किचन में इन वास्तुटिप्स का रखें ध्यान, पाएं अच्छी सेहत, स्वस्थ तन-मन!

अगर आपके घर में कोई ना कोई हमेशा बीमार पड़ता रहता है तो इसका कारण किचन की गलत वास्तुस्थिति हो सकती है। ऐसे में वास्तुशास्त्र के इन वास्तु टिप्स को फॉलो करें और स्वस्थ रहें।

Gayatree Verma
Written by: Gayatree Verma Published at: Jan 11, 2017

किचन वास्तु-टिप्स

किचन वास्तु-टिप्स
1/5

अगर-अगर बार-बार घर में हर कोई बीमार पड़ा रहा है तो किचन के इन वास्तुटिप्स पर गौर करें। क्योंकि कई बार घर का और अच्छा खाना खाने से भी बीमारी का साया घर से उठता नहीं और कोई ना कोई घर में बीमार पड़ा रहता है। ऐसा किचन के वास्तुदोष के कारण होता है। ऐसे में वास्तुशास्त्र के इन वास्तुटिप्स को फॉलो करें और स्वस्थ रहें।

खाना पकाने की दिशा

खाना पकाने की दिशा
2/5

वास्तुशास्त्र के अनुसार कभी भी खाना पश्चिम और उत्तर की तरफ मुंह करके नहीं बनाना चाहिए क्योंकि पश्चिम की तरफ मुंह करके खाना बनाने से त्वचा व जॉइंट से संबंधित समस्या होती है। वहीं उत्तर की तरफ खाना बनाने से आर्थिक समस्या होती है। क्योंकि उत्तर दिशा को धन का स्वामी कुबेर का स्थान माना जाता है जिस कारण रसोईघर में जलने वाली आग धन को जला देती है और घर में आर्थिक समस्या होती है।

पूर्व की तरफ चूल्हा रखे

पूर्व की तरफ चूल्हा रखे
3/5

खाना बनाने की सही दिशा वास्तुशास्त्र के अनुसार पूर्व को माना गई है। पूर्व से आने वाली सकारात्मक ऊर्जा खाने को समृद्धि से भरपूर बना देती है। जबकि वैज्ञानिक कारणों के अनुसार पूर्व से सूरज निकलता है। ऐसे में पूर्व में किचन होने से सूरज की पहली रोशनी किचन में आती है जिससे किचन में जमे सारे कीटाणु नष्ट हो जाते हैं। इसलिए हमेशा किचन की खिड़की पूर्व की तरफ रखनी चाहिए।

गाय की रोटी

गाय की रोटी
4/5

हमेशा खाना बनाने से पहले सुबह को गाय के लिए एक रोटी जरूर बना दें और खाना खाने के लिए बैठने से पहले गाय को वो रोटी खिला दें। इससे आर्थिक तौर पर घर में समृद्धि बनी रहती है और घर में शांति आती है। जबकि वैज्ञानिक कारणों के अनुसार, गाय को रोटी खिलाने के लिए अधिकतर बार बच्चों को भेजा जाता है जिससे घर के बच्चों में संवेदनशीलता आती है और वो जानवरों के साथ बड़ों व दूसरों का भी आदर-सम्मान करना सीखते हैं।

नहाने से पहले किचन में ना घुसें

नहाने से पहले किचन में ना घुसें
5/5

वास्तुशास्त्र के अनुसार बिना नहाए किचन में भी घुसना नहीं चाहिए। वास्तुशास्त्र में हमेशा नहाकर और पूजा करके खाना बनाना चाहिए और भगवान को भोग लगाकर खाना शुरू करना चाहिए। वैज्ञानिक तौर पर माना गया है कि जब तक हम नहाते नहीं है तब तक बिस्तर के सारे कीटाणु हमारे शरीर से चिपके रहते हैं। इसलिए बिना नहाए कभी भी किचन में खाना नहीं बनाना चाहिए।

Disclaimer