क्‍या सच में माइक्रोवेव पॉपकॉर्न से फैलतीं हैं फेफड़े की बीमारियां

माइक्रोवेव पापकोर्न खाने वालों के लिए यह बुरी खबर हो सकती है, इससे सूखी खांसी होने के साथ श्‍वांस संबंधी दूसरी समस्‍यायें भी हो सकती हैं, ऐस क्‍यों है, इसके बारे में जानने के लिए इस स्‍लाइडशो को पढ़ें।

Meera Roy
Written by: Meera RoyPublished at: Jan 25, 2016

माइक्रोवेव पापकोर्न

माइक्रोवेव पापकोर्न
1/5

शायद ही आपने कभी सुना हो कि माइक्रोवेव पापकोर्न से लंग डिज़ीज होता है। लेकिन एक अध्ययन से इस बात की पुष्टि हुई है कि माइक्रोवेव पापकोर्न में रद्दी किस्म के रसायनों का इस्तेमाल किया जाता है। ये रसायन हमारे स्वास्थ्य को नकारात्मक रूप से प्रभावित करते हैं। माइक्रोवेव पापकोर्न से जुड़ी समस्याओं में खासकर वो लोग जकड़ में आते हैं जो माइक्रोवेव पापकोर्न प्लांट में काम करते हैं। बहरहाल विशेषज्ञों की मानें तो माइक्रोवेव पापकोर्न सेहत के लिए ई-सिगरेट जितना ही हानिकारक है।Image Source-Getty

श्वास सम्बंधी बीमारी

श्वास सम्बंधी बीमारी
2/5

माइक्रोवेव पापकोर्न न सिर्फ हमारे लंग को प्रभावित करते हैं बल्कि श्वास सम्बंधी समस्याएं भी खड़ी करते हैं। शोधकर्ताओं ने शोध सर्वेक्षण में यह भी पाया है कि फ्लेवर्ड ई सिगरेट में हेरोइन होता है। यही रसायन कुछ कृत्रिम पापकोर्न में भी इस्तेमाल किया जाता है। यही कारण है कि माइक्रोवेव पापकोर्न हमारे श्वास को नुकसान पहुंचाता है।Image Source-Getty

ब्रोन्कियोलाइटिस

ब्रोन्कियोलाइटिस
3/5

हेरोइन जैसे रसायन हमारे शरीर में फैलने से हमें  ब्रोन्कियोलाइटिस होने का खतरा होता है। नतीजतन माइक्रोवेव पापकोर्न खाने से ब्रोन्कियोलाइटिस होने का भी खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में जरूरी यह कि माइक्रोवेव पापकोर्न से दूरी बनाए रखें। इसके अलावा विशेषज्ञ यह भी कहते हैं कि नियमित माइक्रोवेव पापकोर्न खाने से लंग में आसानी से हवा पास नहीं हो पाती। जिससे सांस लेने में परेशानी महसूस होती है।Image Source-Getty

सूखी खासी

सूखी खासी
4/5

माइक्रोवेव पापकोर्न खाने से सूखी खासी भी हो जाती है। असल में बोन्कियोलाइटिस के मरीज यदि नियमित माइक्रोवेव पापकोर्न खाते हैं तो सूखी खासी होने की शिकायत बढ़ जाती है। विशेषज्ञों की मानें तो सूखी खासी से निजात पाने के लिए माइक्रोवेव पापकोर्न का सेवन कम करना आवश्यक है। वैसे भी यह बताने की आवश्यकता नहीं है कि सूखी खासी हमें किस हद तक परेशान करती है। अतः माइक्रोवेव पापकोर्न कम खाना ही सही है।Image Source-Getty

वाष्प

वाष्प
5/5

जो लोग हमेशा वाष्प युक्त आहार के निकट रहते हैं उन्हें वो तमाम समस्या हो सकती है जो माइक्रोवेव पापकोर्न से पनपती है। ऐसे में जरूरी यह है कि वाष्प युक्त आहार से दूर रहें ताकि सांस सम्बंधी बीमारी आसपास फटक भी न सके। तमाम वाद-विवाद के बाद विशेषज्ञ यह भी मानते हैं कि माइक्रोवेव पापकोर्न खाना स्वास्थ्य को उस हद तक प्रभावित नहीं करता कि हम उसे पूरी तरह अपने जीवन से नदारद कर दें। कम रिस्क के साथ माइक्रोवेव पापकोर्न का मजा लिया जा सकता है। आपके लिए सिर्फ इतना करना जरूरी है कि माइक्रोवेव पापकोर्न उतना ही खाएं जितना स्वास्थ्य को नुकसान न पहुंचाए।Image Source-Getty

Disclaimer