महिलाओं के लिए 5 प्रमुख विटामिन

पुरुषों की तलना में महिलायें अधिक बीमार रहती है, इसका प्रमुख कारण है महिलाओं के शरीर में विटामिन की कमी, इस स्लाइडशो में महिलाओं के लिए जरूरी विटामिन के बारे में पढ़ें।

Gayatree Verma
Written by: Gayatree Verma Published at: Jun 10, 2016

विटामिन ए

विटामिन ए
1/5

विटामिन ए में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। विटामिन ए की जरूरत हर उम्र की महिलाओं को होती है। ये हड्डियों को बनाने और उन्हें मजबूती प्रदान करते हैं। इसके अलावा ये आपकी नई कोशिकाएं, त्वचा और म्यूकस मेंबरेन बनाने में भी सहायक हैं। दांतों की सफेदी और मजबूती विटामिन ए पर ही निर्भर करती है। विटामिन एक की कमी से दीर्घकालीन बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। साथ ही अगर आपको कमजोर दृष्टि की सिकायत है या आंखों से चशमा हटाना चाहते हैं तो विटामिन ए से भरपूर खाद्य पदार्थ जैसे पपीता, मटर, पालक, तरबूज, ब्रोकली, अमरूद, गाजर, टमाटर, अंडा आदि का सेवन करें। ये प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ाते हैं।

विटामिन बी कांप्‍लेक्‍स

विटामिन बी कांप्‍लेक्‍स
2/5

विटामिन बी कॉम्पलेक्स शरीर के लिए काफी फायदेमंद है। यह हाइट बढ़ाने और मेटाबॉलिज्म को सामान्य व तेज रखने के लिए विटामिन बी2 काफी जरूरी है। ये प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाकर शरीर के सुन्न होने की समस्या, सिरहन पैदा होना, तनाव, उत्तेजना और थकावट को कम करता है। विटामिन बी6 शरीर में ब्रेन केमिकल औऱ हार्मोन पैदा करता है जिससे तनाव, अवसाद और दिल की बीमारियों में कमी आती है। ये ब्लड शुगर को रेग्युलेट करने में भी मदद करता है। विटामिन बी7 कोशिकाओं की वृद्धि और फैटी एसिड को संश्लेषित करने का काम करता है। ये विटामिन स्वेट ग्लैंड, बाल और त्वचा को हेल्दी रखता है।  इसकी कमी से एलर्जी, एनिमिया, अवसाद, और रेशेज की समस्या होती है। पीले फल, हरी सब्जियां, सोयाबीन, अंडा का पीला भाग, ब्राउन राइस, दूध, ओटमील, मीठे आलू, केला, गाजर आदि विटामिन बी के स्रोत हैं।

विटामिन सी

विटामिन सी
3/5

विटामिन सी इम्युनिटी बूस्टर के तौर पर जाना जाता है। ये बाल और आंख के स्वास्थ्य के लिए काफी जरूरी माने जाते हैं। इसकी कमी से बाल झड़ने लगते हैं और आंखों की दृष्टि कमजोर हो जाती है। इसकी कमी से बच्चों में कैंसर, दिल की बीमारी और डिशू़ज़ डैमेज की समस्या होती है। ये रेड ब्लड सेल की लगातार शरीर में क्रिया करवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ये महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए काफी जरूरी माना जाता है क्योंकि इसी की कमी की वजह से महिलाओं में बाल झड़ने, चक्कर आने, कमजोरी व अवसाद की समस्या होती है। नींबू, संतरे का जूस, आंवला, आदि खट्टी चीजें विटामिन सी का स्रोत है।

विटामिन डी

विटामिन डी
4/5

विटामिन डी को फैट-सोल्यूबल विटामिन के नाम से भी जाना जाता है और इसके फायदों के बारे में अधिकतर लोगों को पता होता है। इसका सबसे बड़ा स्रोत धूप है जिसमें महिलाएं टैनिंग के डर से निकलती नहीं। ऐशे में महिलाओं में विटामिन डी की कमी होने लगती है जिसके कारण कैल्शियम शरीर को मिल नहीं पाता और  हड्डियां कमजोर होने लगती हैं। इसीकी कमी से अधिकतर महिलाएं मोटापे का शिकार होती हैं। ये प्री-मेंस्ट्रुअल सिंड्रोम के लक्षणों को भी कम करने में मदद करता है। विटामिन डी लेने के लिए सूबह की धूप में निकलें। साथ ही लीवर और अंडे व मछली खाएं।

विटामिन ई

विटामिन ई
5/5

विटामिन ई में एंटी एजिंग गुण होता है जिससे या मरे हुआ और डैमेज कोशिकाओं को शरीर से बाहर निकाल या उसे ठीक कर बूढ़े होने की प्रक्रिया को धीमा करता है। इसकी कमी से इंसान उम्र से पहले बूढ़ा दिखने लगता है। ये विटामिन दिल की बीमारियां, कमजोर याद्दाश्त, और कुछ विशेष तौर के कैंसर से शरीर की रक्षा करता है। साथ ही विटामिन ई त्वचा औऱ बालों के लिए भी जरूरी है। विटामिन ई की कमी से सबसे ज्यादा याद्दाश्त कमजोर होती है जो बुढ़ापे की  सबसे बड़ी निशानी है। इसकी कमी को पूरा करने के लिए विटामिन ई युक्त भोजन जैसे पालक, पिनट बटर, बादाम, कोर्न ऑयल आदि का सेवन करें।

Disclaimer