फर्स्ट रिलेशनशिप से पहले इन बातों की जानकारी है जरूरी

फर्स्ट रिलेशनशिप में अक्सर लोगों से कई गलतियां हो जाती हैं जिन्हें वो आगे कबी नहीं दोहराना चाहते हैं। इन गलतियों से बचने के लिए जानिए ये खास बातें।

Anubha Tripathi
Written by: Anubha TripathiPublished at: Apr 17, 2014

गलतियों को पहचानें

गलतियों को पहचानें
1/12

आजकल के युवा पहली बार किसी रिलेशनशिप में आने पर कई ऐसी गलतियां कर बैठते हैं जो उनके खुद के लिए बहुत नुकसानदेह होता है। हम में से हर किसी ने पहली बार किसी रिश्ते में आने पर थोड़ी-बहुत गलतियां जरूर की होंगी लेकिन और लोग ये गलतियां ना करें या इन गलतियों को ना दोहराएं। इसके लिए जरूरी है कुछ खास बातों की जानकारी होना। आइए जानें फर्स्ट रिलेशनशिप में आने से पहले किन बातों के बारे में जानना जरूरी है।  

खुद को परिभाषित करें

खुद को परिभाषित करें
2/12

अपने आप को अपने गर्लफ्रेंड या बॉयफ्रेंड के ऊपर निर्भर ना करें। खुद को इतना मजबूत बनाए कि आपको किसी पर निर्भर ना होना पड़ें। किसी भी रिश्ते के बारे में गंभीरता से सोचने से पहले अपने गर्लफ्रेंड या बॉयफ्रेंड के बारे में आश्वस्त हो जाएं। आपको किस तरह रहना है इसका फैसला सिर्फ आपका खुद का होना चाहिए।

दोस्तों और परिवार की अनदेखी ना करें

दोस्तों और परिवार की अनदेखी ना करें
3/12

यह गलती ज्यादातर लोग करते हैं। किसी भी नए रिश्ते में जुड़ने पर अक्सर लोग अपने परिवार के लोगों को या दोस्तों को अनदेखा करना शुरु कर देते हैं। ऐसा कभी ना करें क्योंकि अगर आपका रिश्ता किन्हीं कारणों से सफल नहीं हो पाता है तो ये वे लोग हैं जो हमेशा आपके साथ रहेंगे। इसलिए नए रिश्ते जुड़ने के बाद भी उनके लिए समय जरूर निकालें।   

अत्यधिक खुश होना

अत्यधिक खुश होना
4/12

जब आप किशोरावस्था में होते हैं जो आपका हार्मोन आपको किसी और के प्रति आकर्षित करता है जिससे आप प्यार समझते हैं। आपके अलवा और कोई भी आपकी इस भावना को समझ नहीं पाता है। उस दौरान ऐसा लगता है कि इसके बाद आपके जीवन में और कोई खुशी नहीं आने वाली है लेकिन यह सच नहीं होता है। जीवन में खुश होने के और भी कई मौके मिलते हैं।  

दिल और दिमाग में संतुलन

दिल और दिमाग में संतुलन
5/12

किसी के साथ पहली बार डेट करना या रिश्ते में जुड़ना आखिरी नहीं हो सकता है। ऐसे में आपको अपने दिल और दिमाग के बीच संतुलन बनाने की जरूरत होती है। खुद को थोड़ा सा सुरक्षित करना भी जरूरी होता है। इसके साथ ही सामने वाले के प्रति प्यार भी जताना होता है।

ठेस पहुंचना

ठेस पहुंचना
6/12

यह जीवन का हिस्सा है और कई बार यह अपेक्षित भी होता है। जब आप खुद किसी और के सामने रखते हैं अपने बार में सब कुछ बताते हैं तो आलोचना होना सामान्य है। यह दो लोगों के बीच संबंध स्थापित करता है लेकिन कई बार यह काफी दुखदायी भी होता है। किसी भी रिश्ते में जुड़ने के साथ ही हर्ट होने का जोखिम होता ही है।   

सम्मान होना जरूरी

सम्मान होना जरूरी
7/12

किसी भी रिश्ते में सम्मान होना बहुत जरूरी है ना सिर्फ अपने साथी द्वारा बल्कि खुद के द्वारा भी। जब तक आप खुद की इज्जत नहीं करेंगे सामने वाला भी नहीं करेगा। रिश्ते के प्रति उतना ही संपर्ण दिखाएं जितना जरूरी हो। अपने साथी के लिए शारीरिक और जबानी तौर पर कुछ सीमाएं बनाएं। अगर वो इन सीमाओं को पार करे तो हर बार उसे माफ करना ठीक नहीं।   

प्यार ही सब कुछ नहीं होता

प्यार ही सब कुछ नहीं होता
8/12

प्यार के अलावा भी आपके जीवन में बहुत कुछ है जिनके बारे में आपको सोचना चाहिए। आपका परिवार, नौकरी, होमवर्क, दोस्त आदि। केवल एक रिश्ते की खातिर इन चीजों को भुलाया नहीं जा सकता है।  

शौक को ना भूलें

शौक को ना भूलें
9/12

किसी भी रिश्ते में जुड़ने का मतलब यह नहीं है कि आप अपने सभी शौक को भूला बैठें। अपने साथी को अपने शौक के बारे में बताना चाहिए इसके साथ ही सामने वाले को भी आपके शौक की कद्र करते हुए उसे पूरा करने का मौका और समय देना चाहिए ना कि उस पर सब कुछ छोड़ने का दबाव बनाना चाहिए।

बदलने के लिए दबाव ना डालें

बदलने के लिए दबाव ना डालें
10/12

जीवन में जब तक आप गलत ना हो तो खुद को नहीं बदलना चाहिए। अक्सर महिलाएं पुरुषों के लिए खुद को बदल कर उनके मुताबिक रहने लगती है। लेकिन ऐसा करने से अंदर से खुशी महसूस नहीं करती हैं तो अगर आप खुद से बदलाव चाहते हैं तो ही खुद को बदलें किसी के कहने पर नहीं।

Disclaimer