ठंड में जोड़ों के दर्द और जकड़न से बचना है तो इन 5 बातों का रखें ध्यान

ठंड में गठिया के मरीजों की परेशानी बढ़ जाती है। लेकिन अगर आप कुछ बातों का ध्यान रखें तो इस दौरान भी आप ठंड के इस प्रकोप से बच सकते हैं।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Jan 11, 2018

शरीर को गर्म रखें

शरीर को गर्म रखें
1/5

ठंड के मौसम में खुद को गर्म रखना बहुत जरूरी है। गठिया के मरीजों को ठंड से बचना चाहिए और शरीर को गर्म रखने के लिए पूरे दिन गर्म कपड़े पहने रखना चाहिए। गठिया के मरीजों को सुबह उठकर, बिस्तर से सीधे खुली जगह पर नहीं जाना चाहिेए। ठंडी हवा के संपर्क आने से जोड़ों में जकड़न होगी और फिर दर्द होगा। इसलिए उठने के बाद थोड़ी देर कमरे के तापमान में रहें और शरीर को पहले उसके अनुकूल होने दें।

वसा का सेवन कम करें

वसा का सेवन कम करें
2/5

ठंड के मौसम में वसा वाले पदार्थों और तेल-घी का कम से कम इस्तेमाल करें। अच्छा होगा कि आप इस मौसम में ऑलिव ऑयल का प्रयोग करें। ऑलिव ऑयल के साथ-साथ प्याज खाने से आपको जोड़ों के दर्द से राहत मिलेगी और इससे शरीर में फैट भी नहीं जमा होगा।

प्यूरिन वाले आहार से बचें

प्यूरिन वाले आहार से बचें
3/5

ठंड के मौसम में यूरिक एसिड से गठिया रोग का दर्द बढ़ जाता है। यूरिक एसिड शरीर में प्यूरिन के टूटने से बनता है। इसलिए ठंड में ऐसे आहार से बचना चाहिए जिनमें प्यूरिन होता है जैसे- रेड मीट, ऑर्गन मीट, सी फूड्स या समुद्री खाना, मशरूम, फूलगोभी, शतावरी आदि।

सुबह की धूप सेकें

सुबह की धूप सेकें
4/5

सर्दियों के मौसम में एक घंटे धूप में रहना आपके लिए फायदेमंद है लेकिन ध्यान रखिये कि सुबह 11 बजे के बाद की धूप में ज्यादा देर रहने के कई दुष्प्रभाव भी हैं। इसलिए सुबह की गुनगुनी धूप में बैठना या लेटना आपके लिए फायदेमंद है। धूप से विटामिन डी मिलती है और ये हड्डियों के लिए अच्छी मानी जाती है।

तेल की मालिश करें

तेल की मालिश करें
5/5

गठिया के मरीजों को ठंड में दर्द से बचने के लिए जोड़ों पर रोज जैतून और तिल के तेल से मालिश करनी चाहिए। इससे जोड़ों की हड्डियां मजबूत रहेंगी और दर्द से भी राहत मिलेगी।

Disclaimer