ऐसे लोगों में बार बार होता है यूरीन संक्रमण

By:Aditi Singh , Onlymyhealth Editorial Team,Date:Sep 15, 2016
यूरीन टैक्ट इंफेक्शन एक तरह का मूत्र संक्रमण होता है, जिसके नतीजे गंभीर होते है। कुछ लोगो में ये परेशानी बार बार हो जाती है। ऐसे लोगो के बारे में विस्तार से जानें।
  • 1

    सेक्सुअली एक्टिव

    यूरीन इंफएक्शन का मुख्य कारण ज्यादा सेक्सुअली एक्टिव होना भी होता है। जो लोग बहुत ज्यादा सेक्स करते है कई बार असावधानी के कारण बैक्टीरिया उनके शरीर में पहुंच जाते है। जो यूरीन टैक्ट को बढ़ाता है। इससे बचने के लिए सेक्स के तुंरत बाद पेशाब जाना चाहिए। जिससे बैक्टीरिया शरीर में प्रवेश ना कर सके।  
    Image Source-Getty

     सेक्सुअली एक्टिव
    Loading...
  • 2

    50 से ज्यादा आयु

    बुजुर्गों में खासतौर से जिनकी उम्र 50 से ऊपर हो जाती है, उनमें  मूत्र संक्रमण का खतरा ज्यादा रहता है।  उम्र बढ़ने के साथ पुरूषों की प्रोस्टेट ग्लैंड भी बढ़ जाती है। जिससे पेशाब करने में तकलीफ होती है। पेशाब को ठीक तरह से ना निकल पाना बैक्टीरिया को बढ़ावा देता है। जिसके कारण यूरीन टैक्ट इंफेक्शन की शिकायत होती है।
    Image Source-Getty

    50 से ज्यादा आयु
  • 3

    रजोनिवृत्ति

    एक शोध के मुताबिक जिन महिलाओं की रजोनिवृत्ति हो जाती है उन्हे भी मूत्र संक्रमण का खतरा ज्यादा रहता है। इसकी प्रमुख वजह एस्ट्रोजन हार्मोन के स्तर का कम होना होता है। जिसके कारण यूटीआई की संभावना बढ़ जाती है। ऐसे में महिलाओं को मेनोपाॉज के बाद ज्यादा सावधानी बरतनी चाहिए।
    Image Source-Getty

    इसे भी पढ़ें: मीनोपॉज में रखें खानपान का ख्याल

    रजोनिवृत्ति
  • 4

    प्रसव के बाद

    महिलाओ में प्रसव के बाद 79 फीसदी मामलों में पेशाब पर नियंत्रण खत्म हो जाता है। जिसकी वजह पेलविक (बच्चेदानी के नीचे का हिस्सा) की मांसपेशियों का ढीला होना होता है, ऐसे अधिकांश मामलों में महिलाओं को छींक के साथ पेशाब रिसने की समस्या होती है। जिससे भी मूत्र संक्रमण की शिकायत हो जाती है।
    Image Source-Getty

    प्रसव के बाद
  • 5

    मधुमेह के रोगी

    मधुमेह के रोगियों को यूरीन टैक्ट इंफेक्शन की समस्या आम बात है। मधुमेह के रोगियों को बार बार पेशाब जाने की शिकायत होती है, क्योंकि उनका ब्लैडर ठीक तरह से काम नहीं करता है। ये समस्या पुरूषों की तुलना में महिलाओं को ज्यादा होती है। उनके मू्त्रमार्ग में बैक्टीरिया पंहुचना ज्यादा आसान होता है।
    Image Source-Getty

    मधुमेह के रोगी
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK