जानें क्या होती है हाउस हसबैंड की परेशानियां

हाउस हसबैंड बनने का चलन भारत में भी बढ़ता जा रहा है। अर्जुन कपूर और करीना कपूर की आने वाली फिल्म "की और का" भी इस पर आधारित है।हाउस हसबैंड किस तरह की परेशानियों से जूझता है इस बारे में विस्तार से जानते है।

Aditi Singh
Written by: Aditi Singh Published at: Mar 18, 2016

हाउस हसबैंड बनना

हाउस हसबैंड बनना
1/5

अर्जुन कपूर और करीना कपूर की आने वाली फिल्म "की और का" ट्रेलर तो आप देख ही चुके होगें। फिल्म के ट्रेलर से पता चलता है कि इस फिल्म में अर्जि एक हाउस हसबैंड का किरदार अदा कर रहें है। हाउस हसबैंड क प्रचलन भारत में बहुत नहीं है। एक हाउस हसबैंड के लिए घर और बाहर दोनो जगह क्या परेशानियां आती है इस बारे में हम आज आपको बता रहें।    Image Source-Getty

भारत में कम देखे जाते है

भारत में कम देखे जाते है
2/5

भारतीय चलन से परे कुछ घरों में पत्नी की जगह पति घर का काम करते है। औऱ ये उनकी मजबूरी नहीं बल्कि खुशी होता है। भारत में हाउस हसबैंड का चलन बढ़ रहा जहां पत्नी घर के बाहर जाकर कमाती है और पति घर के सारे काम करता है। पति का घर पर खाना बनाना इतना मुश्किल काम नहीं होता जितना महिलाओं का मर्दों की दुनिया में काम करना है। अगर खुशी और दिल से ये काम किया जाए तो इससे घर और समाज के माहौल में भी अच्छा बदलाव आता है। Image Source-Getty

ताना सुनना

ताना सुनना
3/5

अगर महिलाओं घर के बाहर के काम को कर सकती है तो पुरूष भी घर के काम करने में खुद को पीछे नहीं समझते है। हां घर के काम करने अक्सर पुरूषो को ताने सुनने आदि जैसी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। पर इसका मतलब ये नहीं है कि वो किसी भी तरह के काम करने असमर्थ है या ये काम उनके लिए छोटा है। Image Source-Getty

पत्नी की मदद जरूरत

पत्नी की मदद जरूरत
4/5

ऑफिस में बॉस होना अक्सर पुरूषों के लिए आसान होता है जबकि इसके उलट घर के अंदर के सारे काम परफेक्शन के साथ काम कर पाना संभव नहीं हो पाता है। ये कई बार गुस्सा भी दिलाता है, लेकिन इन मामलों में पत्नियां अपने पति को समझाती है। काम को ठीक और आसानी से करने में मदद करती है। ठीक वैसे ही जैसे हसबैंड बाहर के कामों में पत्नी की मदद करता है।  Image Source-Getty

सैलरी नहीं मिलती

सैलरी नहीं मिलती
5/5

जैसे पत्नी घर के कामों के लिए चार्ज नहीं करती ठीक वैसे ही पति भी घर के कामों के लिए किसी तरह की पेंमेट नहीं पाते। पत्नियों जितना समर्पण पति में आना थोड़ा मुश्किल होता है पर फिर वो पूरी मेहनत और प्यार से घर का काम करता है। घर के काम पुरूष मानसिकता को कई बार परेशान कर देती है क्योंकि वो आर्थिक रूप से भी प्तनी पर निर्बर करते है लेकिन थोड़ा संतुलन बनाए तो ये मुश्किल नहीं है। Image Source-Getty

Disclaimer