चीनी शरीर पर डालती है ये 10 दुष्‍प्रभाव, जानकर चौंक जाएंगे आप!

हममें से ज्यादातर लोग मीठा खाते समय इसके खतरों के बारे में नहीं सोचते। लेकिन क्‍या आप यह जानते हैं कि लगातार आवश्यकता से ज्यादा चीनी युक्त खाद्य पदार्थ के इस्तेमाल से मोटापा, डायबिटीज, हृदय रोग एवं दांतों के क्षय का सामना करना पड़ सकता है।

Pooja Sinha
Written by: Pooja SinhaPublished at: Aug 08, 2014

चीनी के दुष्‍प्रभाव

चीनी के दुष्‍प्रभाव
1/11

केलीफोर्निया यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता, चीनी को एल्‍कोहल के नशे के बराबर मानते हैं। उनका मानना है कि चीनी एक विषाक्त तत्‍व है जिससे आप बच नहीं सकते हैं। यह आपके शरीर के लिए बेहत की नुकसानदेह होती है। इसका सेवन हमें धीरे-धीरे कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं की ओर ले जाता है। जानिए चीनी खाने की आदत आपके शरीर में क्‍या-क्‍या कमाल दिखाती है। image courtesy : getty images

हृदय रोग

हृदय रोग
2/11

चीनी की आवश्यकता से बहुत ज्यादा मात्रा का सेवन हृदय रोग को बुलावा देती है। चीनी के कारण लीवर को ज्‍यादा यूरिक एसिड बनाना पड़ता है। जिससे हाई ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या हो जाती है। और यह आपके शरीर को हृदय रोगों की ओर धकेलता है। image courtesy : getty images

दिमागी बीमारी

दिमागी बीमारी
3/11

ज्यादा चीनी खाने से शरीर का उच्‍च रक्तचाप का स्‍तर तेजी से बढ़ता और कम होता है। जिससे माइग्रेन या सिर दर्द जैसी समस्याएं सामने आती हैं। लगातार उच्‍च रक्तचाप के स्‍तर के बढ़ने से ब्रेन सेल भी खत्म होने लगते हैं जिससे डिमेंशिया जैसी भयानक बीमारियां भी आपको प्रभावित करने लगती है। image courtesy : getty images

लीवर पर असर

लीवर पर असर
4/11

लीवर सिरोसीज की समस्‍या शराब के अत्‍यधिक सेवन से होती है। इस समस्‍या में लीवर खराब हो जाते हैं। लेकिन यह बीमारी चीनी की अधिक मात्रा से भी होती है। यह इसलिए होता है कि चीनी खाने से वजन बढ़ने लगता है और इंसुलिन प्रभावहीन हो जाता है और चीनी फैट के रूप में  लीवर में जमा होना शुरू हो जाता है। इसे फैटी लीवर डिसीज भी कहा जाता है। image courtesy : getty images

दांतों पर असर

दांतों पर असर
5/11

यह बात तो हम सभी जानते हैं कि अधिक चीनी का सेवन, दांतों में कैविटी, मसूड़ों से खून और दांत टूटने जैसी समस्‍या का कारण होती हैं। आप जितनी अधिक मात्रा में चीनी का सेवन करेंगे, दांतों में कैविटी होने का खतरा उतना ही अधिक होगा। image courtesy : getty images

पेनक्रियाज पर असर

पेनक्रियाज पर असर
6/11

शरीर द्वारा पर्याप्‍त मात्रा में इनसुलिन का निर्माण न कर पाना डायबिटीज का सबसे बड़ा कारण है। इनसुलिन पेनक्रियाज में बनने वाला हॉर्मोन है। अधिक शर्करा के कारण पेनक्रियाज को ज्‍यादा काम करना पड़ता है। इससे इनसुलिन प्रतिरोधकता और अन्‍य समस्‍यायें उत्‍पन्‍न हो जाती हैं। image courtesy : getty images

कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता

कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता
7/11

लिक-द शुगर हैबिट' पुस्तक की लेखिका नैंसी एपलटन के अनुसार, ज्यादा चीनी के सेवन से शरीर में खनिज लवणों का स्तर असंतुलित हो जाता है जिससे हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने लगती है। image courtesy : getty images

जल्दी बुढ़ापा

जल्दी बुढ़ापा
8/11

आप जो कुछ भी खाते हैं उसका असर आपके शरीर के साथ त्‍वचा पर भी पड़ता है। खून में ज्‍यादा शुगर होने से त्‍वचा ढीली पड़ने लगती है और उम्र से पहले झुर्रियां समस्‍या होने लगती हैं। अगर आपको खाने में मीठा पसंद है तो आपको भी झुर्रियों की समस्‍या हो सकती है। image courtesy : getty images

मोटापा

मोटापा
9/11

मोटापे से अन्‍य कई प्रकार की बीमारियां हो सकती है। मोटापा एक जटिल समस्या है, जो दिन-प्रतिदिन बढती जा रही है। कई अध्ययनों के अनुसार, शहरी युवा इसकी चपेट में ज्यादा आ रहे हैं। इस वजह हैं श्‍ुगर युक्त आहार जैसे, जंक फूड, कोल्ड ड्रिंक, केक, पेस्ट्री आदि खाद्य पदार्थो का ज्यादा सेवन। image courtesy : getty images

कोलेस्ट्रॉल

कोलेस्ट्रॉल
10/11

मोटापा और डायबिटीज की तरह कोलेस्ट्रॉल का बढ़ता स्तर भी हृदय रोग को बुलावा देता है। इस बात के कई प्रमाण हैं कि चीनी की बहुत ज्यादा मात्रा बुरे कॉलेस्ट्रॉल को बढ़ावा देती है। इसलिए चीनी के अत्‍यधिक सेवन से बचें। image courtesy : getty images

Disclaimer