का उपयोग किया जा सकता है। ऐसा करने से ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है। यही नहीं मसल्स भी आरामदायक स्थिति में पहुंच जाते हैं। यदि गर्म कपड़े न लगाने हो तो गुनगुने पानी में पैरों की सिकाई भी की जा सकती है।

काल्फ स्ट्रेच

काल्फ स्ट्रेच
7/11

स्ट्रेच भी कई प्रकार के होते हैं। पहले यह तय करें कि आपका दर्द किस तरह का है। काल्फ स्ट्रेच के दौरान दीवार की तरफ मुंह करके खड़ा होना होता है। आपके हाथ दीवार की ओर होते हैं। एक पैर पीछे की और दूसरा पैर आगे की ओर। ठीक ऐसे जैसे बछड़े की पोजिशन होती है। ऐसा करने से पैरों को संपूर्ण स्ट्रेच मिलता है और दर्द में आराम।

टावल स्ट्रेच

टावल स्ट्रेच
8/11

यह भी स्ट्रेच करने का एक तरीका है। लेकिन इसे बैठे बैठे किया जाता है। पैरों को स्ट्रेच करें। इसके बाद टावल से पैर के उस हिस्से को बांधकर अपनी ओर खींचे जहां ऐंठन है। ऐसा करने से अंग विशेष को आराम मिलता है। ऐसा करने के बाद टावल के सहयोग से पैर को धीरे धीरे उठाना होता है।Image Source : wordpress.com

शराब न पीयें

शराब न पीयें
9/11

पैरों में दर्द और ऐंठन की हमेशा शिकायत रहती है तो बेहतर है कि शराब न पीयें। शराब कम करने के साथ साथ जरूरी है कि शारीरिक गतिविधियों पर भी ध्यान दें। यदि आपने शराब छोड़ दी है; लेकिन शारीरिक गतिविधी न के बराबर है तो भी इसका कोई लाभ नहीं मिलने वाला। ऐंठन और अकड़ने से बचने के लिए जरूरी है कि आप निरंत शारीरिक गतिविधियों में संलग्न रहें।

संतुलित आहार लें

संतुलित आहार लें
10/11

दर्द, ऐंठन आदि से बचने के लिए शरीर में कैल्शियम की मात्रा बनी रहनी चाहिए। यदि ऐसा न हो तो शरीर दर्द आदि समस्याओं से घिरा रहता है। अतः संतुलित आहार लेकर शरीर को दर्द से मुक्ति दिलाएं।

Disclaimer