बरसात में बचकर रहें इन खतरनाक जीवों से

बरसात अपने साथ स्वस्थ वातावरण और ठंडक लाती है जो गर्मी की गर्माहट को दूर कर देती है। लेकिन बारिश के नुकसान भी हैं। बारिश में ऐसे कई जीव निकलने लगते हैं जिनसे हमारे स्वास्थ्य को बहुत अधिक नुकसान पहुंचता है। इनके बारे में सही जानकारी इन जीवों से बचने का एकमात्र तरीका है।

Gayatree Verma
Written by: Gayatree Verma Published at: Jul 11, 2016

सांप है खतरनाक जीव

सांप है खतरनाक जीव
1/5

सांप से जुड़े खतरे के बारे में तो हर किसी को मालुम होगा। सांप अधिकतर बारिश के दौरान ही अपने बिल से बाहर निकलना शुरू करते हैं। ऐसे में बारिश में जितना हो सके सावधानी बरते और मैदान के सामने लगने वाले खिड़की-दरवाजों को बंद रखें। अगर कभी सांप काट भी ले तो उस स्थिती में मरीज के काटे हुए स्थान पर कपड़ा बांध दे जिससे जहर फैले नहीं। फिर मरीज को तत्काल अस्पताल पहुंचाएं। यदि हाथ में सांप ने काटा है तो हाथ को नीचे की ओर लटकाकर रखें जिससे कि जहर दिल तक पहुंचने में वक्त लगाए और मरीज अस्पताल पहुंच जाए। सांप के काटने पर मरीज को बिल्कुल भी शारीरिक काम ना करने दें।

जहरीले बिच्छू

जहरीले बिच्छू
2/5

बारिश के दौरान बिच्छु काफी निकलते हैं। भले ही बिच्छू के काटने पर मरीज की मृत्यु होने के आसार सांप के काटने की तुलना में कम होते हैं लेकिन ये सांप से ज्यादा खतरनाक होते हैं क्योंकि इसका दंश बहुत ज्यादा तेज और दर्दनाक होता है। बिच्छु के काटने पर मरीज को सुविधाजनक स्थिति में बिस्तर में लेटा दें और आराम करने दें। उसे शारीरिक काम बिल्कुल भी ना करने दें। फिर दंश के स्थान को अच्छी तरह से एंटीबायोटिक साल्यूशन या साबुन से धो लें। अब डंक वाली जगह पर लोहे के चाकू या चिमटे को गर्म कर सेंक दें। मरीज को आराम मिलेगा।

घरेलू मक्खी

घरेलू मक्खी
3/5

बरसात के दौरान सबसे अधिक बीमारी फैलाने का कारण बनती है काली-घरेलू मक्खी जो बरसात में सबसे अधिक गंदगी फैलाने का कारण बनती है। ये गंदगी फैलाने वाली मक्खी बरसात के सब जीवों में सबसे अधिक घातक हो सकती है क्योंकि इसके छोटे से शरीर पर 10 लाख से भी अधिक कीटाणु मौजूद होते हैं। यह कीटाणु भोजन को संक्रमित कर इंसान को हैजा, पीलिया, उल्टियां या दस्त की बीमारियां लगवा देते हैं। इसलिए बरसात में हमेशा भोजन को ढंककर रखें।

बिस्तर में काटता खटमल

बिस्तर में काटता खटमल
4/5

वैसे तो आजकल खटमल कम देखने को मिलते हैं लेकिन आज भी ये खटिया और गंदे बिस्तर में सहज रुप से दिखाई दे जाते हैं। खासकर तो छोटे शहरों और ग्रामीण इलाकों में ये अधिक देखने को मिलते हैं। कई बार ये पुराने होटलों, ढाबों या पुराने अपार्टमेंट व कॉम्पलेक्सेस में भी पाए जाते हैं। यहीं तक की पुरानी ट्रेनों या बसों की सीटों में भी खटमल पाए जाते हैं जो सफर के दौरान काफी परेशान करते हैं। इनके काटने से बुखार हो जाता है।

गंदगी फैलाता कॉकरोच

गंदगी फैलाता कॉकरोच
5/5

कॉकरोच केवल दिखने में ही गंदे नहीं होते बल्कि ये साथ में घरों में भी काफी गंदगी फैलाते हैं और लोगों की बीमारी का कारण बनते हैं। बरसात की गंदगी के अलावा कॉकरोच साल्मोनेला नामक संक्रमण भी साथ लेकर आते हैं। क्योंकि कॉकरोच मल की नालियों से निकलकर सीधे आपके खुले रखे खाने और भोज्य पदार्थ में चलने लगते हैं। जिससे इनके पैरों की गंदगी भोजन सामग्री में पहुंच जाती है और बीमारी का कारण बनती है। कॉकरोच मरने पर भी पीछा नहीं छोड़ते। इनके मृत शरीर के एलर्जिक रिएक्शन तक होती देखी गई है।

Disclaimer