स्‍वाइन फ्लू होने पर बरतें ये 5 सावधानियां, बच जाएगी मरीज की जान

मौसम बदलने के साथ स्‍वाइन फ्लू की समस्‍या बढ़ने लगती है। स्वाइन फ्लू के नाम का प्रयोग एक नए प्रकार के इंफ्लुएंजा को दर्शाने के लिए किया जाता है। हालांकि यह मूल रूप से सूअरों में पाया जाता है। यह वायरस आम तौर पर इंसानों में संक्रमित नहीं होता, लेकिन यह बीमारी उन लोगों को अपना शिकार बना सकती है जो सुअरों के नज़दीकी संपर्क में होते हैं।

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Mar 12, 2019

स्‍वाइन फ्लू की समस्‍या

स्‍वाइन फ्लू की समस्‍या
1/6

मौसम बदलने के साथ स्‍वाइन फ्लू की समस्‍या बढ़ने लगती है। स्वाइन फ्लू के नाम का प्रयोग एक नए प्रकार के इंफ्लुएंजा को दर्शाने के लिए किया जाता है। हालांकि यह मूल रूप से सूअरों में पाया जाता है। यह वायरस आम तौर पर इंसानों में संक्रमित नहीं होता, लेकिन यह बीमारी उन लोगों को अपना शिकार बना सकती है जो सुअरों के नज़दीकी संपर्क में होते हैं। स्‍वाइन फ्लू के वायरस बारिश में अति सक्रिय हो जाते हैं इसलिए इनसे बचने के लिए सुरक्षा के उपाय अपनाना और इनके लक्षणों को जानना भी अति आवश्यक है।

घर के आसपास सफाई रखें

घर के आसपास सफाई रखें
2/6

स्वाइन फ्लू वायरस से बचाव के लिए जरूरी है घर को साफ-सुथरा रखें। सिर्फ घर को ही नहीं बल्कि घर के आसपास में भी सफाई रखें। यदि घर के आसपास गंदगी है तो उसे साफ करवाएं। कहीं भी गंदा पानी इकट्टा न होने दें।

साफ-सुथरे कपड़े पहनें

साफ-सुथरे कपड़े पहनें
3/6

यदि घर में कोई स्वाइन फ्लू या इन्फ़्लुएन्ज़ा से पीडि़त है तो उसे अलग से साफ-सुथरे कमरे में रहने दें। न सिर्फ स्वाइन फ्लू पीडि़त व्यक्ति के कमरे की सफाई रखें बल्कि साफ-सुथरे कपड़े, साबुन और अन्य प्रयोग की चीजों को भी अलग रखें। स्वाइन फ्लू पीडि़त व्यक्ति से कम से कम लोगों को मिलने दें।

खानपान सही रखें

खानपान सही रखें
4/6

स्वाइन फ्लू के उपचार के लिए खान-पान और रहन-सहन का खासतौर पर ध्यान रखना होता है। ऐसे में कम तला हुआ खाएं। साफ-सुथरे रूमाल रखने चाहिए। टिश्यू को इस्तेमाल करने के बाद तुरंत कूड़ेदान में फेंकें। अपने हाथों को लगतार साबुन से धोते रहे। अपने घर के दरवाजों के हेंडल, कीबोर्ड, मेज आदि साफ करते रहे।

संक्रमित व्‍यक्ति से दूर रहें

संक्रमित व्‍यक्ति से दूर रहें
5/6

यदि आपको जुकाम के लक्षण दिखाई दें तो घर से बाहर ना जाएं और दूसरों के नजदीक ना जाएं। यदि आपको बुखार हो तो उसके ठीक होने के 24 घंटे बाद तक घर पर रहे। लगातार पानी पीते रहे ताकि डिहाइड्रेशन ना हो। कोशिश करें की स्वाइन फ्लू प्रभावित जगह में जाने से पहले फेसमास्क पहन लें।

डॉक्‍टर से सलाह लें

डॉक्‍टर से सलाह लें
6/6

चेहरे पर बार-बार बिना वजह हाथ न लगाए। धूप से सिकाई करें। यदि आपके क्षेत्र में स्वाइन फ्लू महामारी फैली हुई है तो इससे निपटने की तैयारी पहले से ही कर लें। डॉक्टर के निरंतर संपर्क में रहें। संभव हो तो आसपास के लोगों को भी इसके प्रति जागरूक करें।

Disclaimer