थायमीन या विटामिन बी-1 की कमी से हो जाता है बेरीबेरी रोग, जानें लक्षण

बेरीबेरी एक ऐसा रोग है, जो विटामिन बी-1 की कमी से हो जाता है। विटामिन बी-1 को थायमिन भी कहते हैं। ये बीमारी आमतौर पर सभी को प्रभावित करती है मगर इसका खतरा सबसे ज्यादा बच्चों को होता है। थायमिन शरीर के लिए एक आवश्यक पोषक तत्व है, जो शरीर के अन्दर शुगर को तोड़ने में मदद करता है, जिससे शरीर को ऊर्जा प्राप्त होती है। आइए आपको बताते हैं क्यों हो जाती है शरीर में विटामिन बी-1 की कमी, क्या हैं इसके लक्षण और क्या है बेरीबेरी रोग।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Sep 12, 2018

क्यों होता है शरीर में विटामिन बी-1 कम

क्यों होता है शरीर में विटामिन बी-1 कम
1/5

शरीर में विटामिन बी-1 की कमी के कई कारण हो सकते हैं। आमतौर पर बहुत ज्यादा डाइटिंग करना, शराब पीना, सिगरेट की लत, लिवर का ठीक से काम न करना, किडनी की समस्या आदि के कारण विटामिन बी-1 की कमी हो जाती है। इसके अलावा उन लोगों के शरीर में भी विटामिन बी-1 की कमी हो सकती है, जो बहुत अधिक मिठाई, कोल्ड ड्रिंक्स और प्रॉसेस्ड फूड खाते हैं। विटामिन बी-1 की कमी से बेरीबेरी रोग हो जाता है। चूंकि विटामिन बी-1 या थायमिन मेटाबॉलिज्म को ठीक करता है और कार्बोहाइड्रेट को तोड़कर ऊर्जा बनाने में मदद करता है इसलिए इसकी कमी से शरीर में ऊर्जा की कमी और कुपोषण के लक्षण दिखाई देते हैं।

क्या हैं बेरीबेरी के लक्षण

क्या हैं बेरीबेरी के लक्षण
2/5

शारीरिक गतिविधि के दौरान सांस लेने में तकलीफ, काम के दौरान सांस फूलना, दिल की धड़कन का तेज हो जाना, पैरों में सूजन आना, पैरों में झुनझुनी, मांसपेशी में दर्द, मानसिक भ्रम की स्थिति पैदा होना, बोलने में कठिनाई होना, देखने में परेशानी और याददाश्त में कमी, शरीर पर फफोले या चकत्ते आदि विटामिन बी-1 की कमी के प्रमुख लक्षण हैं।

बेरीबेरी रोग की जांच

बेरीबेरी रोग की जांच
3/5

बेरीबेरी रोग की जांच के लिए डॉक्टर कई तरह के टेस्ट करते हैं। आमतौर पर शरीर में विटामिन बी-1 की कमी जांचने के लिए ब्लड और यूरिन टेस्ट किया जाता है। अगर किसी कारण से आपका शरीर विटामिन बी-1 को पूरी तरह अवशोषित नहीं कर पा रहा है या शरीर में इसकी कमी है, तो ब्लड में इसकी मात्रा सामान्य से कम आती है, जबकि मूत्र में इसकी मात्रा सामान्य से ज्यादा बढ़ जाती है। इसलिए यूरिन और ब्लड टेस्ट के द्वारा विटामिन बी-1 की कमी का पता लगाया जा सकता है। कई बार डॉक्टर बेरीबेरी के कुछ लक्षणों को देखकर न्यूरोलॉजिकल जांच की भी बात कहते हैं।

क्या है बेरीबेरी का इलाज

क्या है बेरीबेरी का इलाज
4/5

आमतौर पर शरीर में विटामिन बी-1 की कमी को आहार द्वारा ही पूरा किया जाता है। कई बार डॉक्टर थायमिन की गोलियां भी देते हैं, ताकि मरीज का शरीर जल्दी रिकवर कर ले और खोई हुई सेहत वापस आ जाए।  बेरीबेरी का खतरा सबसे ज्यादा उन्हें होता है, जो लोग शराब पीते हैं। इसलिए आपके शरीर में भी विटामिन बी-1 की कमी है या आपमें भी बेरीबेरी के लक्षण दिखाई दे रहे हैं, तो विटामिन बी से भरपूर आहार खाएं।

किन आहारों से मिलता है विटामिन बी-1

किन आहारों से मिलता है विटामिन बी-1
5/5

विटामिन बी-1 आपको सेम और फलियां वाली सब्जी, अंकुरित बीज, मांस, मछली, साबुत अनाज, सूखे मेवे या नट्स, डेयरी उत्पाद, जौ, बाजरा, ज्वार, मैदा, चावल, सोयाबीन, गेहूं, अंकुरित अनाज, दलिया, मटर और मूंगफली से प्राप्त होता है। आपको डेरी उत्पादों का सेवन भरपूर मात्रा में करना चाहिए जैसे दूध, दही, पनीर, चीज, मक्खन, सोया मिल्क आदि। इसके अलावा जमीन के भीतर उगने वाली सब्जियों जैसे आलू, गाजर, मूली, शलजम, चुकंदर आदि में भी विटामिन बी आंशिक रूप से पाया जाता है।

Disclaimer