क्या आप अभी भी इन 4 मानसून डाइट मिथ पर करते हैं यकीन

By:Pooja Sinha, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Aug 14, 2015
कुछ चीजों का परहेज और आहार में परिवर्तन जैसे उपायों का पालन कर, आप मानसून में स्‍वस्‍थ रह सकते हैं। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि इन आम परितर्वनों में से कुछ वास्‍तव में सिर्फ मिथ है। आइए ऐसे ही कुछ आहार मिथ के बारे में इस स्‍लाइड शो में जानकारी लेते हैं।
  • 1

    मानसून डाइट मिथ पर न करें यकीन

    मानसून गर्मी से राहत दिलाने के साथ आपके लिए लाता है, कई प्रकार की स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याएं जैसे फ्लू, सर्दी और खांसी आदि। इनसे बचने के लिए आपको बरसात के मौसम के दौरान कुछ चीजों को खाने से परहेज और आहार में परिवर्तन जैसे कुछ उपायों का पालन करना होगा। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि इन आम परितर्वनों में से कुछ वास्‍तव में सिर्फ मिथ है। दक्षिण एशिया, हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड के न्‍यू‍ट्रिशियन और हेल्‍थ मैनेजर ऋचा मट्टू के अनुसार, कुछ मिथ यहां दिये गये है।
    Image Source : Getty

    मानसून डाइट मिथ पर न करें यकीन
    Loading...
  • 2

    मिथ 1: मानसून के दौरान समुद्री आहार/मछली नहीं खाना चाहिए।

    तथ्य: कई लोगों का मानना है कि बारिश के दूषित पानी में रहने से मछली भी दूषित हो जाती है जिसके कारण उसका सेवन नहीं करना चाहिए, क्‍योंकि इससे संक्रमण होने की संभावना रहती है। लेकिन वास्‍तविकता यह है कि बारिश का मछली के सेहत पर कोई असर नहीं पड़ता। इसलिए बारिश के मौसम में भी आप मछली खाने का मजा ले सकते हैं।
    Image Source : Getty

    मिथ 1: मानसून के दौरान समुद्री आहार/मछली नहीं खाना चाहिए।
  • 3

    मिथ 2: बारिश में भोजन दही आप बीमार गिर पड़ता है।

    तथ्य: दही की तासीर ठंडी होने के कारण कई लोग मानसून में दही खाने को शरीर के लिए हानिकारक मानते है। और यह भी मानते हैं कि गर्म तासीर वाले आहार मानसून में प्रतिरक्षा प्रणाली को दुरुस्‍त रखने के लिए जरूरी होते है। लेकिन क्‍या आप जानते हैा कि दही में गुड बैक्‍टीरिया पाचन तंत्र में सुधार करने, पोषक तत्‍वों को अवशोषित करने और पेट की इम्‍यूनिटी में सुधार करने में मदद करता है। दही पेट के संक्रमण को शांत करने वाली और मानसून में होने वाली आम समस्‍याओं जैसे डायरिया और फूड प्‍वॉइ‍जनिंग को दूर करने में मदद करती है।
    Image Source : Getty

    मिथ 2: बारिश में भोजन दही आप बीमार गिर पड़ता है।
  • 4

    मिथ 3: चिकन सूप कोल्‍ड को जल्‍द ठीक करता है।

    तथ्‍य : हल्‍की बारिश में गर्म सूप सबसे अच्‍छा माना जाता है। और गले की खराश को शांत करने में मदद करता है। लेकिन अन्‍य स्‍वस्‍थ आहार और तरल पदार्थ जैसे सूप भी कोल्‍ड के लक्षणों और सूजन को तेजी से कम करने आपकी मदद करते है।
    Image Source : Getty

    मिथ 3: चिकन सूप कोल्‍ड को जल्‍द ठीक करता है।
  • 5

    मिथ 4: मानसून में आइसक्रीम खाना सर्दी और खांसी का कारण बनता है।

    तथ्‍य : खांसी और सर्दी मुख्य रूप से वायरल या बैक्टीरियल संक्रमण के कारण होती है। अधिकांश आइसक्रीम को पॉश्चरीकृत से गुजरना पड़ता है जो बीमारी पैदा करने वाले बैक्टीरिया के गठन रोकता है। लेकिन अगर आइस‍क्रीम गंदी या प्रसंस्‍कृत अवस्‍था में बनती है, तो सूक्ष्‍म जीवों के कारण कुछ संक्रमण हो सकते हैं। मानसून में ठंडे उत्‍पादों का सेवन आपको तब तक नुकसान नहीं पहुंचा जबतक उनमें रोगाणु नहीं होते। मानसून में आइसक्रीम मजेदार हो सकती है लेकिन सतर्क न रहने पर आप बीमार पड़ सकते हैं।
    Image Source : Getty

    मिथ 4: मानसून में आइसक्रीम खाना सर्दी और खांसी का कारण बनता है।
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK